उपायुक्त की अध्यक्षता में शिक्षा विभाग से सम्बंधित बैठक आयोजित

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को बढ़ावा देना हमारा कर्तव्य व जिम्मेदारी-- उपायुक्त

  • निर्धारित समय पर लक्ष्य को करें पूर्ण-- उपायुक्त

खूँटी : आज समाहरणालय सभागार में उपायुक्त सूरज कुमार की अध्यक्षता में शिक्षा विभाग से संबंधित बैठक आयोजित की गई। इसमें उपायुक्त द्वारा समग्र शिक्षा अभियान के अंतर्गत संचालित ज्ञानसेतु एवं ई विद्या वाहिनी कार्यक्रम की गहन समीक्षा की गई। साथ ही सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि वे विद्यालयों में समय सारणी का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराएंगे‌। बीआरपी व सीआरपी   को नियमित रूप से संबंधित विद्यालयों का भ्रमण कर प्रत्येक दिन का डाटा अपलोड सुनिश्चित करने तथा विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति की संख्या में बढ़ोत्तरी लाने के लिए निर्देश दिया गया।  इसके साथ ही कहा कि विद्यालयों का प्रमाणीकरण को पूर्ण गंभीरता से लेते हुए संकल्प के रूप में लिया जाए ताकि प्रमाणीकरण में जो भी बाधाएं आ रही है उसे सा समय दूर किया जाए। इसके साथ ही निर्देश दिया गया कि विद्यालयों के रजिस्ट्रेशन के लिए 15 मार्च तक 50 प्रतिशत और 31 मार्च तक 100 प्रतिशत के लक्ष्य को पूर्ण करें। साथ ही सभी प्रखंडों को योजनाबद्ध तरीके से प्रमाणीकरण की प्रक्रिया को और तेज करते हुए अधिक से अधिक संख्या में विद्यालयों को स्वनामांकन के लिए प्रेरित करने का निर्देश दिया गया।मौके पर राज्य स्तरीय प्रतिनिधियों द्वारा पीपीटी के माध्यम से प्रदर्शित प्रखंड वार ज्ञान सेतू के तहत निर्धारित विविध इंडिकेटर की समीक्षा की गई। साथ ही विद्यालय प्रमाणीकरण कार्य की समीक्षा के लिए प्रखंडवार अब तक विद्यालयों द्वारा कांस्य पदक के लिए किए गये स्वनामांकन की स्थिति को पीपीटी के माध्यम से सभी प्रतिभागियों को दिखाया गया। बैठक में सभी प्रखंड के द्वारा बीते माह में ज्ञानसेतु अंतर्गत सीआरपी द्वारा किये गए विद्यालयों के अनुश्रवण एवं ज्ञान सेतु से संबंधित अन्य आयामों की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान कई प्रखंडों के स्कूलों का प्रदर्शन खराब पाए गए। वैसे प्रखंडों के बीईईओ व बीपीओ को कमजोर स्कूलों में पुनः अपेक्षाकृत अनिवार्य रूप से अनुश्रवण करने का निर्देश दिया गया। बैठक में उपायुक्त ने बच्चों के अधिगम उन्नयन के लिए चलाये जा रहे ज्ञानसेतु कार्यक्रम को अधिक गंभीरता के साथ चलाने के लिए गंभीर होकर कार्य करने का निर्देश दिया। जिसका अनुसरण नियमित रूप से ई विद्यावाहिनी एप के माध्यम से निरीक्षण किया जा रहा है। बैठक में ज्ञान सेतु कार्यक्रम के खराब तथा अत्यंत खराब परफॉर्मेंस वाले विद्यालयों के लिए सकारात्मक और बेहतर परफार्मेंस के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया।बैठक में निर्णय लिया गया कि खराब परफॉर्मेंस वाले विद्यालयों के कारण का निरीक्षण किया जाएगा। साथ ही उपायुक्त द्वारा निर्देशित किया गया कि विद्यालयों में माह में कम से कम 3 दिन आवश्यक रूप से निरीक्षण के लिए संबंधित प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी एवं प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी को निर्देश दिया गया।बैठक में उपायुक्त द्वारा जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक व सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी को निर्देशित किया गया कि विद्यालय का भ्रमण / निरीक्षण के साथ वर्गकक्ष में बच्चों की शैक्षणिक प्रगति की भी जानकारी लें एवं उसे अपनी निरीक्षण टिप्पणी में दर्ज करें। इसके साथ ही सभी पदाधिकारी एवं कर्मी लगातार विद्यालय का निरीक्षण एवं अनुश्रवण कर शिक्षकों को स्थलीय अनुसमर्थन प्रदान करें इससे आने वाले दिनों में स्थिति में सुधार निश्चित रूप से परिलक्षित होगा। मौके पर उपायुक्त ने बैठक में उपस्थित अधिकारियों व कर्मियों को कहा कि वर्तमाम समय की आवश्यकता है कि हम सब मिलकर सरकारी विद्यालयों में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के सार्थक प्रयास करें। आवश्यकता है कि देश के उज्ज्वल भविष्य की परिकल्पना के साथ शिक्षण प्रक्रिया बेहतर हो और हर व्यक्ति अपने बच्चों का नामांकन सरकारी विद्यालयों में कराएं। साथ ही विद्यार्थियों को समग्र विकास की ओर अग्रसर करने में अपना पूर्ण योगदान दें।बैठक में जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, प्रखंडों के प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, बीपीओ, बीआरपी, सीआरपी उपस्थित थे।