खूँटी//71 वें गणतंत्र दिवस के मंच से जिले के 2019 20 पर विकास कार्य में हुए खर्च एवं उपलब्धि का दिया बेवरा उपायुक्त ने

ग्रामीण विकास, भवन निर्माण विभाग, पथ निर्माण विभाग , स्वास्थ्य विभाग, सहित जिले में विकास कार्यों में लगे योजनाबद्ध हुआ है विकास

ग्रामीण विकास भवन निर्माण विभाग पथ निर्माण विभाग स्वास्थ्य विभाग सहित जिले में विकास कार्यों में लगे योजनाबद्ध विकास

खूँटी(26जन.)- ग्रामीण विकास विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं के विषय मे जानकारी देते हुए कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 9 पथों की प्रशासनिक स्वीकृति 18.965 करोड़ रुपये की लागत से दी गई है, जिसकी कुल लम्बाई 55.175 कि0मी0 है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के प्रमण्डल अन्तर्गत खूँटी जिला में कुल 56 योजनाओं की 63.596 करोड़ रुपये की लागत से 156.188 कि0मी0 सड़क निर्माण की प्रशासनिक स्वीकृति दी गई है जिसमें 46 योजनाएँ पूर्ण कर ली गई है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना प्प् वर्ष 2019-20 में कुल 8 पथों की प्रशासनिक स्वीकृति 51.477 करोड़ रुपये की लागत से दी गई है, जिसमें कार्य प्रगति पर है।

साथ ही पथ निर्माण विभाग द्वारा कुल 34 पथों के मरम्मति एवं निर्माण कार्य कुल 48837.90520 लाख (चार अरब अठासी करोड़ सैंतीस लाख नब्बे हजार पांच सौ बीस) रुपये से करायी गई है। 

भवन निर्माण विभाग

भवन निर्माण विभाग द्वारा खूँटी जिले में विभिन्न कार्यालय, छात्रावास, वनस्टोप सेन्टर, ई0भी0एम0 वेयर हाउस, विभिन्न प्रखण्डों में तहसील कचहरी-सह-कर्मचारी आवास अग्निशामक भवन, वाच टावर, स्वास्थ्य उपकेन्द्र, अस्पताल जीर्णोद्धार इत्यादि कुल 14 योजनाएँ कार्यान्वित है। जिसकी कुल प्राक्कलित राशि 20,46,73,950/- (बीस करोड़ छेयालीस लाख तिहत्तर हजार नौ सौ पचास) रुपये है। जिसमें से 14 में से 9 योजनाएँ पूर्ण कर ली गई है एवं 5 योजनाओं का कार्य प्रगति पर है।

 मनरेगा एवं अन्य

उन्होंने बताया कि जिला अन्तर्गत वर्ष 2019-20 में मनरेगा के तहत् 99,453 कार्यरत जाॅब कार्ड हैं, जिसमें कुल 32617 परिवारों को काम दिया गया है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में लक्षित मानव दिवस 15.93 लाख (पन्द्रह लाख तिरानब्बे हजार) के विरुद्ध अबतक 10.44764 लाख (दस लाख चैवालिस हजार सात सौ चैंसठ) मावन दिवस सृजित किया गया। मनरेगा अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 3,815 योजना पूर्ण है शेष 12,777 योजनाओं पर कार्य चल रही है। साथ ही, बिरसा मुण्डा आम बागवानी के तहत् कुल क्षेत्रफल 317.63 एकड़ में आम बागवानी किया जा रहा है जिसमें कुल 458 लाभुक लाभान्वित होंगे। मनरेगा योजना के तहत् खूँटी जिला ससमय मजदूरी भुगतान में दुसरा स्थान प्राप्त हुआ है। प्रधानमंत्री आवास योजना अन्तर्गत कुल प्राप्त लक्ष्य 15,525 के विरुद्ध 12,027 आवासों को पूर्ण कर लिया गया है एवं गृह प्रवेश कराया जा चुका है। शेष आवासों में कार्य प्रगति पर है। अम्बेदकर आवास योजना अन्तर्गत कुल प्राप्त लक्ष्य 616 के विरुद्ध 42 आवासों को पूर्ण करा लिया गया है। शेष आवासों का कार्य प्रगति पर है। जलछाजन परियोजना अन्तर्गत खूँटी जिला में विगत चार वर्षों काफी प्रगति की है जिसमें कुल 481 छोटे-बडे तालाबों, वृक्षारोपण 107 हेक्टर, टांड भूमि का उपचार इत्यादि का कार्य सम्पन्न करायी गई है। सांसद आदर्श ग्राम योजना एवं आदर्ष ग्राम योजना अन्तर्गत वर्ष 2017-18 में 4 संसद भवन एवं 4 सांस्कृतिक भवन का निर्माण कार्य किया है जो पूर्ण हो चुका है। उक्त आदर्श ग्रामों में पेयजल आपूर्ति, महिला सशक्तिकरण हेतु महिला समुह का गठन एवं 130 सोलर स्ट्रीट लाईट लगाये गये हैं। श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन मिशन अन्तर्गत कलस्टर बिरहू एवं तिरला पंचायत के समग्र विकास हेतु कुल स्वीकृत राशि 39.978 लाख (उनचालीस लाख सन्तानब्बे हजार आठ सौ) रुपये से कौषल विकास, मधुमक्खी पालन, मषरुम खेती इत्यादि के लिए प्रषिक्षण एवं यंत्र प्रदान किये गये हैं। जिले के लिए गौरव की बात है कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन लाभार्थी श्रीमती डाॅली देवी एवं उनकी समिति जूहि महिला मण्डल, सारिदकेल, खूँटी को पेपर उत्पाद के लिए माननीय राज्यपाल श्रीमती द्रोपदी मुर्मू द्वारा द्वितीय सर्वश्रेष्ठ अद्वितीय उत्पाद के लिए सर्टिफिकेट एवं ट्राॅफी से सम्मानित किया गया है। आजीविका मिशन द्वारा अबतक छः प्रखण्डों के 86 पंचायतों में 6,332 (छः हजार तीन सौ बतीस) सखी मण्डलों का गठन किया गया है 539 महिला ग्राम संगठन, 22 महिला संकुल गठन, 3 प्रखण्ड स्तर के महिला फेडरेशन की स्थापना की गई है। कुल 3,532 (तीन हजार पांच सौ बतीस) समुहों का बैंक लिंकेज किया जा चुका है जिसके माध्यम से उन्हें 1,00,000/- रुपये तक का ऋण बिना किसी बैंक सुरक्षा के प्रदत्त किया जाता है। चक्रीय निधि के अन्तर्गत अबतक कुल 16,62,61,000/- (सोलह करोड़ बारसठ लाख एकसठ हजार) की अनुदान राशि प्रदान किया जा चुका है। जिला अन्तर्गत अभी तक कुल 506 यूनिट बकरी, 625 यूनिट बतख व 33 यूनिट मुर्गियों का वितरण किया जा चुका है। इसी तरह महिला किसान सशक्तिकरण योजना अन्तर्गत सत्त विकास की ओर प्रेरित किया जा रहा है।

