उपायुक्त ने मुख्य समारोह में किया राष्ट्रीय ध्वजारोहण

पुलिस लाइन स्टेडियम में आयोजित हुआ गणतंत्र दिवस का मुख्य राजकीय समारोह

गणतंत्र दिवस के अवसर पर 26 जनवरी 2020 को  पुलिस लाइन स्टेडियम में मुख्य समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में उपायुक्त-सह-जिला दंडाधिकारी डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने राष्ट्रीय ध्वजारोहण किया और संयुक्त परेड की सलामी ली। साथ में पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा भी थे। मुख्य समारोह के बाद प्रमंडलीय आयुक्त कार्यालय, समाहरणालय, पलामू क्लब और रेड क्रास सोसाईटी में भी उपायुक्त ने ध्वजारोहण किया। 

उन्होंने राष्ट्र के 71 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पलामू वासियों का अभिनंदन करते हुए उन्हें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं एवं बधाई दी। उन्होंने परमवीर चक्र विजेता शहीद अल्बर्ट एक्का, भगवान बिरसा मुंडा,  नीलांबर-पितांबर सहित अन्य शहीद वीर सपूतों को नमन करते हुए, उन्होने कहा कि जिला प्रशासन एवं समस्त प्रशासनिक तंत्र जिले के खुशहाली एवं समग्र विकास के लिए सदैव दिन रात प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा प्राप्त निर्देश के आलोक में विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सुगमता से उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ’सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत जिले के प्रखंड एवं पंचायत मुख्यालय में शिविर का आयोजन कर सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में लंबित दावे के परिपेक्ष्य में पात्र लाभुकों को योजना का लाभ दिलाने तथा तत्संबंधी त्वरित भुगतान हेतु कार्रवाई की जा रही है। 

उपायुक्त ने अपने संबोधन में पलामू जिले में विभिन्न क्षेत्रों में हुई उपलब्धियों को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार जिले के विभिन्न रिक्त पदों पर नियुक्ति की जा रही है। मनरेगा,सेविका-सहायिका,चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। उन्होंने कहा कि जस्विनी परियोजना अंतर्गत पलामू जिले में 1256 क्लब का गठन किया गया है। इन क्लबों में 65391 किशोरी बालिकाओं एवं युवा महिलाओं को पंजीकरण किया गया है। इसी प्रकार मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अंतर्गत 631 लाभुकों को लाभान्वित किया गया है। 

उपायुक्त ने कहा कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के अंतर्गत 8 प्रकार की पेंशन योजनाएं संचालित है। इसमें इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय दिव्यांग पेंशन योजना, मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना, मुख्यमंत्री राज्य विधवा सम्मान पेंशन योजना, मुख्यमंत्री राज्य आदिम जनजाति पेंशन योजना, मुख्यमंत्री राज्य एचआईवी/एड्स पीड़ित व्यक्ति सहायतार्थ पेंशन योजना एवं स्वामी विवेकानंद स्वावलंबन प्रोत्साहन योजना शामिल हैं। इन योजनाओं का लाभ लाभुकों को डीबीटी के माध्यम से दिया जा रहा है। 

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के 1339 लाभुकों को पेंशन का लाभ दिया जा रहा है। वहीं मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत 5984 लाभुकों को लाभ दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री राज्य आदिम जनजाति पेंशन योजना आदिम जनजाति परिवार की व्यस्क विवाहित महिला के लिए है। इस योजना के तहत 277 लाभुकों को लाभ मिल रहा है।  स्वामी विवेकानंद निशक्तः स्वावलंबन प्रोत्साहन योजना के तहत 7850 लाभुकों को लाभ दिया जा रहा है। उपायुक्त ने कहा कि पेंशन योजनाओं के अंतर्गत प्रत्येक पेंशनधारी को प्रतिमाह 1000 आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाती है। पलामू जिला अंतर्गत 159601 पेंशनधारी है तथा 99. 9 प्रतिशत का भुगतान डीबीटी के माध्यम से किया जा रहा है। 

