बटाने डैम से हरिहरगंज, पिपरा और छत्तरपुर प्रखंड के कृषकों को सिंचाई सुविधा जल्द होगी उपलब्ध

बटाने डैम से हरिहरगंज, पिपरा और छत्तरपुर प्रखंड के कृषकों को सिंचाई सुविधा जल्द होगी उपलब्ध 

पलामू: पंचम झारखंड विधानसभा के प्रथम बजट सत्र में हुसैनाबाद - हरिहरगंज के  विधायक कमलेश कुमार सिंह ने सदन में तारांकित प्रश्न के माध्यम से छतरपुर प्रखंड में अवस्थित बटाने डैम से हरिहरगंज, पिपरा व छत्तरपुर प्रखंड के सैकड़ों एकड़ जमीन में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की थी। सरकार की ओर से दिए गए उत्तर में बताया गया है कि बटाने जलाशय योजना के भू-अर्जन एवं पुनर्वास संबंधी मुआवजा का शत प्रतिशत भुगतान नहीं हो पाया है। इस वित्तीय वर्ष में विस्थापितों के मुआवजा भुगतान हेतु पुनर्वास अवशेष राशि 9 करोड़ 87 लाख रुपए पुनर्वास पदाधिकारी, उत्तर कोयल परियोजना, मेदनीनगर को उपलब्ध करा दी गई है। पुनर्वास से संबंधित कार्य प्रगति पर है। सरकार ने अपने उत्तर में यह भी बताया है कि वैसे विस्थापित  जो अन्यत्र चले गए हैं, या मृत हैं अथवा जिनके उत्तराधिकारी उपस्थित नहीं हो रहे हैं, उन्हें  मुआवजा भुगतान नहीं हो पाया है। इस संबंध में समाचार पत्रों के माध्यम से सूचना प्रकाशित की गई है। सरकार ने अपने उत्तर में यह भी बताया है कि पुनर्वास संबंधी मुआवजा का भुगतान कर विस्थापितों का जनारोध समाप्त करने के पश्चात गेट के अधूरे कार्यो को पूरा कराकर किसानों को सिंचाई उपलब्ध कराई जा सकेगी। विधायक कमलेश कुमार सिंह ने सदन में सरकार से जानना चाहा कि कितने समय में हरिहरगंज, पीपरा व छतरपुर प्रखंड के किसानों को सिंचाई उपलब्ध करा पाएंगे तब सरकार की ओर से प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम ने 2 से 3 माह के अंदर सिंचाई सुविधा बहाल करने का आश्वासन सदन में दिया। इस आशय की जानकारी विधायक प्रतिनिधि अजित सिंह ने हुसैनाबाद में पत्रकारों को दी।