खूँटी//विद्यादायिनीें माँ सरस्वती की पूजा अर्चना के साथ धूमधाम से मनाया गया बसंत पंचमी उत्सव

विद्यादायिनीें माँ सरस्वती की पूजा अर्चना के साथ धूमधाम से मनाया गया बसंत पंचमी उत्सव

खूंटी (30जन): बसंत पंचमी उत्सव पर  सरस्वती पूजा खूंटी जिले भर में धूमधाम से मनाई गई । 

       इस अवसर पर विद्या की देवी सरस्वती माँं की मूर्ति स्थापित कर अनेक शिक्षण संस्थान, कॉलेज, विद्यालय, क्लब, समितियांँ, और मुहल्लों में भी सरस्वती माता की मूर्तियां बैठाकर लोगों ने श्रद्धा पूर्ण भाव से लोगों ने सरस्वती पूजा धूमधाम से किए।

      नगर के बिरसा महाविद्यालय, आइडियल उच्च विद्यालय के अलावे एजुकेशन प्वाइंट,  श्योर सक्सेस कोचिंग सेंटर-मुरहू, कर्रा रोड, रांची रोड, तोरपा रोड, ग्रामीण क्षेत्रों में भी बिरहू आदि जगहों पर धूमधाम से लोगों ने सरस्वती पूजा मनाए। इस अवसर पर नगर के मिश्रा टोली स्थित दुर्गा मंदिर में विशाल प्रतिमा स्थापित की गई थी ‌। पूरे मोहल्ले वासी के साथ खूंटी के लोग पूजा अर्चना के अलावे दर्शन करने वालों की ताँता लगा हुआ था।

        पूरे क्षेत्र भक्ति में गीतों के साथ माहौल बसंत उत्सव के रूप में उल्लसित रहा। लोग पंडाल बनाकर भक्तिमय गीतों का आनंद लिया। जिससे माहौल पूरा भक्तिमय हो गया। इस प्रकार जिले के कर कर्रा, जरिया गढ़ , तोरपा, रनिया, अड़की, और मुरहू में भी वसंत पंचमी धूमधाम से मनाया गया।

    ग्रामीण क्षेत्र नगर से सटे बिरहू गांव में भी धूमधाम के साथ सरस्वती पूजा बसंत उत्सव के रूप में मनाया गया । लोगों ने कई स्थानों पर मूर्ति मूर्तियां स्थापित किए थे। छोटे-छोटे बच्चे बच्चियों के उत्साह का माहौल देखे नहीं बनता था। छोटी छोटी बच्चियांँ सुबह से ही तैयारियां करने में लगी थी । बच्चियांँ साड़ी पहनकर देवी का रूप सी लग रही थी, मानो मां सरस्वती देवी का रूप इन्हीं नन्ही नन्ही बच्चियों में समाहित हो गई हों। इस अवसर पर 20 सूत्री के प्रखंड समिति सदस्य सह वार्ड कमिश्नर महावीर कुमार ने पूरे प्रखंड के ग्रामीण जनों को शुभकामना दिए। ऐसे माहौल के बीच आज वसंतोत्सव का पंचमी तिथि उत्साहवर्धक रहा। 

         आज रात भर जागरण के साथ कल लोग भक्ति में गीतों के साथ विद्या की देवी मां शारदे को विसर्जित करने के लिए विभिन्न तालाबों में ले जाएंगे।

         इधर, एरेंडा गांव में हनुमान मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा भी किया गया। लोगों ने तजना नदी से आज जल भरकर कलश यात्रा निकालते हुए गांव के नवनिर्मित मंदिर प्रांगण तक ले गए । तत्पश्चात् भक्तजनों व ग्रामिणों के द्वारा पूजन विधान कर्मकांड के साथ ही प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम संपन्न हो गया।