शाहिद होने की ख़बर मिलते ही घर में चित्कार मच गया।17 साल की बहन भईया हो भईया व 65 वर्ष की माता बबूआ हो बबूआ कह कर चित्कारे मार कर रो रोने लगे

शाहिद होने की ख़बर मिलते ही घर में चित्कार मच गया।17 साल की बहन भईया हो भईया व 65 वर्ष की माता बबूआ हो बबूआ कह कर चित्कारे मार कर रो रोने लगे

पलामूः- बुढ़ा पहाड़ पर नक्सलियों द्वारा पुलिस वाहन को उड़ाये जानेकी घटना में सात जवाना के शहीद होने में एक जवान कुंदनकुमार सिंह हुसैनाबाद थाना के कुरमीपुर पंचायत अंतर्गतगम्हर बिगहा के निवासी है। गम्हर बिगहा गांव जिलामुख्यालय डालटनगंज से करीब 75 किलो मीटर दूर जपला-छतरपुर मुख्य पथ पर स्थित है। कुंदन कुमार सिंह के शहीद होने की खबर हुसैनाबाद के पुलिस कर्मियों ने दी, तो घर मेंचित्कार मच गया। 17 साल की बहन भईया हो भईया व 65 वर्ष की माता बबूआ हो बबूआ कह कर चित्कारे मार कर रोरही हैं। 70 वर्षीय पिता सुरेश सिंह नम आखें लिये असहायकी तरह अपने पुत्र के पार्थिव शरीर को आने का इंतेजार कररहे हैं। चचा व घर के सभी बड़े बच्चे भी दरवाजा पर नमआंखें लिये बैठक हैं। डीएसपी मनोज कुमार महतो व थानाप्रभारी रास बिहारी लाल ने शहीद कुंदन कुमार सिंह के घर पहुंचकर परिजनों को ढ़ाढस बंधाया। उन्होंने परिवार को हरसंभव मदद का आश्वाशन भी दिया। उन्होंने बताया कि सरकारी प्रावधान के तहत मुआवजा व नौकरी की प्रक्रिया उच्चाधिकारियों के निर्देश पर जल्द शुरू की जायेंी। डीएसपी ने परिजनो को शहीद का पार्थिव शरीर लाने के लिएरांची भेजने की व्यवस्था की। कुंदन कुमार सिंह वर्श 2014 में झारखंड शसस्त्र पुलिस में बहाल हुए थे। उन्हें प्रशिक्षण केउपरांत 2018 में ही जगुआर एसटीएफ में पदस्थापित कियागया था। उनकी शादी नहीं हुई है। परिजनो ने बताया कि बातचल रही थी। जल्द ही षादी की तैयारी थी। मगर मालिक कोमंजूर नहीं था।