खूँटी//जिला प्रशासन के तत्वावधान में पर्यटन महोत्सव का भव्य आयोजन

 जिला प्रशासन के तत्वावधान में पर्यटन महोत्सव का भव्य आयोजन

झारखंड प्राकृतिक सौंदर्यता का भंडार है, यह प्राकृतिक धरोहर यहांँ की संस्कृति को कराता है परिचय - श्री कड़िया मुंडा

खूँटी । जिला प्रशासन के तत्वावधान में भव्य रूप से मुरहू प्रखंड के पर्यटन स्थल पंचघाघ में पर्यटन महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व सांसद श्री कड़िया मुंडा एवं विशिष्ट अतिथि पद्मश्री मधु मंसूरी जी, उपायुक्त श्री सूरज कुमार, पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष शेखर एवं परियोजना निदेशक आई.टी.डी.ए द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। 


बतौर मुख्य अतिथि पद्मश्री कड़िया मुंडा ने कहा कि झारखंड पर्यावरण सौंदर्यता का भंडार है। और यहां के गीत नृत्य सभी का मतलब है । मौसम के अनुसार और यहांँ कृषि आधारित गीत गाए जाते हैं । पर्यटन को बढ़ावा देने से प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से नाम तो रोशन होगा ही इसके अलावे बाहरी आवागमन होने से रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे ‌। और यहां की सांस्कृतिक धरोहर को देश विदेश में फैलने से कोई नहीं रोक सकता है ‌। इससे यहां की संस्कृति परिचय का मोहताज नहीं रह जाएगी इसके लिए डॉ रामदयाल मुंडा से मिलकर यहां की संस्कृति को हम लोगों ने आगे बढ़ाया है और विश्वस्तरीय पर परिचय कराया है ‌‌। 


प्राकृतिक छटाओं के सौंदर्य दर्शन के लिए यह पर्यटन महोत्सव-- उपायुक्त

खूंटी उपायुक्त ने बताया कि पर्यटन स्थलों को विकसित करना हमारा उद्देश्य है। प्राकृतिक छटा का सौंदर्य दर्शन के लिए  पर्यटन महोत्सव आयोजित किया गया है। इस प्राकृतिक सौंदर्य स्थलों को बढ़ावा देकर जिले का नाम रोशन के साथ परिचय कराना यह हम सभी का कर्तव्य बनता है। इससे सभी लोगों का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष यहां के लोगों को लाभ मिलेगा ।


इसके पूर्व पारम्परिक रूप से अतिथियों का स्वागत किया गया। इस दौरान पर्यटन महोत्सव 2020 की पुस्तक का विमोचन किया गया। इसमें खूंटी जिले के पर्यटन स्थलों का संग्रहण कर प्रभावशाली रूप से प्रस्तुत किया गया। 

प्राकृतिक सौंदर्य के प्रेमियों के लिए प्रकृति ने खूंटी जिला को कई अनमोल तोहफे दिए हैं। इनमें मुरहू प्रखंड अंतर्गत पंचघाघ जलप्रपात एक है। 

खूंटी के प्राकृतिक सौंदर्य को करीब से जानने का अवसर है पर्यटन महोत्सव--उपायुक्त

खूंटी उपायुक्त सूरज कुमार ने कहा कि यह जिला प्राकृतिक सुंदरता का धरोहर है । जो पर्यटन क्षेत्र में इसकी पहचान अधूरा है। जिसे पहचान दिलाना हम लोगों का लक्ष्य है , और यहां के नागरिकों को इसमें साथ देने की आवश्यकता है तभी खूंटी की पहचान एक पर्यटन जिला के रूप में आगे बढ़ सकेगा । और यहां के लोग सुखी संपन्न हो सके , इसीलिए इसका बढ़ावा देने के लिए यह पर्यटन पर्व आयोजित किया गया है।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों की गूंज से झूम उठा पंचघाघ

रंगारंग व सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने मन मोह लिया‌। ढोल - मांदर की धुन पर उपायुक्त सहित सभी गणमान्य अतिथि व आमजन थिरके । पर्यटन महोत्सव का आयोजन मानो मेला आयोजन का दृृश्य नजर आया। इस अवसर पर क्षेत्रीय गान व ढोल-मांदर की धुन पर गणमान्य अतिथियों के साथ उपायुक्त व आमजन। 


