जिले की विकास मापदण्ड के मानको की निगरानी निति आयोग के द्वारा की जायेगीः उपायुक्त



उपायुक्त अरवा राजकमल के अध्यक्षता में हुई बैंकर्स समिति की बैठक


 संतोष वर्मा। सोमबार को सामाहरणालय सभाकक्ष में उपायुक्त पश्चिमी सिंहभूम अरवा राजकमल की अध्यक्षता में जिले के बैंकर्स समिति की बैठक की गई।उपायुक्त ने कहा कि जिले के विकास मापदण्ड के मानको की निगरानी नीति आयोग के द्वारा की जा रही है। उपायुक्त ने कहा कि विकास के मानको में परिवर्तन के आधार पर जिले की रैंकिंग की जा रही है। विकास के मानको में बैकों के वित्तीय समावेशन के मानको में 10 प्रतिशत अंक दिए गए है जिनका सुधार कर बैंकों के क्रियाकलाप से जिले के विकास सम्बन्धी मानकों में उन्नत किया जा सकता है।उपायुक्त ने बैंक प्रबंधको से कहा कि कुल मुद्रा ऋण विमुक्त किया गया। प्रतिलाख जनसंख्या  पर प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना  से जोड़ना, प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना से जोड़ना, अटल पेंशन योजना से लोगों को जोड़ना,बैंक खातों को आधार से जोड़ना तथा जन-धन योजना में खाता खोलना जैसे कार्यो की समीक्षा की जाती है। अतः प्रति बैंक अपने आंकड़ों में सुधार कर इन आंकड़ां को प्रत्येक तीन माह में उपलब्ध करायी जाय ताकि पोर्टल पर अध्यतन किया जा सके। उपायुक्त ने कहा कि जिले के बैंकों ने 1600 करोड़ के लक्ष्य के विरूद्ध लगभग 290 करोड़ उधार में दिए हैं। जो संतोष  जनक नहीं है। उपायुक्त ने साल भर के लिए कार्य योजना बनाने का निर्देश प्रबंधकों को दिया।  प्रबंधकों ने चालू वितीय वर्ष वर्ष में इसे बढ़ाकर  500 करोड़ करने का आश्वासन दिया। बैंकों का सी0डी0 अनुपात भी जिले का 38 प्रतिशत है, जिसे 50 प्रतिशत तक किये जाने की जरूरत है। उपायुक्त ने कहा कि आप जमा कराने में जितने रूचि लेते हैं। उतनी रूचि ऋण उपलब्ध कराने में भी लेना चाहिए जो नहीं करते हैं। इस अवसर पर वार्षिक क्रेडिट प्लान नाम पुस्तिका का विमोचन किया गया। इस बैठक में एल0डी0एम फुजेन मुर्मू, आर0बी0आई के राजीव रंजन सहित सभी बैंक प्रबंधक एवं पदाधिकारी उपस्थित थे।