बिजली विभाग के बिरोध में जिला कांग्रेस का जगन्नाथपुर प्रखंड कार्यालय के समक्ष धरना प्रदर्शन आज



मामला जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में अनियमिता बिजली आपुर्ति व बिजली मरम्मत के नाम पर हुए लूट खसोट व जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र का अलग फीडर निर्माण की मांग को लेकर



बिजली विभाग शहरी क्षेत्र के लिए प्रतिदिन दिन में डेढ़ मेगावट व रात में दो मेगावट देती है सफ्लाई तो कहां आंपूर्ति होती है बिजली


जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र के लोगों को तीन तीन दिन तक अंधेरा में गुजारनी पड़ती है रातें


चाईबासा।।जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में बिजली विभाग के निषक्रियता को देखते हुए और शहरी क्षेत्र में अनियमित्ता बिजली आपूर्ति व संवेदक धन्नजय सिंह व तत्कालिन बिजली विभाग के जगन्नाथपुर अनुमंडल के एसडीओ के बिरोध में पांच सूत्री मांगों को लेकर बुधवार को जिला कांग्रेस के प्रधान महासचिव नहाज हुसैन के नेतृत्व में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन जगन्नाथपुर प्रखंड कार्यालय के समक्ष दिया जायेगा.इस दौरान जगन्नाथपुर वासी काफी संख्या में जुटेगें.ज्ञांत हो बिजली विभाग के बिरोध में पिछलें कई दिनों जिला कांग्रेस के बैनर तले पांच सुत्री मांग को लेकर नुकड़ सभा, जगन्नाथपुर बंद आदी जैसे बिरोध प्रदर्शन किये जा रहें है.उसके वाबजूद इस ओर बिजली विभाग और जिला प्रशासन भी कोई कारगार कदम नहीं उठा रही है.और ना ही घोटाले बाज बिजली विभाग के संवेदक व तत्कालिन एसडीओ के बिरूद्व कार्रवाई की जा रही है. वहीं अब चरमराती बिजली व्यवस्था के बिरूद्व सड़क जाम करने की भी चेतावनी दी जा रही है.मालुम हो कि  रविवार के शाम से जगन्नाथपुर के शहरी क्षेत्र में बिजली की आंख मिचौली का खेल शुरू हो गया है.रूक रूक कर तीन चार घंटे बाद बिजली दी जा रही है.एक तो चिलचिलाती गर्मी व वुमश भरी गर्मी से लोग परेशान उस पर बिजली बिभाग का ये ड्रामा. हलांकि जगन्नाथपुर के शहरी क्षेत्र के लिए यह आम बात हो गई है.हवा चले या बरसा ना भी हो तो तीन तीन दीन तक जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में बिजली गाईब रखने का खेल जारी रहता है. वहीं बिजली विभाग के पास एक जुमला रहता है क्या करें मिस्त्री काम कर रहा है फॉल्ट नहीं मिल रहा है जैसे ही फॉलट मिलेगा बिजली आ जायेगी.इसी तरह के बिजली विभाग के बहाने बाजी से महिने में पंद्रह दीन प्रयाप्त बिजली मिल पाती जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र के लोगों को. ज्ञांत हो कि जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में अलग फीडर नहीं होने के कारण यह समस्या आये दीन हो रही है.शहरी क्षेत्र में बिजली आपुर्ति ग्रामीण क्षेत्र के फीडर से की जाती है.मजे की बात तो यह है कि जब तेज हवा और पानी भी होता है तो ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली रहती है,लेकिन जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में बिजली गाईब हो जाती है.इस मामले को लेकर जब बिजली विभाग के कनिय अभियंता और एसडीओ से संपर्क किया जाता है तो कहा जाता है कि लाईन में खराबी आ गई है.तो कभी तार जल जाने और तार तूट जाने के कारण यह समस्या होती है.मगर मिस्त्री काम कर रहें है फाल्ट नहीं मिल रहा है.नये लोग है.लेकिन बिजली विभाग के द्वारा ग्राहकों को हर महिन समय पर बिजली बिल भुगतान के लिए थमा दी जाती है.मगर बिजली विभाग अपने लचर व्यवस्था को दुरूस्त करने का नाम नहीं लेते है.जिसका खामियाजा क्षेत्र के लोगों को भुगतना पड़ रहा है.बिजली नहीं होने के कारण सरकारी कार्य के साथ साथ बच्चों की पढ़ाई भी बाधित हुआ करता है. वैसे तो जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र में कुल करीब 13 सौ उपभोक्ता है.और विभाग द्वारा इन क्षेत्रों में प्रयाप्त बिजली आप्रुर्ति के लिए दिन में डेढ़ मेगा वट तथा रात में दो कमेगावट बिजली दी जाती है प्रतिदिन.लेकिन शहरी क्षेत्र की बिजली काट कर ग्रामीण क्षेत्र में अधिक बिजली आपूर्ती की जाती है.


चार साल से अधर में पड़ा है जगन्नाथपुर शहरी क्षेत्र के बिजली आपूर्ति करने वाली अलग फीडर का निर्माण कार्य.बीस प्रतिशत कार्य कर निकाल लिया गया सवेदक द्वारा राशी.


तार व पोल तथा ट्रास्फर्मर में सूईच लगाने के नाम पर 18 लाख रूपये.


बिजली बिल में हुए अत्यधिक कर, संवेदक और तत्कालिन विभाग के एसडीओ के बिरूद्व कार्रवाई की मांग आदी.