जिला योजना अनाबद्ध निधि अन्तर्गत 226.19 (दो करोड छब्बीस लाख उनीस हजार) रुपये से 25 योजनाओं यथा पी.सी.सी. पथ, पुल/पुलिया, पेयजल हेतु चापानल, डीप बोरिंग का क्रियान्वयन किया जा रहा है। आकांक्षी जिला योजना के तहत् कुल 38.00 करोड़ रुपये का आवंटन प्राप्त हुआ है। प्राप्त आवंटन से स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, गरीबी उन्मुलन, सिंचाई, कृषि, रोजगार सृजन, कौशल विकास, आधारभूत संरचनाओं इत्यादि प्रक्षेत्र में कुल 182 योजनाएँ अभी तक ली गई है एवं कार्य प्रगति पर है। इसके अतिरिक्त जिला के 52 विद्यालयों में सोलर आधारित जलापूर्ति का कार्य कराया गया है, 100 माॅडल आंगनबाड़ी केन्द्रों में गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य जाँच हेतु 100 बेड उपलब्ध कराया गया है। विशेष केन्द्रीय सहायता के तहत् वर्ष 2017-18, 2018-19 एवं 2019-20 में कुल 45.8249769 (पैंतालीस करोड़ बिरासी लाख उनचास हजार सात सौ उनहत्तर) रुपये का आवंटन प्राप्त है जिसमें आधारभूत संरचना के विकास हेतु कुल 347 योजनाएँ ली गई जिसमें 293 योजनाओं का कार्य पूर्ण किया जा चुका है एवं शेष 54 योजनाओं का कार्य प्रगति पर है। 

साथ ही उनके द्वारा बताया गया कि जिले में वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 2,782 नवसिखुवा अनुज्ञप्ति, 1004 चालक अनुज्ञप्ति निर्गत किया गया। सड़क सुरक्षा अन्तर्गत हिट एण्ड रन मामले में मुआवजा भुगतान से संबंधित 09 आवेदकों को 2.25 लाख रुपये का भुगतान करने की कार्रवाई की गई। सड़क सुरक्षा सप्ताह दिनांक 11.01.2020 से 17.01.2020 तक खूँटी जिला अन्तर्गत सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया गया। इस दौरान लोगेां में यातायात नियमों के प्रति जागरुकता हेतु विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन यथा जिला के अस्पताल, स्वास्थ्य केन्द्रों में निःशुल्क नेत्र एवं स्वास्थ्य जांच शिविर, विद्यालयों निबंधन लेखन, पेंटिंग, भाषण प्रतियोगिता का आयेाजन किया गया। सड़क सुरक्षा जागरुकता हेतु गुलाब फुल वितरण अभियान तथा हस्ताक्षर अभियान का आयोजन किया गया ताकि दुर्घटना में कमी आ सके।।