उपायुक्त ने कहा कि इस वर्ष गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करने वाले लोगों के बीच 66168 कंबल का वितरण किया गया है, जो पिछले वर्ष से 6000 अधिक है। 

उन्होंने राजस्व मामलों की चर्चा करते हुए कहा कि पलामू जिले में दाखिल खारिज का कार्य झारभूमि पोर्टल के माध्यम से पूर्णतः ऑनलाइन हो चुका है। 2019-20 में अबतक पलामू जिले में दाखिल खारिज के कुल 22036 आवेदन आए हैं, जिसमें 20,332 आवेदनों का समय निष्पादन किया जा चुका है। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत वित्तीय वर्ष 2016-17 से अबतक स्वीकृत आवासों में 52987 इकाई आवास पूर्ण हो गया है। इसके अलावा बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर आवास योजना के तहत जिले में 1280 विधवा महिलाओं एवं प्राकृतिक आपदा से प्रभावित लाभुकों को आवास स्वीकृत किया गया है। जिसमें 601 आवास पूर्ण हो गया है। 

  • 2775 नए सखी मंडलों का हुआ निर्माणः

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत जिले में इस वर्ष 2775 नए सखी मंडलों का निर्माण करते हुए अबतक 16 282 सखी मंडलों का निर्माण किया गया है। उन्हें 1. 97 लाख घरों को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन से जोड़कर अनेक आजीविका संवर्धन का कार्य वृहत स्तर पर चलाया जा रहा है। 285 समूहों के मध्य 1.27 करोड़ चक्रीय एवं सूक्ष्म निवेश ऋण के रूप में वितरण किया गया है।

जोहार परियोजना अंतर्गत 64 उत्पादक संघों का निर्माण कर उनके बीच 1. 46 करोड़ रुपए निर्गत कर दी गयी है। वृहद स्तर पर बकरी पालन, लाह उत्पादन, तुलसी, मुनगा एवं लेमनग्रास खेती पर बढ़ावा देते हुए किसानों का अलग-अलग गतिविधियों से जोड़ा जा रहा है। दीनदयाल उपाध्याय रोजगार योजना के अंतर्गत 3834 युवक एवं युवतियों को चिन्हित कर उन्हें विभिन्न प्रशिक्षण एवं रोजगार से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। अब तक 260 लोगों को प्रशिक्षण उपरांत विभिन्न कंपनियों में रोजगार उपलब्ध कराए जा चुके हैं। 

पलामू जिले में अबतक 145 परियोजनाओं के निर्माण हेतु 489. 57 एकड़ भूमि की निशुल्क अंतर विभागीय स्थानांतरण की स्वीकृति प्रदान की गई है। कनहर बराज योजना तथा बटाने  जलाशय योजना अंतर्गत भूमि का निशुल्क स्थानांतरण किया गया है। इसके अलावा नावा बाजार अंचल के करकटा, देवडर एवं सतबहिनी में 5 स्वास्थ्य उपकेंद्र का निर्माण हेतु निशुल्क भूमि हस्तांतरण की स्वीकृति प्रदान की गई है। 

उन्होंने कहा कि पलामू जिले के 21 टाना भगत परिवारों को लाभ दिया जा रहा है। इन परिवारों का पशु शेड निर्माण कार्य पूर्ण कराकर 21 टाना भगत परिवारों को दो-दो गाय भौतिक रूप से प्रदान की गई है। इसके अलावा खेती के लिए बीज भी उपलब्ध कराये गये हैं। उन्होंने कहा कि पलामू में प्राकृतिक आपदा वज्रपात से 22 एवं अग्निकांड से 16 प्रभावित व्यक्तियों को अनुदान राशि दी गयी है। वहीं सतबरवा अंचल अंतर्गत 12 ग्राम प्रधानों को प्रत्येक माह नियमित रूप से 2000 प्रति माह की दर से सम्मान राशि का भुगतान डीबीटी के माध्यम से किया गया है। 