पर्यटन महोत्सव के अवसर पर पारंपरिक परिधानों में विभिन्न सांस्कृतिक व रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य रूप से जिला जनसम्पर्क कार्यालय के सांस्कृतिक दल एवं नुक्कड़ नाटक के कलाकारों ने भव्य प्रस्तुति दी। मौके पर विभिन्न सांस्कृतिक मंडलियों द्वारा आकर्षक नृत्य व गीत प्रस्तुत किये गये। कार्यक्रम के दौरान नृत्य, देश भक्ति गीत आदि भी आयोजित की गयी। 

पर्यटन स्थलों का संग्रहण पर्यटन महोत्सव पुस्तक का विमोचन

 साथ ही मुख्य अतिथि के साथ विशिष्ट अतिथियों ने जिले के पर्यटन स्थल पर प्रकाशित विशेष पुस्तिका का विमोचन किया । इस पुस्तिका में जिले के प्रमुख रूप से जाने-माने पर्यटन स्थलों के परिचय के रूप में वृत्तचित्र रुप दर्शाया गया है।  इसी क्रम में नुक्कड़ नाटक का मंचन कर सैलानियों को आकर्षित किया गया।  नागपुरी गान व नृत्य में ढोल- मांदर की ताल पर लोगों ने पर्यटन महोत्सव मनाया। 

इसी क्रम में आमजनों को पर्यटन के विकास से सम्बंधित सन्देश प्रेषित करने के उद्देश्य से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जिसमें गणमान्य अतिथियों के साथ पदाधिकारियों समेत आमजनों ने हस्ताक्षर कर पर्यटन के उत्थान के लिए सन्देश दिया। श्री मधु मंसूरी जी द्वारा "झारखंड कर कोरा" गान की प्रस्तुति ने बांधा समा  "झारखंड कर कोरा" गान प्रस्तुत कर पर्यटन महोत्सव में रंग जमा दिया। उन्होंने उपस्थित गणमान्य अतिथियों के साथ सैलानियों को लुभाते हुए प्रभावशाली रूप में प्रस्तुति की। इसके साथ ही गायक सुखराम पाहन, बुधराम मुंडा, जयराम महतो जैसे कलाकारों ने रंगमंच को एक झारखंडी परिचय के रूप में लोगों का मन मोहा । नई सोच के साथ डीजाइन किये गए पारंपरिक परिधानों में युवक व युवतियों ने फैशन शो का आयोजन किया। इसमें विशेष तौर पर युवाओं को अपनी संस्कृति से जोड़ने और उन्हें अपने परंपराओं का आधार बरकरार रखने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

इस पर्यटन पर्व पर मुख्य रूप से डीडीसी खूंटी, अनुमंडल पदाधिकारी प्रणव कुमार पाल, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी मांकिरण मुंडा, के अलावे जिले एवं अनुमंडल के अनेक पदाधिकारी गण उपस्थित थे। साथ ही जनमानस की ओर से सांसद प्रतिनिधि मनोज कुमार, झाविमो जिलाध्यक्ष दिलीप मिश्रा, रुकमिला देवी, जितेंद्र कश्यप, मदनमोहन मिश्रा, अमरनाथ मुंडा अरुण साबू प्रमुख रूप से उपस्थित थे। इस पर्व पर सैकड़ों जनसैलाब पर्व का आनंद उठाया। इस पर्यटन महोत्सव में जिला प्रशासन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भोजन का भी उत्तम प्रबंधन रहा। 

पर्यटन महोत्सव के अवसर पर निकाली गई मोटरसाइकिल रैली

 पर्यटन महोत्सव 2020 के अवसर पर सड़क सुरक्षा के तहत आज मोटरसाइकिल रैली निकाली गई। उक्त रैली समाहरणालय सभागार से पंचघाघ जलप्रपात तक निकाली गई।

      इस दौरान हेलमेट पहनने के फायदे से अवगत कराते हुए दुपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का प्रयोग करने के प्रति सजग किया गया। लोगों को निर्देश था कि किसी भी प्रकार का नशा का सेवन कर वाहन नहीं करना है और न ही बिना हेलमेट के पर्यटन यात्रा में शामिल होना है। सभी के सिर पर हेलमेट होना अनिवार्य किया गया था।

लोगों को बताया गया। एक दिन पूर्व निर्देश था कि गाड़ी चलाते समय मोबाइल फोन अथवा दूसरे इलेक्ट्राॅनिक उपकरणों के उपयोग करें ।  बताया गया कि निर्धारित गति पर वाहन चलाएं। इस पर्यटन पर्व पर सभी लोग एक हुजूम के साथ कानून का पालन करते हुए कार्यक्रम स्थल भाग तक पहुंचे।