कल से पूर्वाह्न 8 बजे से 11 बजे तक ही खुली रहेंगी जरूरत की दुकानें- उपायुक्त

सोशल डिस्टेंश का पालन करना आवश्यक- उपायुक्त

खूँटी । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के रोकथाम व बचाव के लिए झारखंड राज्य में लॉक डाउन की घोषणा की जा चुकी है। ताकि कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सके। ऐसा देखा जा रहा है कि लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और सड़कों पर बिना किसी आवश्यक कारण के इधर उधर घूमने का प्रयास कर रहे हैं, जो कि वर्तमान में स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिकोण से उचित नही है।   इन परिस्थितियों को देखते हुए दुकानों के खुले रहने की अवधि को कम करने का निर्णय लिया गया है, ताकि लोग अपने घरों से ज्यादा बाहर न निकलें एवं कोरोना के प्रसार पर रोका जा सके। आवश्यक सामग्री के रूप में चिन्हित सभी खाद्यान्न के दुकानें यथा- खाद्य पदार्थ से संबंधित दुकान राशन दुकानें, फल-सब्जी, दूध व जरूरत के समान की दुकाने एवं प्रतिष्ठान 31 मार्च तक प्रातः 8.00 बजे से 11.00 बजे तक हीं खुली रहेंगीं। इस अवधि में सभी लोगों को अपने आवश्यकता के अनुसार सामानों का क्रय कर लेना है।  भारत में कोविड- 19 के संभाव्य प्रसार को देखते हुए झारखंड में इसके प्रसार को रोकने के लिए कड़े कदम एवं सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों को अपनाना उचित व आवश्यक हो गया है।

इसलिए उन्होंने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा कि सोशल डिस्टेंश का कड़ाई से अनुपालन करें, कहीं भी पांच लोग से ज्यादा जमा नहीं होने के साथ भीड़-भाड़ वालें ईलाकों को पूर्णतः बंद कर अनुमति दी है।  साथ हीं उन्होंने जानकारी दी कि लाॅक डाउन के दरम्यान स्वास्थ्य, चिकित्सा व दवाई दुकान 24 घंटे खुले रहेंगे। आवश्यकता है कि लोग पूर्ण रूप से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। इस महामारी से बचाव के लिए अपने घरों में ही रहें तथा सतर्कता व सावधानी से बचाव सम्भव है। 

लॉक डाउन के पूर्ण अनुपालन के लिए जिला प्रशासन की टीम द्वारा लगातार निगरानी की जा रही है। विशेष निगरानी टीम कार्यपालक दण्डाधिकारियों व पुलिस दल के साथ जिले के विभिन्न चौराहों, मोहल्लों व गलियों में घूम-घूम कर लोगों को लॉक डाउन का पूर्ण अनुपालन करने के सम्बंध में निरीक्षण किया जा रहा है। साथ ही अनावश्यक रूप से कोई दुकाने खुली ना हो व लोग बिना किसी महत्वपूर्ण काम के सड़क पर ना निकलें हो इस सम्बंध में आवश्यक निगरानी रखी जा रही है। मौके पर लोगों को जागरूक किया जा रहा है कि वह अपने घरों में ही रहें और जरूरत पड़ने पर ही अपने घरों से बाहर निकलें।  इसके साथ ही जागरूकता वाहन के माध्यम से जिला अंतर्गत जगह-जगह आमजनों से घरों में रहने की अपील की जा रही है। इस दौरान लोगों को सन्देश दिया गया कि वैश्विक महामारी घोषित कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राज्य सरकार के आदेशानुसार पूरे जिले को 31 मार्च तक पूर्णतया तालाबंदी/लॉकडॉउन किया गया है। तथा जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। जागरूकता वाहन के माध्यम से लोगों को जानकारी दी गई कि स्वच्छता, सतर्कता एवं सावधानी बरतें, यही इसका बचाव है। सोशल डिस्टेंसिंग रखें, लोगों से दूरी बनाए, पांच या उससे अधिक व्यक्ति एक जगह इकट्ठा न हो, भीड़ वाले इलाकों में जाने से बचें, ताकि इस महामारी के संक्रमण को फैलने से रोका जा सकें। साफ सफाई का ध्यान रखें, अपने हाथो को बार बार साबुन या सैनिटाइजर से साफ करते रहें, घर की नियमित सफाई करें, खांसते एवं छिकते समय अपने बाह, रुमाल अथवा टिशू पेपर का इस्तेमाल करें, ताकि यह बीमारी अन्य लोगों प्रभावित न कर सकें। जागरूकता वाहन के माध्यम से लोगों को बताया गया कि इस बीमारी से घबराने की जरूरत नहीं है, संयम और संकल्प के जिला प्रशासन का सहयोग करें।