स्वच्छता एवं स्वास्थ्य

उन्होंने कहा कि जिले के सभी नागरिकों को स्वच्छ वातावरण एवं शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने हेतु हम संकल्पित है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत वर्ष 2015 से अबतक 81,052 (एक्कासी हजार बावन) अदद् शौचालयों का निर्माण कार्य पूर्ण कराया गया है जो कि स्वच्छता की ओर बढते कदम का परिचायक है। वर्षा जल के संचयन की दिशा में हमने कार्य किया है और अभी किया जाना है। क्योंकि जल तो कल है। इसके साथ ही सभी को बेहतर स्वास्थ्य सेवा पहूँचाना हमारी प्राथमिकता है। कुल 1,17,96,950.00 (एक करोड़ सतरह लाख छियानब्बे हजार नौ सौ पचास) रुपये की लागत से कुल 17 योजनाओं का कार्यान्वयन किया जा रहा है। यथाः- बी.सी.जी. टीकाकरण, प्रसव पूर्व जाँच, संस्थागत प्रसव, सिजेरियन, मलेरिया कार्यक्रम, मोतियाबिन्द आॅपरेशन जैसे बिमारियों का ईलाज किया जा रहा है। साथ ही, पोलियों उन्मुलन के क्षेत्र में हमने बेहतर कार्य किया है। 

पुरक पोषाहार योजना के तहत जिले में 840 आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 4,870 गर्भवती, 5,805 धातृ महिला तथा 43,425 छः माह से 5 वर्ष के बच्चों को पुरक पोषाहार निर्वाध रुप से आपूर्ति किया जा रहा है। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष 500 परिवार के कन्याओं को लाभ देने का लक्ष्य है जिसके विरुद्ध अबतक 142 लाभार्थियों को लाभ दिया गया है शेष लाभार्थियों का चयन कर भुगतान की प्रक्रिया चल रही है। 

सरकारी योजनाओं से  लाभान्वित

जिले में स्थित Old age home का निर्माण किया गया है जिसमें निराश्रित वृद्धों को आश्रय दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री सुकन्या योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में 5,600 लक्ष्य के विरुद्ध सभी लाभार्थियों को लाभ दिया जा चुका है। तेजस्विनी योजना के तहत् 14 से 24 आयु वर्ग के किशोरी बालिकाओं एवं युवतियों के सामाजिक, आर्थिक सशक्तिकरण हेतु योजना का शुभारंभ किया गया है। सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 44,774 विभिन्न पेंशनधारियों के बीच कुल 43,35,02,900.00 (तैंतालीस करोड़ पैंतीस लाख दो हजार नौ सौ) रुपये का भुगतान किया गया। जिला प्रशासन ससमय भुगतान के लिए कृत संकल्पित है।

कृषि विभाग एवं सिंचाई

उन्होंने बताया कि कृषि विभाग द्वारा बीज विनियम एवं वितरण योजना अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 2535 क्वीं. बीज वितरण किया गया। कन्वरसन आॅफ फैलो लैण्ड टु क्राॅप्ड एरिया योजना के तहत् परती भूमि को कृषि योग्य बनाकर मोटे एवं अन्य अनाजों के खेती योग्य बनाया गया। पिछले छः वर्षों में 5,185 हेक्टर भूमि को खेती योग्य बनाया गया है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन इस योजना अन्तर्गत किसानों को तकनीकी के सहयोग से आयवृद्धि एवं खाद्य सुरक्षा योजनान्तर्गत पिछले 5 वर्षों में कुल 3091.2 हे0 में दलहन की खेती करायी जा रही है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना हर खेत को पानी पहूँचाने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना चलायी जा रही है। इस योजना में 90%अनुदान पर टपक एवं फव्वारा विधि सिंचाई की स्थापना की जाती है। इस योजना में पिछले 4 वर्षों में कुल 710.89 हे0 भूमि को अच्छादित किया गया है एवं इस वर्ष 750 हे0 का लक्ष्य भी पूर्ण कर लिया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत वर्तमान वर्ष में कुल 43,727 किसानों को फसल का बीमा कराया जा चुका है। 

वेद व्यास आवास योजनान्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में 45 यूनिट का लक्ष्य के विरुद्ध सभी लाभुकों का चयन कर लिया गया है। मत्स्य अंगुलिकाओं का संचयन योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 कुल 12 लाख भारतीय मेजर कार्प अंगुलिका एवं एक लाख ग्रास कार्प अंगुलिका का संचयन विभिन्न जलाशयों में किया गया है। 

जलनिधि योजनान्तर्गत परलोकेशन टैंक भौतिक लक्ष्य 30 है जिस पर कुल 126.90 लाख (एक करोड़ छब्बीस लाख नब्बे हजार) रुपये व्यय की जानी है। लक्ष्य के विरुद्ध 20 परलोकशन टैंक का निर्माण किया जा चुका है तथा 10 में कार्य प्रगति में है। 390 किसानों के बीच 97.50 लाख रुपये का पम्प सेट तथा 200 फीट पाईप के क्रय पर 90 प्रतिशत सरकारी अनुदान की योजना के तहत् कुल 390 कृषकों को पम्प सेट तथा 200 फीट पाईप का वितरण किया जा चुका है। किसानों के समृद्धि के लिए जिला प्रशासन कृत संकल्पित हैं।

