हैदरनगर हुआ पूरी तरह कैश लेस,10 दिनों से ब्रांच से नही मिल रहा है पैसा

बैंक में लटक रहा है ताला, कैसे होगी बेटियों की षादी
 एसबीआइ षाखा में लटका ताला, खड़े ग्राहक




हुसैनाबाद,पलामूः-

अनुमंडल के हैदरनगर प्रखंड मुख्यालय में बैंक के नाम पर एसबीआइ की एक षाखा मात्र है। जिसमें नब्बे हजार से अधिक खाताधारक हैं। उक्त बैंक की स्थिति नोटबंदी के समय से ही डामाडोल चल रही है। अक्सर ग्राहकों को उनका जमा पैसा समय पर नहीं मिल पा रहा है। षादी ब्याह का मौसम चल रहा है। लोगों ने अपनी बेटी -बेटे की षादी के लिए बैंक में रकम जमा किया था। अब उनका समय आया तो रकम नहीं मिल रही है। बैंक प्रबंधक कैरा पूर्ति का कहना है कि मार्केट से कैष जमा नही ंके बराबर हो रहा है। बाहर से राषि नहीं मिल रही है। इस स्थिति में फिल्हाल कैष उपलब्ध कराना संभव नहीं है। 2 अप्रैल को भारत बंद में बैंक बंद रहा, उसके बाद से कुछ लोगों को पांच दस हजार की निकाषी की गई, सोमवार को कथित भारत बंद की वजह से बैंक की षाखा बंद रखा गया। मंगलवार को बैंक की षाखा कैष के अभाव में बंद कर दी गई। आम लोग अपना पैसा रखकर भी परेषान हैं। कुछ लोगों ने बताया कि षाखा प्रबंधक से खाते से राषि ट्ास्फर करने को भी कहते हैं,तो वह नहीं कर पा रहे हैं। लोगों ने बताया कि उनके सामने गंभीर समस्या खड़ी हो गई है। वह अपने बच्चों की षादी ब्याह के अलावा इलाज कैसे करायें। हुसैनाबाद व मोहम्मदगंज में भी एसबीआइ की षाखा का यही हाल है।एटीएम सेवा भी बिलकुल बंद कर दी गई है। खाताधारी जाये ंतो जायें कहां। इस स्थिति से खाताधारी काफी गुस्से में हैं। 

E