जरिया गढ़ को प्रखण्ड बनाने की मांग को लेकर केन्द्रीय मंत्री से मिले प्रतिनिधि

खूँटी । जिले के जरिया गढ़ थाना क्षेत्र के ग्रामीण वयोवृद्ध भाजपा नेता समाजसेवी रवि मिश्रा के नेतृत्व में क्षेत्रीय सांसद सह जनजातीय विकास मंत्री अर्जुन मुंडा से मिलकर जरिया गढ़ को प्रखण्ड बनाने की मांग को लेकर ज्ञापन दिया।

 कोचे मुण्डा आज सदन में उठाएंगे जरिया गढ़ को प्रखण्ड की मांग

   इस बीच श्री मुण्डा ने कहा कि यह राज्य का मामला है । इसे विधानसभा में उठाना होगा । और सामने बैठे तोरपा विधायक कोचे मुण्डा को इसे देखने और समाधान करने के लिए  कहा । जिस पर कोचे मुंडा ने जरिया गढ़ को प्रखण्ड बनाने की मांग सदन में कल उठाने की बात कही।

क्यों जरूरी है जरिया गढ़ को प्रखण्ड बनाना

जरिया गढ़ थाना क्षेत्र कर्रा प्रखण्ड केन्द्र से लगभग तीस किलोमीटर तक दूर हो जाता है। ग़रीबी और दूरी लोगों के विकास का बाधक बनता है। किसी तरह जीवनयापन करने वाले लोगों के लिए सरकारी लाभ से वंचित और ठगे महसूस करते हैं। प्रखण्ड कार्यालय से एक दिन में कार्य सम्पादित हो पाना मुश्किल होता है। यह सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्र होने से किराया भाड़ा दे पाने में ग्रामीण अक्षम हैं। ग्रामीणों का मुख्य धंधा फेरी करना , बाजार करना, अल्प जोत किसान, बर्तन बनाना आदि है । ऐसी अभावग्रस्त जीवन में सरकारी लाभ और सहायता के लिए ग्रामीण दौड़े, या दो जून की रोटी का जुगाड़ के लिए । ऐसी स्थिति में क्षेत्र और भी पिछड़ता हुआ ग़रीबी के आगोश में धँसता जा रहा है । लोग पलायन करने लगे हैं। यह गाँव क्षेत्र रमणीय और भरा पूरा हुआ करता था और आज का वर्तमान परिदृश्य परिस्थिति का मारा उजड़ा बियाबान प्रतित होता है। लोग बेरोजगार हैं। पूँजी का अभाव और तकनीकी समस्या जीवन को नोच रहा है। प्रखण्ड केन्द्र बनने से बहुत हद तक समस्या से निजात मिल सकेगा । रोजगार के साधन बढ़ेंगे। प्रखण्ड स्तर का कार्य आसान होगा। समय और पैसा दोनों बचेगा। दुकानें और व्यवसाय बढ़ेंगे । पलायन रुकेगा।आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी तो शिक्षा का स्तर बढ़ेगा। गाय बकरी चराने के जगह अभिभावक बच्चों को पढ़ाई पर ध्यान देंगे। यानि चहुंमुखी विकास तब होगा जब यहाँ जरिया गढ़ प्रखण्ड बनेगा।