तजना वराज सिंचाई योजना अन्तर्गत नहरों के पुनरुद्धार का कार्य 4253.145 लाख (बैयालीस करोड तिरपन लाख चैदह हजार पांच सौ) रुपये की लागत से कार्य प्रारंभ किया गया है। लतरातु जलाशय योजना के पुर्नस्थापन का कार्य 40.31 करोड़ (चालीस करोड़ एकतीस लाख) रुपये की लागत से पूर्ण कर लिया गया है। लतरातु डैम का पुनर्स्थापन कार्य किया जाना है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में 11 अद्द चेक डैम कुल 814.652 लाख (आठ करोड़ चैदह लाख पैंसठ हजार दो सौ) रुपये की लागत से तैयार करने का लक्ष्य लखा गया है। जिसके विरुद्ध 481.904 लाख (चार करोड़ एक्कासी लाख नब्बे हजार चार सौ) व्यय हो चुका है। 1 अद्द वीयर सिंचाई योजना का निर्माण कार्य 156.268 लाख (एक करोड़ छप्पन लाख छब्बीस हजार आठ सौ) रुपये लागत से किया गया है। 

भवन निर्माण  

उनके द्वारा बताया गया कि शिक्षा के क्षेत्र में खूँटी जिला राज्य के स्तर पर लगातार प्रगति की ओर अग्रसर है और अच्छे परिणाम भी दिये हैं। मध्याह्न भोजन योजना जिले के कुल 869 प्रारंभिक विद्यालयों में मध्याह्न भोजन संचालित है। प्रारंभिक विद्यालयों में कुल 76,639 बच्चे नामांकित हैं जिनके भोजन बनाने हेतु 1,599 रसोईया-सह-सहायिकाएँ कार्यरत हैं। वित्तीय वर्ष 2019-20 में सरकारी एवं सरकारी सहायता प्राप्त विद्यालयों में अध्ययनरत् कुल 58,635 छात्रों की सूची पोर्टल पर अपलोड कर दी गई है। इसमें से 46,192 छात्र-छात्राओं को 5.54 करोड़ (पांच करोड़ चौवन लाख) रुपये छात्रवृति का भुगतान किया गया है शेष छात्र-छात्राओं का भुगतान प्रक्रियाधीन है। छात्रवृति मद से 4,015 छात्र-छात्राओं के बीच 2.95 करोड़ रुपये का वितरण डी.बी.टी के माध्यम से किया गया। शेष छात्र-छात्राअें का भुगतान प्रक्रियाधीन है। निःशुल्क साईकिल वितरण योजना के तहत् वित्तीय वर्ष 2019-20 में 6,865 छात्र-छात्राओं के बीच साईकिल वितरण का लक्ष्य है जिसके विरुद्ध 5,278 छात्र-छात्राओं के बीच 1.84 करोड़ का भुगतान किया गया। चिकित्सा अनुदान योजना अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में अ.ज.जा, अ.जा. एवं पिछड़ी जाति के लिए कुल 21 लाख रुपये का आवंटन प्राप्त हुआ जिसके विरुद्ध अ.जा. के 81, अ.जा. के 18 तथा पिछड़ी जाति के 74 कुल 173 लाभुकों के बीच 10,98,000/- रुपये अनुदान के रुप में वितरित किया गया। आदिवासी सांस्कृतिक स्थलों को सुरक्षा प्रदान करने तथा उन्हें संरक्षित करने हेतु वर्ष 2018-19 में 39 सरना/मसना/हडगडी की घेराबंदी का कार्य प्रारंभ किया गया था उसमें 30 का कार्य पूर्ण हो गया है शेष पर कार्य प्रगति पर है। इसी तरह वर्तमान वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए 13 योजना चयनित है जिसमें 8 योजना का कार्य प्रांरभ चुका है। शेष योजनाओं में लाभुक समिति का चयन किया जा रहा है। आदिवासी संस्कृति का प्रतीक धुमकुड़िया/माँझी हाउस भवन का निर्माण हेतु वर्ष 2018-19 में 7 धुमकुडिया भवन निर्माण पूर्णता पर है। वर्तमान वित्तीय वर्ष 2019-20 में भी 7 धुमकुड़िया भवन निर्माण हेतु कार्यादेश निर्गत किया गया है। अल्पसंख्यक कियोस्क निर्माण वर्ष 2019-20 में 03 यूनिट कियोस्क निर्माण कचहरी परिसर में किया गया है। अल्पसंख्यक कब्रिस्तान घेराबंदी योजना अन्तर्गत वर्ष 2019-20 में 32 यूनिट निर्माण करने का लक्ष्य है जिसके विरुद्ध 14 योजनाओं में एकरारनामा के बाद कार्यादेश निर्गत किया गया। शहीद ग्राम विकास योजना के तहत् ग्राम एटकेडीह में 46 एवं उलिहातु में 136 शहीद आवास योजना का निर्माण कुल 478.66 लाख (चार करोड़ अठहत्तर लाख छेयासठ हजार) रुपये की राशि से निर्माण कराया जा रहा है। इसके अतिरिक्त इन शहीद ग्रामों के विकास हेतु कुल 127.47 लाख (एक करोड़ सताईस लाख सैतालीस हजार) रुपये से विभिन्न योजनाएँ कार्यान्वित करायी गई है। विशेष केन्द्रीय सहायता योजना के तहत् वर्ष 2019-20 में खूँटी जिले के विभिन्न प्रखण्डों में 46.65 लाख (छेयालीस लाख पैंसठ हजार) रुपये की लागत से खूँटी जिले के विभिन्न प्रखण्डों में सोलर ड्रिकिंग वाटर सिस्टम का अधिष्ठापन कार्य कराया जा रहा है। इसके अतिरिक्त (SCA to SCSP) योजना के तहत् खूँटी जिले के विभिन्न प्रखण्डों के +2 उच्च विद्यालयों में 6 अतिरिक्त वर्ग कक्ष का निर्माण कार्य कुल 163.05 लाख (एक करोड़ तिरसठ लाख पांच हजार) रुपये की लागत से कराया जा रहा है। PVTG ग्रामोत्थान योजना वर्ष 2019-20 के तहत् अड़की प्रखण्ड के ग्राम तेलंगाडीह एवं सोसोकुटी में आवासीत बिरहोर पारिवारों के समग्र विकास हेतु उक्त ग्रामों को आदर्श ग्राम के रुप में परिणित करने का कार्य किया जा रहा है। मुरहू प्रखण्ड के पेरका एवं खूँटी प्रखण्ड के सिलादोन में दो वनधन केन्द्र स्थापित किये जा गये हैं। ताकि वनोत्पाद का विपणन सही तरीके से हो सके तथा वनोत्पादों पर निर्भर रह रहे परिवारों को उचित समर्थन मूल्य मिल सके।

