लातेहार--कैसे होगा गाँवो का विकास जब सड़क ही जर्जर हालत में है।

*कैसे होगा गाँवो का विकास जब सड़क ही जर्जर हालत में है।*

*लातेहार के कढ़ीमा गांव में सिर्फ़ विकास का छलावा।*



*लातेहार*

*राजा कंचन का स्पेशल रिपोर्ट*

*कहा जाता है कि किसी गाँव का विकास उसके सड़क की स्थिति से होती है, लेकिन जब सड़क ही हो बीमार(जर्जर) स्थिति में तो गांव का विकास के बारे में कल्पना करना विरोधाभास होगा।*

*ना जाने कितने अधिकारी, विधायक आये और बदल गए लेकिन नहीं बदला तो  सदर प्रखंड के पाण्डेयपुरा से कढि़मा, ख़ैराटोली जाने वाला सड़क।*

*जी हाँ यह सड़क वर्षों से अपने हालात में ही है।*

*ग्रामीणों का कहना है कि पत्थरों से भरे इसी सड़क से कढीमा, ख़ैराटोली, व अन्य गांवों के लोग प्रतिदिन गुजरने के मजबूर हैं। दिलचस्प बात यह है कि कढ़ीमा के  कई वार्ड सदस्यों ने इस समस्या से कन्नी काटने लगे हैं।* *स्थानीय मुखिया का भी इस समस्या में कोई अता पता नहीं है।*

*ग्रामीणों ने अपने बल पर कई बार प्रशासनिक पदाधिकारियों सहित स्थानीय विधायक से भी सड़क निर्माण कराने की गुहार लगा चुके हैं लेकिन मिलता है सिर्फ़ आस्वासन,और  कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाते।*


विधायक के आने पर 2,4 स्वार्थी तत्व के ग्रामीण  हो जाते विकास बाधक*

*स्थानीय विधायक गाँव मे करीब 3 बार आ चुके हैं। लेकिन सिर्फ़ आश्वासन देकर निकल लेते हैं। वहीं 2 ,4 स्वार्थी तत्व के ग्रामीण अपने घर मे स्थानीय विधायक को अपने घर के दामाद के जैसे बहुत बड़े आभार प्रकट करने लगते हैं। जबकि बाकी सभी ग्रामीण चाहते हैं कि विधायक के आने पर उनसे सवाल किया जाय , सड़क निर्माण करवाने के लिए बाध्य किया जाय।*


इसका नतीजा है कि सड़क पूरी तरह से गड्डे में तब्दील हो गई है। ग्रामीणों ने फिर से उपायुक्त राजीव कुमार से सड़क निर्माण करवाने की मांग की है।


आप भी देखिए सड़क का हाल