54 विद्यार्थियों ने विज्ञान की परीक्षा देने से किया इनकार, किया प्रदर्शन

खूँटी : मैट्रिक परीक्षा  केंद्र में आडीडी मिथिलेश कुमार सिंह ने औचक निरीक्षण में केंद्र अधीक्षक को पुर्जा के साथ पकड़े गए विद्यार्थियों को एक्सपेल्ड करने का निर्देश दिया था। जिन्हें परीक्षा से निष्कासित कर दिया गया था।कर्रा प्रखंड स्थित तिलमी  उच्च विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने सोमवार को विज्ञान की परीक्षा देने से इनकार कर दिया। अभी पूरे झारखंड प्रदेश में मैट्रिक की माध्यमिक परीक्षा चल रही है। लेकिन  तिलमी के सभी 54 विद्यार्थियों ने सोमवार को विज्ञान की परीक्षा देने से इनकार कर दिया। साथ ही खूंटी थाना पहुंचकर छात्र छात्राओं ने  प्रर्दशन किया और अपनी आपबीती सुनाई।   ज्ञात हो कि 20 फरवरी को आरडीडी राँंची मिथिलेश कुमार सिंह मैेट्रिक बोर्ड परीक्षा का औचक निरीक्षण के लिए जीएमसी कर्रा पहुँचे थे। जहांँ उच्च विद्यालय तिलमी के विनय कुमार महतो, प्रमोद यादव, पंकज महतो, उमेश महतो एवं छोटू मुंडा के पॉकेट से चिट मिलने के बाद उन्हें परीक्षा से निष्कासित कर दिया गया था।   आज वे सभी लोग पुनः परीक्षा देने के लिए परीक्षा केंद्र आए थे , लेकिन उन्हें परीक्षा लिखने नहीं दिया गया। तभी उच्च विद्यालय तिलमी के सभी 54 परीक्षार्थी परीक्षा देने से इंकार कर  दिए। सभी 54 विद्यार्थियों ने निष्कासित किए गए विद्यार्थियों को परीक्षा दिलाने की मांग कर रहे थे। इन्होंने परीक्षा का बहिष्कार करते हुए कर्रा थाना पहुंँचे और थाना प्रभारी से कहा कि 20 फरवरी को रांँची से अधिकारी निरीक्षण करने आए थे । और बेवजह हम 5 परीक्षार्थियों को निष्कासित कर दिया। और जब आज भी हम परीक्षा देने आए थे , लेकिन हमें परीक्षा देने नहीं दिया गया। तभी हमारे सभी 54 विद्यार्थी उग्र हो गए और परीक्षा देने से इंकार कर दिया। विद्यार्थियों ने कहा- जब तक सभी को परीक्षा लिखने नहीं दिया जाता कोई भी परीक्षा नहीं देंगे । और तभी परीक्षा देंगे जब इन पांँचों विद्यार्थियों को परीक्षा लिखने दिया जाएगा। वहीं विद्यार्थियों ने थाना प्रभारी के समक्ष कहा कि जो अधिकारी निरीक्षण में आए थे। अगर हम लोग किसी प्रकार से कदाचार परीक्षा दे रहे थे , तो अधिकारी सीसीटीवी फुटेज दिखलाएँं। थाना प्रभारी मुन्ना सिंह ने सभी परीक्षार्थियों को समझा कर परीक्षा केंद्र राजकीय मध्य विद्यालय कर्रा पहुंचाया।

परीक्षार्थी टेंशन के बीच लिखे परीक्षा

      वहीं मामले की जानकारी मिलते ही डीईओ डॉ अरुणानाथ, क्षेत्रीय शिक्षा पदाधिकारी प्रवीण कुमार सिन्हा, वीडियो दिवेश कुमार द्विवेदी, सीओ पुष्पक रजक, बीपीओ मनमोहन साहू, राजकीय मध्य विद्यालय पहुंचकर विलम्ब से परीक्षा शुरू होने के कारण आधा घंटा अधिक समय देकर विज्ञान की परीक्षा ली। फर्जी तरीके से किए गए एक्सपेल्ड विद्यार्थियों को परीक्षा में बैठने की अनुमति के बाद ही सभी विद्यार्थी देर से परीक्षा लिखने परीक्षा भवन में घुसे ।

उपायुक्त ने मध्य विद्यालय कर्रा के केंद्र अधीक्षक को किया सस्पेंड

  इधर, 20 फरवरी को आरडीडी मिथलेश कुमार सिंह परीक्षार्थियों को एक्सपेल्ड करने का केंद्र अधीक्षक को निर्देश के बावजूद राजकीय मध्य विद्यालय में प्रतिनियुक्त केंद्र अधीक्षक ललित कुमार ने 5 परीक्षार्थी को एक एक्सपेल्ड नहीं किया था । उनका कहना है कि जैक बोर्ड के नियमावली के अनुसार एक्सपेल्ड लेटर या पर सीट पूर्जा के साथ पकड़ने वाले अधिकारी के हस्ताक्षर के बाद ही केंद्र अधीक्षक का होता है । जबकि पकड़ने वाले अधिकारी का हस्ताक्षर नहीं होने के कारण मैं परीक्षार्थियों को नहीं कर सकता हूं । मंगलवार को आरसी मध्य विद्यालय कर्रा केंद्र में एक विद्यार्थी परीक्षा नहीं दे पाया। जबकि राजकीय मध्य विद्यालय कर्रा केंद्र से सभी 5 छात्रों को परीक्षा दिलाई गई ।  निर्देश का पालन नहीं होने को लेकर केंद्राधीक्षक को सस्पेंड किए हैं। निरीक्षण के दौरान सहायक अधीक्षक बिना छुट्टी के केंद्र से गायब रहने व मजिस्ट्रेट ड्यूटी पर नियुक्त मजिस्ट्रेट अंचल सीआई विक्रम माली के देर से केंद्र पर पहुंँचने का मामला सामने आया है ।