हुसैनाबाद में बालू तस्करी पर प्रशासन हुआ शख्त, खनन निरीक्षक ने छह तस्करों,जमीन मालिक समेत वाहन चालक व मालिक पर की प्राथमिकी

            

पलामू- जपला-डेहरी ऑन सोन मुख्य पथ स्थित इमलियाबांध गांव के समीप अवैध बालू डंप कर उसकी तस्करी का मामला सामने आया है। इस संबंध में हुसैनाबाद के एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि पलामू के उपायुक्त को बालू तस्करी के संबंध में गुप्त सूचना मिली थी। अनुमंडल पदाधिकारी कुंदन कुमार के नेतृत्व में बुधुआ, चिरईयांखांड व इमलियाबांध में छापामारी की गई। छापामारी में बुधवा गांव के राम चबूतरा मंदिर की जमीन व प्रमोद राम की जमीन पर अवैध बालू डंपिंग किया मिला। जबकि चिरईयांखांड में विजेंद्र सिंह की जमीन व झरहा गांव के कुंदन सिंह की जमीन पर बालू इकट्ठा पाया गया। छापामारी के दौरान इमलियाबांध स्थान से अवैध रुप से डंप किया गया 21हजार सीएफटी बालू व उस स्थान से 12 ट्रक ,चार ट्रैक्टर एक जेसीबी जप्त किया गया। उन्होंने बताया कि पुलिस को आता देख सभी वाहनो के चालक फरार हो गये। जप्त वाहनों में एक पर बालू भी लदा पाया गया है। अन्य वाहन बालू लोड करने के लिए कतार में खड़े थे। उन्होंने बताया कि इस संबंध में जिला के खनन निरीक्षक लक्षमी चैधरी के लिखित आवेदन के आधार पर हुसैनाबाद थाना में प्राथमिकी दर्ज करा दिया गया है। कांड संख्या 72/2018 में धारा 379,411,414,34 भादवि एवं 15 इंभारमेंट प्रोटेक्शन एक्ट एवं 4/54 जेएमएमसी रुल 2004 एवं 6/7 झारखंड मिनरल्स रुल्स 2007 के तहत बालू तस्कर नंदा सिंह, अखिलेश सिंह, विजय सिंह, विनय सिंह, माणिक सिंह, राजेश सिंह के अलावा जमीन मालिक, ट्रक व ट्रैक्टर के चालक व मालिक व जेसीबी के चालक व मालिक के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस अनुसंधान में जुट गई है। इस कार्रवाई से बालू का अवैध कारोबार करने वालों में हड़कंप है।