टाटा स्टील ओएमक्यू डिवीजन ने जीता एनर्जी ऐंड इन्वायर्नमेंट फाउंडेशन ग्लोबल वाटर कंजरवेशन अवार्ड 2018


संतोष वर्मा। 2018 : ओएमक्यू (ओर, माइंस ऐंड क्वैरीज) डिवीजन, टाटा स्टील को नई दिल्ली आज में आयोजित विश्व जल शिखर सम्मेलन 2018 के दौरान प्लैटिनम श्रेणी ’एनर्जी ऐंड इन्वायर्नमेंट फाउंडेशन ग्लोबल वाटर कंजरवेशन अवार्ड ’ से सम्मानित किया गया। कंपनी की ओर से श्री राहुल किशोर, हेड, माइनिंग ऑपरेशन, काटामाटी आयरन माइन, ओएमक्यू डिवीजन, टाटा स्टील ने श्री उपेंद्र प्रसाद सिंह, सचिव, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय, भारत सरकार से यह अवार्ड ग्रहण किया। 

यह पुरस्कार विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में भारतीय उद्योगों द्वारा जल संरक्षण और प्रबंधन के भरोसेमंद अभ्यासों तथा नवोन्वेशणों को सम्मानित व पुरस्कृत करता है। उत्कृष्ट संगठनों को चिन्हित व सम्मानित करने के लिए एनर्जी ऐंड इन्वायर्नमेंट फाउंडेशन द्वारा ग्लोबल वाटर कंजरवेशन अवार्ड  वैश्विक जल संरक्षण पुरस्कार दिया जाता है। इस पुरस्कार का लक्ष्य पूरे विश्व में जिम्मेदार व्यापारिक आंदोलन को प्रोत्साहित करना और जश्न करना है। टाटा स्टील की पर्यावरण नीति प्राकृतिक संसाधनों, ऊर्जा, अपशिष्ट से बचाव और पुनर्चक्रण उपायों के कुशल उपयोग पर जोर देती है।

पुरस्कार पर हर्ष प्रकट करते हुए श्री पंकज सतीजा, जीएम, (ओएमक्यू), टाटा स्टील ने कहा, “हमने टाटा स्टील में अपनी सभी प्रक्रियाओं में जल के पुनःपरिसंचरण पर बल के साथ जल के उपयोग को इष्टतम करने के लिए उचित प्रणालियों को नियोजित किया है। हम बड़े पैमाने पर वर्षा जल संचयन परियोजनाओं, जल की पुनःप्राप्ति और पुनर्चक्रण (रीसाइक्लिंग), खानों में जल स्रोतों की सुरक्षा और शून्य जल निर्वहन जैसे कुछ उपायों के माध्यम से जल संरक्षण कर रहे हैं। हम जल की उपलब्धता व संवहनीय प्रबंधन सुनिश्चित करने की दिशा में तेजी से प्रगति कर रहे हैं। इसके अलावा, सभी एसडीजी की स्वच्छता और मल्टीपल एसडीजी की उपलब्धियों में योगदान भी दे रहे हैं, जो हमारी धरती के जल स्रोतों के विकास व पर्याप्त प्रबंधन पर निर्भर करता है।“

एनर्जी ऐंड इन्वायर्नमेंट फाउंडेशन एक गैर-लाभकारी, गैर-राजनीतिक, गैर-सरकारी संगठन है। यह ऊर्जा और पर्यावरण से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए दुनिया भर से सरकारी, औद्योगिक, अकादमिक और अनुसंधान संस्थानों को एक मंच में लाने का काम करता है।