जिले के सभी प्रखण्डों में एकलब्य माॅडल/आश्रम विद्यालय स्थापित करने हेतु भूमि का चयन कर लिया गया है। कर्रा प्रखण्ड में कार्य प्रांरभ हो चुका है। 

खूँटी जिले के सभी मानकी को 3,000, ग्रामसभा के अध्यक्ष को 1,000, डकुवा को 1,000 एवं पडहा राजा को 1,000 की दर से प्रत्येक माह सम्मान राशि का भुगतान किया जा रहा है। 

शौचालय

उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन योजना अन्तर्गत 2218 शौचालयों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है एवं खूँटी नगर पंचायत को ODF घोषित किया जा चुका है। इसे जिले में डोर टु डोर कचरा संग्रहण का कार्य किया जा रहा है। नगर पंचायत खूँटी अन्तर्गत कुल 14 सामुदायिक एवं सार्वजनिक शौचालय का निर्माण किया गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना अन्तर्गत अबतक 2019 लाभुकों का आवास निर्माण कराया जा रहा है जिसमें अबतक 1,137 लाभुकों द्वारा आवास निर्माण का कार्य पूर्ण करा लिया गया है। शेष लाभुकों का आवास निर्माण कार्य प्रगति पर है। शहरी जलापूर्ति योजना का कार्य प्रगति पर है। दीनदयाल अन्त्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजिविका मिशन योजना के अन्तर्गत नगर पंचायत क्षेत्रान्तर्गत कुल 192 महिला स्वयं सहायता समुह का गठन किया गया है जिसमें कुल 172 स्वयं सहायता समुह का चक्रीय निधि उपलब्ध करा दिया गया है। नगर पंचायत क्षेत्र में दो आश्रयगृह (महिला एवं पुरुष) हेतु व्यवस्था है। LED Street light नगर पंचायत क्षेत्र में कुल 1700 लाईट लगाना है जिसमें 1,444 स्ट्रीट लाईट का अधिष्ठापन कर लिया गया है शेष के लिए कार्रवाई की जा रही है। पी.सी.सी. निर्माण नगर पंचायत क्षे़त्रान्तर्गत अबतक कुल 39 पी.सी.सी. पथ का निर्माण 1,60,38,790/- (एक करोड साठ लाख अडतीस हजार सात सौ नब्बे) रुपये की लागत से कराया गया। नगर पंचायत क्षेत्रान्तर्गत अबतक कुल 33 नाली का निर्माण 1,30,08,965/- (एक करोड़ तीस लाख आठ हजार नौ सौ पैंसठ) रुपये की लागत से कराया गया।

