बज्रपात से दो की मौत, दो घायल



कोई जलावन के लिए जंगल से बैलगाड़ी पर लकड़ी लेकर लौट रहा था तो कोई ब्रहमपुर में जमीन की नापी कर रहे थे


संविदा पर बहाल अमीन मनोज नायक व गांव का डकुवा हुआ घायल तो पूर्णोचंद नायक की घटना स्थल पर ही हो गई मौत


जगन्नाथपुर प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने लिया जायजा, मृतकों को आपदा योजना से मिलेगी चार चार लाख रूपया मुआबजा, प्रर्किया हुई शुरू


भास्कर न्युज जगन्नाथपुर। जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय के जैंतगढ़ व मोंगरा पंचायत के लिए गुरूवार का दिन हादसों भरा रहा. गुरूवार को मोंगरा पंचायत के हेस्सापी गांव टोला जंगलवासा निवासी कृष्ण बिरूली का 27 वर्षिय पुत्र बाबुलाल बिरूली की मौत अकाशीय बज्रपात के चपेट में आने से काकुईता चौक स्थित हो गई.जबकी जैंतगढ़ पंचायत के ब्रहमपुर गांव में संविदा के अधार पर बहाल जगन्नाथपुर प्रखंड व नोवामुण्डी प्रखंड के अमीन मनोज नायक अपने पिता पूर्णोचंद नायक के साथ दिनबंधु महतो का जमीन नापी करने गया था इसी क्रम में पुर्णोचंद नायक के उपर बिजली की रेशा गिर जाने के कारण मौत हो गई.जबकी पुत्र मनोज नायक गंभीर रूप से घायल हो गये, साथ ही ब्रहमपुर गांव का डकुवा लागो लागुरी भी घायल हो गये.इधर दोनो घायल को चंपुआ अस्पताल ले जाया गया जहां से मनोज नायक को क्योंझर अस्पताल बेहतर इलाज के लिए भेज दिया गया.और मनोज नायक का इलाज चंपुआ अस्पताल में चल रही है.वहीं जगन्नाथपुर पुलिस घटना स्थल पहुंच कर मामले की जायजा लिये और शव का अंतपरिक्षण के लिए बाबुलाल बिरूली का शव सदर अस्पताल चाईबासा भेज दिया गया.जबकी पूर्व अमीन पुर्णोचंद नायक के शव का पोस्मार्टम चंपुआ अस्पताल में ही करा दिया गया.

ज्ञांत हो कि मोंगरा पंचायत के हेस्सापी गांव टोला जंगलबासा निवासी बाबुलाल बिरूली अपने चार साथियों के साथ जंगल जाने के लिए सुबह आठ बजे घर से निकला था.और जलावन की लकड़ी लेकर मृतक बाबुलाल बिरूली अपने साथियों के साथ बैलगाड़ी पर सवार होकर घर वापस लौट रहें थे.उसी दौरान काकुईता चौक के पास ही अचानक कड़ाकेदार बज्रपात हुई जिससे वह बेहोश हो गया और दाहिना कान से खुन निकलने लगा.वही अन्य साथियों नें बैलगाड़ी से कुद कर जान बचाया. बज्रपात के चपेट में बैलगाड़ी के एक भैंस भी आ गई जिससे घटना स्थल पर ही भैंस का मौत हो गया.इधर मृतक बिरूली की हालत देख कर जब मोंगरा पंचायत के पंचायत समिति सदस्य लंकेश कुछ युवक के साथ जगन्नाथपुर सिएचसी लाया गया इलाज के लिए तो डॉ पंकज कुमार महतो ने मृत घोषित कर दिया. मृतक बाबुलाल बिरूली के पत्नी वीरा बिरुली व दो बच्ची अपने घर से बाहर गई हुई है. दुसरी ओर जगन्नाथपुर निवासी पूर्णोचंद नायक व संविदा पर बहाल अमीन पुत्र मनोज नायक घर से सुबह ही जैंतगढ़ के ब्रहमपुर गांव में दिनबंधु महतो के यहां जमीन नापी के लिए गये हुए थे.वहीं जमीन नापी का काम मृतक पूर्णोचंद नायक तथा पुत्र मनोज नायक जमीन नाप ही रहा था कि मौके पर ही बिजली का तार जैसा बज्र सिधा मृतक के शरीर पर गिरा जिसके कारण मृतक का कपड़ा का छितड़ा छितड़ा हो गया और घटना स्थल पर ही मौत हो गई.बाद में ग्रामीणों ने घायल प्राईवेट अमीन मनोज नायक और ग्रामीण डकुवा लागो लागुरी को चंपुवा अस्पताल ले गये.वहीं जगन्नाथपुर पुलिस को घटना की सुचना मिली तो पहुंच कर मामला का जायजा लिया गया और कार्रवाई की.इधर मामले की जानकारी मिलने पर जगन्नाथपुर प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी रामनारायण खालको अपने कर्मचारियों के साथ घटना स्थल पहुंच कर मृतकों का आपदा लाभ मिलने वाली सभी प्रर्किया को पुरा करते हुए मामले की जांच किये. इधर श्री खालखो ने बताकी सरकारी प्रावधान के अनुसार बज्रपात से मरने वाले वेक्ति को चार चार लाख रूपया तथा घायल को डॉक्टर प्रमाण पर मुआवजा दी जायेगी.घटना के बाद जगन्नाथपुर सिएचसी में मोंगरा मुखिया शिशिर सिंकु सहित काफी संख्या में ग्रामीण पहुंचे.ज्ञांत हो कि जगन्नाथपुर सिएचसी के डॉक्टर द्वारा मृतक का शव बगैर पुलिस को सूचना दीये ही घर वापस भेज दिया.जबकी पुलिसिया कार्रवाई के बाद ही शव को परिजन कौ सौंपने का प्रावधान है.इस मामले के लेकर जहां ग्रामीणों में आक्रोश ब्याप्त रहा वहीं जगन्नाथपुर पुलिस भी नाराज रहे..