Stay Fit and Save the Fuel का लक्ष्य हम सभी को सार्थक करने की आवश्यकता है।-डॉक्टर पाठक

माननीय न्यायाधीश डाॅ एस.एन पाठक, झारखंड उच्च न्यायालय, प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री अभय कुमार सिन्हा, उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक, परियोजना निदेशक आई.टी.डी.ए व अन्य अधिकारियों द्वारा निकाली गयी साइकिल रैली 

स्वस्थ्य शरीर-ईंधन की बचत-पर्यावरण सुरक्षा के उद्देश्य से निकाली गई रैली

"Stay Fit and Save the Fuel" विषय पर आमजनों को रैली के माध्यम से किया गया जागरूक 

खूंटी में अंतरराष्ट्रीय पटल पर गौरवान्वित होने की क्षमता- न्यायाधीश डॉ एस.एन पाठक

खूंटी (3 फर.): माननीय न्यायाधीश डाॅ एस.एन पाठक, झारखंड उच्च न्यायालय, प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री अभय कुमार सिन्हा, उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक व अन्य अधिकारियों द्वारा साइकिल रैली निकाली गई। साइकिल रैली के माध्यम से स्वस्थ्य शरीर-ईंधन की बचत-पर्यावरण सुरक्षा के जागरूकता सन्देशों को प्रेषित किया गया। 

      उक्त रैली सर्किट हाउस खूंटी से प्रारंभ हुई जो  नीचे चौक व GEL चर्च, कदमा तक होते हुए पुनः सर्किट हाउस खूंटी पहुंची। रैली का उद्देश्य आमजनों को पर्यावरण सुरक्षा के प्रति जागरूक दृष्टिकोण अपनाने की दिशा में प्रेरित करना था। साथ ही आज के समय में इंधन की बचत और इसकी महता को साझा करना था। इस माध्यम से रैली निकालकर आमजनों को बेहतर स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने में सहायक सिद्ध रही।

        मौके पर माननीय न्यायाधीश डाॅ एस.एन पाठक, झारखंड उच्च न्यायालय, द्वारा बताया गया कि Stay Fit and Save the Fuel का लक्ष्य हम सभी को सार्थक करने की आवश्यकता है। ऐसे सकारात्मक विचार हमें सतत विकास की ओर अग्रसर करते है।

युवाओं को संबोधित करते हुए उनके द्वारा बताया गया कि शारीरिक फिटनेस सभी के लिए आवश्यक है। जन सामान्य, युवाओं एवं किशोरों को शारीरिक रूप से दक्ष बनाने के लिए इस साइकिल रैली का आयोजन किया गया है। रैली का मुख्य उद्देश्य बेहतर स्वास्थ्य और सुरक्षित पर्यावरण के प्रति गम्भीर दृष्टिकोण अपनाना है। 

साथ ही शारीरिक फिटनेश पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि लोगों को इसके प्रति मुख्य रूप से सजग रहने की आवश्यकता है। ईंधन की बचत व इसके उपयोग के दिशा में भविष्य की पीढ़ी के लिए भी विचार करने की आवश्यकता है। हमें केवल अपने वाहनों को चलाने के लिए ईंधन की जरूरत नहीं है, लेकिन हमें अपना जीवन और बेहतर वातावरण भी चलाने की जरूरत है। 

       इस बात को सभी आम जनों के साथ विलासिता पूर्ण जीवन व्यतीत करने वाले लोगों को भी जागृत होने की आवश्यकता है कि साइकिल चलाना एक बहुत बड़ी कसरत है । जोकि आज के दिनों में लोग अपने घरों में कसरत करने के लिए साइकिल स्टाइल की कसरत सामग्री उपक्रम खरीद कर घरों में चलाते हैं । लेकिन साइकिल से बाजार जाना मुनासिब नहीं समझते हैं । साइकिल एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा एक पंथ और तीन काम पूरा होता है। शारीरिक स्वच्छता, प्रदूषण रहित जनजीवन, और आर्थिक (पेट्रोल और डीजल की) बचत ।

           आज की इस जागृति साइकिल यात्रा में वैसे बच्चे भागीदारी निर्गुण किए जिन्हें सरकार के माध्यम से साइकिल नहीं दिए गए हो । परंतु जिन्हें दिए गए हैं या दिए जाते हैं वे क्या साइकिल का उपयोग कर रहे हैं ‌। हम सभी को इसके लिए जगने और जगाने की आवश्यकता है ‌।