खूँटी//लतरातु डैम पर्यटन स्थल के साथ रोजगार का एक प्रमुख आधार

लतरातु डैम पर्यटन स्थल के साथ रोजगार का एक प्रमुख आधार

खूँटी : लतरातु डैम जो कि मध्यम सिंचाई योजना में लतरातु जलाशय योजना अन्तर्गत आता है। ये उत्तर-कारो नदी, कर्रा प्रखण्ड के लतरातु ग्राम में स्थित है। इस बाँध से दो नहर निकलती है। जिससे ग्रामीणों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।

इस बांँध का निर्माण मुख्यतः सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण के लिए किया जाता है। बाँध में मुख्य दीवार के अतिरिक्त अन्य संरचनाओं की उपयोगिता होती है। बाँध में स्पीलवे का प्रयोग मुख्यतः जलाशय में जल स्तर के संकटपूर्ण स्तर तक पहुँच जाने पर जल निस्सरण के लिए किया जाता है। जलाशय का प्रमुख कार्य वर्षा ऋतु में नदी में उपलब्ध अतिरिक्त जल को जलाशय में एकत्र कर बाढ़ नियंत्रण में सहायता प्रदान करना तथा इस एकत्र जल को सिंचाई इत्यादि की आपूर्ति हेतु उपलब्ध कराना है। जलाशय में एकत्र जल को नहरों द्वारा आवश्यकता वाले स्थलों की ओर स्थानान्तरित किया जाता है।

इस बाँध के निर्माण से कई गाँव के कृषकों को सिंचाई सुविधा प्रदान की जा रही है। इसके अतिरिक्त आस-पास के गाँव के ग्रामीणों द्वारा मछलियाँ पकड़कर एक तरह का स्वरोजगार मिलता जिससे वह अपनी जीविका चलाते हैं।

    लतरातु डैम एक पर्यटक स्थल के रूप में उभर रहा है। लोग यहां पिकनिक मनाने के लिए आते रहते हैं। लतरातु जलाशय योजना से आस-पास के ग्रामों का जल स्तर काफी बढ़ा है। जो कि वर्तमान में जल संचयन व जल संरक्षण की ओर एक सक्रिय कदम है।