छात्रसंघ का प्रशासन के नीति के विरोध में अनोखा गांधीगिरी

प्रशासन रवैये का गांधीगिरी तरीके से किया छात्रसंघ ने किया विरोध

खूँटी । आज बिरसा कॉलेज छात्रसंघ का महाविद्यालय परिसर में अनोखा गांधीगिरी देखने को मिला । महाविद्यालय के छात्र संघ की अगुवाई में छात्र छात्राओं ने परिसर में ही दुकान लगा दिया । जिसे देख खरीदारों की अच्छी खासी भीड़ हो गई । यहाँ तक कि महाविद्यालय के कर्मचारी भी खरीदारी किये ।ज्ञात हो कि पिछले कुछ दिनों से प्रशासन द्वारा महाविद्यालय परिसर में ही बाजार लगवाना शुरु कर दिया है। छात्र छात्राओं का कहना है कि जिससे महाविद्यालय परिसर बाजारवाद का रुप ले लिया है । पढ़ाई बाधित हो रही है । इनका कहना है कि कभी यह परिसर कभी ज्ञानार्जन का मंदिर हुआ करता था। आज के परिदृश्य में यह पढ़ाई में बाधक बनता जा रहा है । और खेल, कार्यक्रम और बाजार के रुप में लोगों का अनावश्यक आवागमन होता है। छात्रसंघ अध्यक्ष भुवनेश्वर कुमार ने कहा कि प्रशासन का कहना है कि यह परिसर मेरा है , इस परिसर का उपयोग जैसा हम चाहेंगे वैसा करेंगे ।  जिससे हमारा भविष्य अंधकारमय नजर आ रहा है । इसलिए अब हमलोग भी यहाँ बाजार ही लगाएंगे। जिससे कम से कम पेट तो चलेगा। छात्रसंघ सचिव ने कहा कि प्रशासन का रवैया बिरसा महाविद्यालय परिसर में बाजार लगे । और यहाँ बाजार लगने से पढ़ाई बाधित हो रही है। और हम सभी विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य में प्रशासन द्वारा कालिख पोता जा रहा है । इसलिए हम सभी यहाँ बाजार लगाकर जीवन यापन करेंगे । पढ़ाई के साथ रोजगार भी मिल जाएगा। आदीवासी छात्रसंघ अध्यक्ष दुबराज मुण्डा ने छात्रसंघ के ऐसी गांधीगिरी  तरीके से विरोध का सराहना करते हुए कहा कि प्रशासन के द्वारा  महाविद्यालय परिसर का गैर शिक्षण व्यक्ति के लिए उपयोग कराना भगवान बिरसा मुंडा के नाम पर चल रहा यह मंदिर का प्रांगण व्यवसायीकरण करना बहुत ही दुखद है।  सभी को विदित है कि बिरसा महाविद्यालय जिले का इकलौता महाविद्यालय है । जहाँ हजारों विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।