लाह चूड़ी निर्माण महिलाओं का बन स्वरोजगार का साधन

खूँटी । स्वरोजगार का एक सकारात्मक उदाहरण लाह चूडी निर्माण के क्षेत्र में खूंटी जिला के सीलादोन क्लस्टर का है। ग्रामीण विकास विभाग, जेएसएलपीएस खूंटी के सहयोग से ग्राम तेरम की तेरम आजीविका महिला ग्राम संगठन की महिलाओं के साथ लाह चूड़ी बनाने का कार्य प्रारंभ किया गया। वहां की महिलाएं सखी मंडल से बैंक से कैश क्रेडिट लोन (सीसीएल) लोन लेकर लाह चूडी निर्माण का कार्य कर रही है। इससे जीविकोपार्जन के लिए सही दिशा मिलती है। ग्राम-तेरम की तेरम आजीविका महिला ग्राम संगठन में कुल 30 सदस्य हैं। ये प्रतिदिन 8 से 10 घंटे कड़ी मेहनत कर चूड़ी का निर्माण कार्य कर रही है। इन्हें इस कार्य के उन्हें मुफ्त प्रशिक्षण भी दिया गया है। साथ ही बैंक की ओर से 50,000 रुपये का कैश क्रेडिट लोन तथा स्वयं के द्वारा 10,000 रुपये की पूंजी निवेश कर इन्होंने अपना लाह चूड़ी बनाने का कार्य प्रारंभ किया है। जिसमें उन्हें अत्यधिक लाभ प्राप्त हो रहा है, साथ ही स्वरोजगार की दिशा एक सक्रिय कदम बढ़ा कर इनकी मासिक आमदनी का बेहतर स्त्रोत भी है।