खूंटी पुलिस ने विनीता हत्याकांड का 72 घंटे में किया उद्घाटन

विनीता हत्याकांड में संलिप्त अपराध कर्मी का हुआ खुलासा । खूंटी पुलिस ने टीम गठित कर दो अपराधियों को पकड़ा 

खूँटी (हि.स.) : खूंँटी पुलिस ने अरगोड़ा की रहने वाली विनीता तिर्की उर्फ अंजली हत्याकांड का  खुलासा कर लिया है। खूंँटी डीएसपी आशीष महली के साथ एसआईटी के टीम की 72 घंटों के अंदर विनीता के मर्डर में संलिप्त अपराध कर्मियों को खोज निकाला। विनीता की हत्या में 3 लोग शामिल थे। जिसमें हत्या के दो आरोपियों को खूंटी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है । जबकि एक अन्य अभियुक्त अभी फरार हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है ।

      पुलिस के अनुसार, विनीता तिर्की की हत्या पैसों के लेनदेन को लेकर हुई ‌। गिरफ्तार लोगों में एक चर्च रोड कलाल टोली निवासी फिरदोष रसीद पिता हारुण रसीद और दूसरा एक महिला अपराध कर्मी है । जिसके साथ एक अल्टो 800 कार, मृतिका के जेवरातों में सोना का चैन सोने के लॉकेट चांदी की अंगूठी और विवो मोबाइल भी मिला है। साथ ही इन दोनों के पास से 5 मोबाइल फोन भी मिले हैं । अपराधी फिरदोष रशीद और महिला अपराध कर्मी अपना  जुर्म कबूल कर लिए हैं। पहले महिला अपराध कर्मी को 29 दिसंबर को गिरफ्तार किए जाने के बाद उसने हत्या में संलिप्त दोस्त का नाम बताया । जिससे फिरदोष  का नाम आया ‌। फिरदोष के पकड़े जाने के बाद उसने भी अपना जुर्म कबूल किया । फिरदोष ने बताया कि वह जुआ खेलकर पैसों के साथ घर के गहने भी जुए में हार गया। कर्ज में डूब जाने के बाद उसने विनीता से पैसे की मांग की और जिससे आनाकानी करने पर विनीता उर्फ अंजलि को  लोगों के साथ मिलकर उसे पैसे लूटने और छीनने के लिए 25 दिसंबर की रात्रि गला घोंट कर उसका गला घोट कर हत्या कर दी । और लाश को छिपाने के लिए तिरिल गांव के जंगली क्षेत्र में ले जाकर उसे सबूत मिटाने के लिए जला दिया । आगे उसने बताया कि हत्या के बाद उसके पैसे और गहने ले लिये ।