पलामू- टीकाकरण के बाद बिगड़ी बच्चों की हालत, एक-एक कर चार की मौत, चार गंभीर , मुख्यमंत्री ने चिंता जताइ, मरने वाले बच्चों के परिजनो को एक एक लाख देने की घोष्णा



पलामू जिले के पाटन प्रखंड अंतर्गत लोइंगा गांव में विभिन्न बीमारियों से बचाव के लिए बच्चों को लगाया गया टीका उनकी मौत का कारण बन गया। एक-एक कर चार  मासूमों की मौत हो गयी, जबकि चार  बच्चे जीवन और मौत से जूझ रहे हैं। उन्हें बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। घटना के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए हैं और एएनएम को बंधक बना लिया है। 


जानकारी के अनुसार एक दिन पूर्व लोइंगा गांव के आठ मासूमों को विभिन्न जानलेवा बीमारियों से बचाव के लिए कई तरह के टीके लगाए गए थे। शनिवार की रात उनकी स्थिति बिगड़ने लगी और एक-एक करके चार  की मौत हो गयी, जबकि चार  गंभीर हो गए। आनन-फानन में पहले उन्हें पाटन स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया, लेकिन स्थिति चिंताजनक होने के कारण बेहतर इलाज के लिए डालटनगंज सदर अस्पताल भेज दिया।


घटना के बाद स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया है। डीपीएम प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि पाटन में रोटा वायरस वैक्सीन की खेप अभी तक नहीं पहुंचायी गयी थी। बच्चों को कौन सा टीका दिया गया, इसकी जांच के लिए पाटन स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी और प्रखंड बीपीएम को घटना की जांच के लिए भेजा गया है। जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पायेगी। 


इधर, घटना की सूचना मिलने पर छत्तरपुर विधायक राधाकृष्ण किशोर लोइंगा पहुंच गए हैं। उनकी पीड़ितों से वार्ता हो रही है। विधायक ने कहा कि बच्चों की मौत के जिम्मेवार जो भी होंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। चूक कहां से हुई इसकी जांच करायी जायेगी। 


उधर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने भी ट्वीट कर पलामू जिले के पाटन प्रखंड के लोइंगा में चार  बच्चों की हुई मौत पर गहरी चिंता जताते हुए जांच का आदेश दिया है। जांच में दोषी पाए जाने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की बातें कही है। पलामू में रहने के बावजूद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने पाटन या सदर अस्पताल जाने की जहमत गवारा नहीं की.

PALAMU SE NAGENDRA SHARMA