खूँटी//बाल संरक्षण हेतु एनजीओ और प्रखंड के पदाधिकारियों के साथ हुई आज बैठक

बाल संरक्षण हेतु एनजीओ और प्रखंड के पदाधिकारियों के साथ हुई आज बैठक


सात दिनों में 50 ग्रामों में बाल संरक्षण समिति गठन करने का सीडीपीओ ने दिया निर्देश

खूँटी : आज जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा  चाइल्डलाइन एवं सिनी  के सहयोग से बाल अधिकारों एवं बाल संरक्षण के मुद्दों पर अड़की प्रखण्ड कार्यालय के सभागार में प्रखंडस्तरीय बाल संरक्षण समिति सह चाइल्डलाइन एडवाइजरी बोर्ड की बैठक  प्रमुख सीता नाग  की अध्यक्षता में हुई। बैठक में अड़की प्रखण्ड के विभिन्न गाँव में बाल अधिकारों एवं बाल संरक्षण मुददों पर विस्तृत चर्चा करते हुए पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों की समीक्षा की गई।

      जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी अल्ताफ़ खान ने बताया कि समेकित बाल संरक्षण योजना के अनुसार 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों के सर्वांगीण विकास हेतु समुदाय स्तर पर एक सुरक्षा कवच निर्मित करने एवं बाल संरक्षण हेतु उचित परिवेश के निर्माण करने, बच्चों को हिंसा एवं दुर्व्यवहार से बचाने तथा उचित पालन एवं देखरेख की ब्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए जिले में जिला स्तरीय, प्रखण्ड स्तरीय, एवं ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति का गठन किया गया है।

     प्रमुख सीता नाग ने कहा कि  बच्चों के अधिकारों के संरक्षण के लिए ग्राम स्तर पर बाल संरक्षण समिति को मजबूत करने की आवश्यकता है । उन्होंने सभी आंगनबाड़ी सेविकाओं को कहा कि आप सभी भी माँ हो, इसलिए सभी कठिन परिस्थितियों में रहने वाले बच्चों की फ़िक्र एक माँ की तरह करें। और आप सभी खुशनसीब हैं कि आपको इस काम के लिए चुना गया है।

सीडीपीओ मेविस मुंडू ने सभी लेडी सुपरवाइजर एवं आंगनबाड़ी सेविकाओं को निर्देश दिया  कि अड़की प्रखण्ड के बाकी बचे हुये 50 ग्रामों में सात दिनों के अंदर ग्राम बाल संरक्षण समिति का गठन किया जाए तथा नियमित रुप से बैठक किया जाए। साथ ही कहा कि कठिन परिस्थिति में रहने वाले अनाथ, परित्यक्त बच्चों के शिक्षा, पोषण, चिकित्सा के लिए स्पॉन्सरशिप एंड फॉस्टरकेअर योजना से जोड़ने के लिए जिला बाल संरक्षण इकाई में आवेदन दिया जा सकता है।

     चाइल्डलाइन के कोऑर्डिनेटर शाहजहां खान ने बाल संरक्षण से संबंधित मुद्दों के निराकरण के लिए चौबीस घंटे आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर 1098 में सूचना देने की बात कही। उन्होंने बाल विवाह, बाल दुर्ब्यापार, बाल श्रम,पॉक्सो के कानूनों के बारे में जानकारी दी। 

         इस बैठक में मुख्य रूप से बाल कल्याण पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना की लेडी सुपरवाइजर , सिनी संस्था के शिल्पा जायसवाल, लक्ष्मी, एमिल, विभिन्न ग्रामों से आई हुई आंगनबाड़ी सेविका, प्रखण्ड चिकित्सा पदाधिकारी, तेजस्विनी के प्रतिनिधि, चाइल्डलाइन के मेम्बर बसन्ती मुंडू, आदि उपस्थित थे। सिनी संस्था के साकेत ने धन्यवाद ज्ञापन किया।