विद्युतीकरण

उन्होंने बताया कि खूँटी जिला में सुचारु रुप से विद्युत आपूर्ति हेतु 6 अदद अतिरिक्त नये विद्युत पावर सबस्टेशनों का निर्माण किया जा चुका है। जापूद ग्रीड भी चालू कर दिया गया है जिससे खूँटी में अभी 22-23 घंटे विद्युत आपूर्ति हो रही है। खूँटी जिले में प्राप्त आवेदन के आधार पर कुल 72,756 घरों को विद्युत से सम्बद्ध किया जा चुका है। खूँटी को एक तीसरा ग्रिड तमाड़ से जोड़ने हेतु एक 33 KV Feeder का निर्माण भी कराया जा रहा है ताकि बिजली बाधित होने पर तमाड़ ग्रिड से भी विद्युत आपूर्ति किया जा सके। यह कार्य अंतिम चरण में है। किसानों के लिए भी 15 न0 एग्रीकल्चर  का निर्माण किया जा चुका है जिससे किसानों को अधिक लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत् इस जिले में 51,103 (एकावन हजार एक सौ तीन) परिवारों को निःशुल्क घरेलु गैस कनेक्षन दिया गया है। पात्र गृहस्थ योजना के तहत् कुल 67,336 परिवारों के कुल 3,30,164 सदस्यों को प्रतिमाह 5 किलोग्राम तथा अन्त्योदय अन्न योजना के अन्तर्गत कुल 32,986 परिवारों को प्रतिमाह 35 किलाग्राम खाद्यान्न 1 रुपये की अनुदानित दर पर दी जा रही है। साथ ही, अन्त्योदय अन्न योजना के अन्तर्गत कुल 32,986 परिवारों चीनी की भी आपूर्ति उचित मूल्य पर की जा रही है। मुख्यमंत्री (दाल-भात) कैंटिन योजना अन्तर्गत भी 5 रुपये की अनुदानित दर पर जिला एवं प्रखण्ड मुख्यालयों में खाना उपलब्ध कराया जा रहा है। अड़की प्रखण्ड के 20 बिरहोर परिवारों के लिए 35 किला अनाज प्रखण्ड विकास पदाधिकारी की निगरानी में डाकिया योजना के माध्यम से कराया जा रहा है। धान अधिप्राप्ति योजना अन्तर्गत इस जिले के सभी छः प्रखण्डों में एक-एक धान अधिप्राप्ति केन्द्र खोला गया है उक्त योजना अन्तर्गत पंजीकृत किसानों से धान की निर्धारित न्यनतम समर्थन मूल्य मो 1815/- रुपये प्रति क्वीं. एवं ग्रेड ए धान मो. 1835/- रुपये प्रति क्वीं. एवं इसके अतिरिक्त मो. 185/- रुपये प्रति क्वीं. की दर से बोनस का भुगतान की जा रही है। जिला प्रशासन शत्त प्रयासरत है कि किसी भी नागरिक का भुख से मौत न हो। उन्होंने कहा कि जिला पुलिस प्रशासन शत्त प्रयासरत है कि आपके बीच रहकर सेवा ही कर्म है के सिद्धान्त पर लगातार विषम परिस्थिति में खूँटी जिला को अमन-चैन एवं भयमुक्त बनाये रखे हैं। साथ ही, असामाजिक तत्वों से निपटने के लिए 4 नये थानों (तपकरा, सयको, मरांगहादा एवं जरियागढ) का सृजन किया गया है। अड़की थाना अन्तर्गत 2 नये पुलिस कैम्प (कोचांग एवं कुरुँगा) स्थापित किये गये हैं। 

खेलकूद

खेल के क्षेत्र में जिला खेल-कूद पदाधिकारी के पर्यवेक्षण में स्टेडियम में क्रिकेट पिच का निर्माण किया जा रहा है। विदित है कि खूँटी जिला हाॅकी/तीरांदाजी के क्षेत्र में कई अन्र्तराष्ट्रीय/राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी दिए हैं। खूँटी में खेल के क्षेत्र में खेल के प्रतिभा में कमी नहीं है जिसे निखारने की जरुरत है। जिसमें जिला प्रशासन शत्त प्रयासरत/कृतसंकल्पित है। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं के विषय मे जानकारी देते हुए कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 9 पथों की प्रशासनिक स्वीकृति 18.965 करोड़ रुपये की लागत से दी गई है, जिसकी कुल लम्बाई 55.175 कि0मी0 है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के प्रमण्डल अन्तर्गत खूँटी जिला में कुल 56 योजनाओं की 63.596 करोड़ रुपये की लागत से 156.188 कि0मी0 सड़क निर्माण की प्रशासनिक स्वीकृति दी गई है जिसमें 46 योजनाएँ पूर्ण कर ली गई है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना प्प् वर्ष 2019-20 में कुल 8 पथों की प्रशासनिक स्वीकृति 51.477 करोड़ रुपये की लागत से दी गई है, जिसमें कार्य प्रगति पर है।

साथ ही पथ निर्माण विभाग द्वारा कुल 34 पथों के मरम्मति एवं निर्माण कार्य कुल 48837.90520 लाख (चार अरब अठासी करोड़ सैंतीस लाख नब्बे हजार पांच सौ बीस) रुपये से करायी गई है। 

भवन निर्माण विभाग

भवन निर्माण विभाग द्वारा खूँटी जिले में विभिन्न कार्यालय, छात्रावास, वनस्टोप सेन्टर, ई0भी0एम0 वेयर हाउस, विभिन्न प्रखण्डों में तहसील कचहरी-सह-कर्मचारी आवास अग्निशामक भवन, वाच टावर, स्वास्थ्य उपकेन्द्र, अस्पताल जीर्णोद्धार इत्यादि कुल 14 योजनाएँ कार्यान्वित है। जिसकी कुल प्राक्कलित राशि 20,46,73,950/- (बीस करोड़ छेयालीस लाख तिहत्तर हजार नौ सौ पचास) रुपये है। जिसमें से 14 में से 9 योजनाएँ पूर्ण कर ली गई है एवं 5 योजनाओं का कार्य प्रगति पर है।