उपायुक्त ने अपने संबोधन में कहा कि पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल का पहला सेशन शुरू हो चुका है। पहले बैच में 97 बच्चे यहां पढ़ाई कर रहे हैं।  स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने हेतु लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस वित्तीय वर्ष में 31 598 गर्भवती महिला का संस्थागत प्रसव कराया गया तथा 4.41 लाख की प्रोत्साहन राशि वितरित की गई। जिले में कुपोषण की समस्या दूर करने के लिए तीन कुपोषण उपचार केंद्र खोले गए हैं। जहां बच्चों के कुपोषण के इलाज के साथ-साथ उनके परिवार को 1500 की प्रोत्साहन राशि 15 दिन रहने के लिए दी जाती है। जिले के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में छोटे-छोटे नवजात के इलाज के लिए एसएनसीयू की स्थापना की गई है। वहीं एएनएम और जीएनएम कॉलेज कार्यरत है, जहां से पढ़ाई कर छात्राएं स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपना भविष्य बना रही हैं। 

विशेष केंद्रीय सहायता योजना के अंतर्गत अबतक 18.64 करोड़ की 36 योजना का कार्यान्वयन कराया जा रहा है। जिससे 19 किलोमीटर पथ एवं 275 मीटर पुल का निर्माण होगा।  उपायुक्त ने कहा कि बिश्रामपुर पांडू एवं उंटारी रोड प्रखंड के 200 सहियाओं को आरोग्य सहिया के तहत प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है। 

भीम चुल्हा व मोहम्मदगंज पर्यटन के क्षेत्र में होगा विकसितः

उपायुक्त ने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में भी बेहतर कार्य हो रहे हैं। कोयल रिवर व्यू, मेदनीनगर का 82.68 लाख की स्वीकृति दी गयी है। इसके अलावा भीम चूल्हा, मोहम्मदगंज में पर्यटक के विकास हेतु डीपीआर तैयार कर लिया गया है। 

कौशल विकास योजना के तहत बेरोजगार युवक-युवतियों को कुशल एवं दक्ष बनाने का कार्य हो रहा है। वहीं ई विद्या वाहिनी के माध्यम से विद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था का अनुश्रवण नियमित किया जा रहा है। ई विद्या वाहिनी के अंतर्गत ज्ञान सेतु कार्यक्रम के तहत पलामू जिला से 18 विद्यालयों को कास्य प्रमाणीकरण पदक से राज्य स्तर द्वारा पुरस्कृत किया गया है। 

उपायुक्त ने कहा कि कृषि सिंचाई योजना अंतर्गत 90 प्रतिशत अनुदान पर किसानों के खेतों में टपक सिंचाई प्रणाली एवं स्प्रींकर सिस्टम का अधिष्ठापन कराया जा रहा है। इस योजना से वर्तमान वर्ष में 519 किसानों के खेतों में लगभग 395 हेक्टेयर में अधिष्ठापन कराया जा रहा है। कृषि विभाग की ओर से सभी प्रखंडों में सिंगल विंडो सेंटर चलाया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि जिले में अबतक 14643 डोभा का निर्माण कराया गया है। 110 आंगनबाड़ी केंद्र भवन का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया है। इसके अतिरिक्त बिरसा मुंडा आम बागवानी मिशन हेतु जिले के सभी प्रखंडों में 124 एकड़ में फलदार आम के वृक्ष लगाए गए हैं। 

  • शहर का हो रहा विकासः

उपायुक्त ने कहा कि शहर के सड़कों का चौड़ीकरण एवं सुंदरीकरण हेतु 262 करोड रुपए की लागत से योजना का निर्माण किया जाएगा। तालाब का गहरीकरण एवं सौंदर्यीकरण, गांधी मैदान का सुंदरीकरण तथा टैक्सी स्टैंड का निर्माण हेतु 633 लाख रुपए की निविदा निष्पादित की गई है। उपायुक्त ने कहा कि पलामू में दो आश्रय गृह का निर्माण कराया गया है। वहीं सामुदायिक शौचालय, वार्ड विकास केंद्र का निर्माण कराया जा रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत पलामू में 1626 आवास का निर्माण कार्य पूर्ण कराया जा चुका है।