भारत बंद का हुसैनाबाद में भी रहा असर , ब्ंद समर्थकों ने रेल रोकने का किया प्रयास

             

हुसैनाबाद, पलामूः-

एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में भारत बंद का असर हुसैनाबाद, मोहम्मदगंज व हैदरनगर में भी रहा। बंद समर्थकों ने बाइक जुलूस निकाल कर बाजार बंद कराये। बंद समर्थकों ने मोहम्मदगंज-जपला मुख्य पथ को हैदरनगर रेलवे गुमटी के समीप व जेपी चैक हुसैनाबाद के समीप सामियाना लगाकर धरना दिया। इससे मुख्य सड़क पर आवागमन ठप्प रहा। आनदोलनकारियों ने इंटर के गणित विषय की परीक्षा में शामिल होने हुसैनाबाद जाने वाले परीक्षार्थियों को भी मुख्य मार्ग से नहीं जाने दिया। परीक्षार्थियों को काफी परेशानियां हुई। प्राईवेट स्कूल की बसों को भी रोका। प्रशासन ने बसों को दूसरे रास्ते गंतव्य तक भेजा। दलित संगठनों के इस बंद का असर बाजार के अलावा सड़कों पर अधिक देखा गया। बंद समर्थकों ने हैदरनगर में बरकाखाना-वाराणसी पैसेंजर ट्रेन को भी रोकने का प्रयास किया। मौके पर स्थानीय पुलिस ने पहुंचकर आनदोलन कारियों को हटा दिया। दलित संगठनों के बंद का नेतृत्व पूर्व मुखिया जितेंद्र पासवान, राजद के अनुमंडल अध्यक्ष कलामुद्दीन खां आदि ने किया। उन्होंने मोदी सरकार पर दलितों के साथ भेद भाव के आरोप लगाये। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार भारत के संविधान के साथ छेड़ छाड़ कर रही है। इसे किसी कीमत पर बर्दाष्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने पीएम का पुतला भी जलाया। बंद के मद्देनजर हुसैनाबाद थाना प्रभारी रास बिहारी लाल, हैदरनगर थाना प्रभारी राकेश कुमार सिंह, एएसआइ सुनील त्रिपाठी, योगेंद्र प्रसाद, अजय कुमार, मो. कादिर अंसारी के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस के जवान मुस्तैद रहे।बंद शांति पूर्ण संपन्न होने पर पुलिसकर्मियों ने राहत की सांस ली है।