 मनरेगा एवं अन्य

उन्होंने बताया कि जिला अन्तर्गत वर्ष 2019-20 में मनरेगा के तहत् 99,453 कार्यरत जाॅब कार्ड हैं, जिसमें कुल 32617 परिवारों को काम दिया गया है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में लक्षित मानव दिवस 15.93 लाख (पन्द्रह लाख तिरानब्बे हजार) के विरुद्ध अबतक 10.44764 लाख (दस लाख चैवालिस हजार सात सौ चैंसठ) मावन दिवस सृजित किया गया। मनरेगा अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 3,815 योजना पूर्ण है शेष 12,777 योजनाओं पर कार्य चल रही है। साथ ही, बिरसा मुण्डा आम बागवानी के तहत् कुल क्षेत्रफल 317.63 एकड़ में आम बागवानी किया जा रहा है जिसमें कुल 458 लाभुक लाभान्वित होंगे। मनरेगा योजना के तहत् खूँटी जिला ससमय मजदूरी भुगतान में दुसरा स्थान प्राप्त हुआ है। प्रधानमंत्री आवास योजना अन्तर्गत कुल प्राप्त लक्ष्य 15,525 के विरुद्ध 12,027 आवासों को पूर्ण कर लिया गया है एवं गृह प्रवेश कराया जा चुका है। शेष आवासों में कार्य प्रगति पर है। अम्बेदकर आवास योजना अन्तर्गत कुल प्राप्त लक्ष्य 616 के विरुद्ध 42 आवासों को पूर्ण करा लिया गया है। शेष आवासों का कार्य प्रगति पर है। जलछाजन परियोजना अन्तर्गत खूँटी जिला में विगत चार वर्षों काफी प्रगति की है जिसमें कुल 481 छोटे-बडे तालाबों, वृक्षारोपण 107 हेक्टर, टांड भूमि का उपचार इत्यादि का कार्य सम्पन्न करायी गई है। सांसद आदर्श ग्राम योजना एवं आदर्ष ग्राम योजना अन्तर्गत वर्ष 2017-18 में 4 संसद भवन एवं 4 सांस्कृतिक भवन का निर्माण कार्य किया है जो पूर्ण हो चुका है। उक्त आदर्श ग्रामों में पेयजल आपूर्ति, महिला सशक्तिकरण हेतु महिला समुह का गठन एवं 130 सोलर स्ट्रीट लाईट लगाये गये हैं। श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन मिशन अन्तर्गत कलस्टर बिरहू एवं तिरला पंचायत के समग्र विकास हेतु कुल स्वीकृत राशि 39.978 लाख (उनचालीस लाख सन्तानब्बे हजार आठ सौ) रुपये से कौषल विकास, मधुमक्खी पालन, मषरुम खेती इत्यादि के लिए प्रषिक्षण एवं यंत्र प्रदान किये गये हैं। जिले के लिए गौरव की बात है कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन लाभार्थी श्रीमती डाॅली देवी एवं उनकी समिति जूहि महिला मण्डल, सारिदकेल, खूँटी को पेपर उत्पाद के लिए माननीय राज्यपाल श्रीमती द्रोपदी मुर्मू द्वारा द्वितीय सर्वश्रेष्ठ अद्वितीय उत्पाद के लिए सर्टिफिकेट एवं ट्राॅफी से सम्मानित किया गया है। आजीविका मिशन द्वारा अबतक छः प्रखण्डों के 86 पंचायतों में 6,332 (छः हजार तीन सौ बतीस) सखी मण्डलों का गठन किया गया है 539 महिला ग्राम संगठन, 22 महिला संकुल गठन, 3 प्रखण्ड स्तर के महिला फेडरेशन की स्थापना की गई है। कुल 3,532 (तीन हजार पांच सौ बतीस) समुहों का बैंक लिंकेज किया जा चुका है जिसके माध्यम से उन्हें 1,00,000/- रुपये तक का ऋण बिना किसी बैंक सुरक्षा के प्रदत्त किया जाता है। चक्रीय निधि के अन्तर्गत अबतक कुल 16,62,61,000/- (सोलह करोड़ बारसठ लाख एकसठ हजार) की अनुदान राशि प्रदान किया जा चुका है। जिला अन्तर्गत अभी तक कुल 506 यूनिट बकरी, 625 यूनिट बतख व 33 यूनिट मुर्गियों का वितरण किया जा चुका है। इसी तरह महिला किसान सशक्तिकरण योजना अन्तर्गत सत्त विकास की ओर प्रेरित किया जा रहा है।

जिला योजना अनाबद्ध निधि अन्तर्गत 226.19 (दो करोड छब्बीस लाख उनीस हजार) रुपये से 25 योजनाओं यथा पी.सी.सी. पथ, पुल/पुलिया, पेयजल हेतु चापानल, डीप बोरिंग का क्रियान्वयन किया जा रहा है। आकांक्षी जिला योजना के तहत् कुल 38.00 करोड़ रुपये का आवंटन प्राप्त हुआ है। प्राप्त आवंटन से स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, गरीबी उन्मुलन, सिंचाई, कृषि, रोजगार सृजन, कौशल विकास, आधारभूत संरचनाओं इत्यादि प्रक्षेत्र में कुल 182 योजनाएँ अभी तक ली गई है एवं कार्य प्रगति पर है। इसके अतिरिक्त जिला के 52 विद्यालयों में सोलर आधारित जलापूर्ति का कार्य कराया गया है, 100 माॅडल आंगनबाड़ी केन्द्रों में गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य जाँच हेतु 100 बेड उपलब्ध कराया गया है। विशेष केन्द्रीय सहायता के तहत् वर्ष 2017-18, 2018-19 एवं 2019-20 में कुल 45.8249769 (पैंतालीस करोड़ बिरासी लाख उनचास हजार सात सौ उनहत्तर) रुपये का आवंटन प्राप्त है जिसमें आधारभूत संरचना के विकास हेतु कुल 347 योजनाएँ ली गई जिसमें 293 योजनाओं का कार्य पूर्ण किया जा चुका है एवं शेष 54 योजनाओं का कार्य प्रगति पर है। 

साथ ही उनके द्वारा बताया गया कि जिले में वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 2,782 नवसिखुवा अनुज्ञप्ति, 1004 चालक अनुज्ञप्ति निर्गत किया गया। सड़क सुरक्षा अन्तर्गत हिट एण्ड रन मामले में मुआवजा भुगतान से संबंधित 09 आवेदकों को 2.25 लाख रुपये का भुगतान करने की कार्रवाई की गई। सड़क सुरक्षा सप्ताह दिनांक 11.01.2020 से 17.01.2020 तक खूँटी जिला अन्तर्गत सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया गया। इस दौरान लोगेां में यातायात नियमों के प्रति जागरुकता हेतु विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन यथा जिला के अस्पताल, स्वास्थ्य केन्द्रों में निःशुल्क नेत्र एवं स्वास्थ्य जांच शिविर, विद्यालयों निबंधन लेखन, पेंटिंग, भाषण प्रतियोगिता का आयेाजन किया गया। सड़क सुरक्षा जागरुकता हेतु गुलाब फुल वितरण अभियान तथा हस्ताक्षर अभियान का आयोजन किया गया ताकि दुर्घटना में कमी आ सके।।

स्वच्छता एवं स्वास्थ्य

उन्होंने कहा कि जिले के सभी नागरिकों को स्वच्छ वातावरण एवं शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने हेतु हम संकल्पित है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत वर्ष 2015 से अबतक 81,052 (एक्कासी हजार बावन) अदद् शौचालयों का निर्माण कार्य पूर्ण कराया गया है जो कि स्वच्छता की ओर बढते कदम का परिचायक है। वर्षा जल के संचयन की दिशा में हमने कार्य किया है और अभी किया जाना है। क्योंकि जल तो कल है। इसके साथ ही सभी को बेहतर स्वास्थ्य सेवा पहूँचाना हमारी प्राथमिकता है। कुल 1,17,96,950.00 (एक करोड़ सतरह लाख छियानब्बे हजार नौ सौ पचास) रुपये की लागत से कुल 17 योजनाओं का कार्यान्वयन किया जा रहा है। यथाः- बी.सी.जी. टीकाकरण, प्रसव पूर्व जाँच, संस्थागत प्रसव, सिजेरियन, मलेरिया कार्यक्रम, मोतियाबिन्द आॅपरेशन जैसे बिमारियों का ईलाज किया जा रहा है। साथ ही, पोलियों उन्मुलन के क्षेत्र में हमने बेहतर कार्य किया है। 

पुरक पोषाहार योजना के तहत जिले में 840 आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 4,870 गर्भवती, 5,805 धातृ महिला तथा 43,425 छः माह से 5 वर्ष के बच्चों को पुरक पोषाहार निर्वाध रुप से आपूर्ति किया जा रहा है। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष 500 परिवार के कन्याओं को लाभ देने का लक्ष्य है जिसके विरुद्ध अबतक 142 लाभार्थियों को लाभ दिया गया है शेष लाभार्थियों का चयन कर भुगतान की प्रक्रिया चल रही है। 

सरकारी योजनाओं से  लाभान्वित

जिले में स्थित Old age home का निर्माण किया गया है जिसमें निराश्रित वृद्धों को आश्रय दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री सुकन्या योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में 5,600 लक्ष्य के विरुद्ध सभी लाभार्थियों को लाभ दिया जा चुका है। तेजस्विनी योजना के तहत् 14 से 24 आयु वर्ग के किशोरी बालिकाओं एवं युवतियों के सामाजिक, आर्थिक सशक्तिकरण हेतु योजना का शुभारंभ किया गया है। सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 44,774 विभिन्न पेंशनधारियों के बीच कुल 43,35,02,900.00 (तैंतालीस करोड़ पैंतीस लाख दो हजार नौ सौ) रुपये का भुगतान किया गया। जिला प्रशासन ससमय भुगतान के लिए कृत संकल्पित है।

कृषि विभाग एवं सिंचाई

उन्होंने बताया कि कृषि विभाग द्वारा बीज विनियम एवं वितरण योजना अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 2535 क्वीं. बीज वितरण किया गया। कन्वरसन आॅफ फैलो लैण्ड टु क्राॅप्ड एरिया योजना के तहत् परती भूमि को कृषि योग्य बनाकर मोटे एवं अन्य अनाजों के खेती योग्य बनाया गया। पिछले छः वर्षों में 5,185 हेक्टर भूमि को खेती योग्य बनाया गया है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन इस योजना अन्तर्गत किसानों को तकनीकी के सहयोग से आयवृद्धि एवं खाद्य सुरक्षा योजनान्तर्गत पिछले 5 वर्षों में कुल 3091.2 हे0 में दलहन की खेती करायी जा रही है। प्रधानमंत्री