टाटा स्टील ने नोआमुडी मे ं समुदाय को समर्पित किया एक फुटवियर अपसाइक्लिंग सेंटर

टाटा स्टील ने नोआमुडी मे ं समुदाय को समर्पित किया एक फुटवियर अपसाइक्लिंग सेंटर 


संतोष वर्मा। समाज की भलाई करने की अपनी प्रतिबद्धता को आगे ले जाते हुये, टाटा स्टील ने आज नोआमुंडी में ‘फीट फर्स्ट-नोआमुंडी फुटवियर अपसाइक्लिंग सेंटर‘ का शुभारंभ किया। सुश्री पूनम चौधरी, टाटा स्टील में वाइस प्रेसिडेंट- रॉ मैटेरियल्स श्री चाणक्य चौधरी की पत्नी इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि मौजूद थीं। ‘फीट फस्टर्‘ एक फुटवियर अपसाइक्लिंग सेंटर हैं जहां लोग सभी आकार एवं प्रकार के अपने बेकार फुटवियर को दान कर सकते हैं। इसके बाद यह सेंटर उन फुटवियर को मामूली कीमत में बेचनने के लिए रिफर्बिश करेगा। यह अपनी तरह की अनूठी पहल है जिसे ग्रीनसोल और लायंस क्लब ऑफ नोआमुडी के सहयोग में लाया गया है। टाटा स्टील नोआमुडी मे अपनी ‘बेस्ट ऑफ ऑफ वेस्ट‘ पहल को आगे बढ़ाने के लिए अपनी ओर से सभी बेहतरीन प्रयास कर रही है। इस अवसर पर सुश्री चौधरी ने कहा : ‘‘एक साधारण सा नेक कार्य हजारों जिंदगियों को प्रभावित कर सकता है। ‘फीट फर्स्ट‘ टाटा स्टील एव ं ग्रीनसोल की एक अद्भुत पहल है। यह न सिर्फ बेकार फेंक दिये गये सामानों को अपसाइकल करने के बारे में जागरुकता पैदा करेगी बल्कि लोगों को एक सामाजिक सरोकार में योगदान देने के लिए भी प्रेरित करेगी।‘‘ अपनी खुश जाहिर करते हुये श्री श्रियांस भडारी, सह-संस्थापक, ग्रीनसोल ने कहा, ‘‘मैं टाटा स्टील का शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने हमारे आइडिया में विश्वास किया। इससे जरूरतमंद लोगों को उनकी गरिमा बरकरार रखते हुये फुटवियर मुहैया कराये जायेंगे।‘‘ 1500 वर्ग फीट के क्षेत्र में निर्मित इस सेंटर में डाईज, क्लिकिंग मशीन, सोल प्लैटिंग मशीन, हीटिंग मशीन, ग्राइंडिंग मशीनें और सिलाई मशीनें मौजूद हैं जिनकी लागत लगभग 28 लाख रूपये है। यहां हर महीने लगभग 1000 से 1500 फुटवियर को स्लिपर्स में तैयार किया जायेगा। फुटवियर की अपसाइकलिंग के अलावा, यह सेंटर नोआमुंडी में और इसके आसपास के इलाकों में इच्छुक लोगों को कौशल विकास प्रशिक्षण भी देगा। यह पहल स्थायी, समावेशी एवं सतत आर्थिक विकास, पूर्ण एवं उपयोगी रोजगार और सभी के लिए गरिमामयी कार्य को बढ़ावा देने के सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल 8 को लक्षित करती है। ग्रीनसोल के विषय मे ग्रीनसोल मुंबई स्थित संगठन है जोकि सामाजिक भलाई में योगदान करता है। इसके द्वारा सेल्फ-सस्टेनिंग आधारभूत संरचना का निर्माण किया जाता है जोकि सभी के लिए हमेशा फुटवियर की बुनियादी आवश्यकता के प्रावधन को बढ़ावा देता है। यह बेकार जूतों को रिफर्बिश करके जीरो कार्बन फुटप्रिंट के साथ पर्यावरण की भलाई करता है तथा शूज को रिफर्बिश करने के लिए लोगों को नौकरी देकर आर्थिक भलाई में भी योगदान देता है।  टाटा स्टील के विषय मे ं :टाटा स्टील ग्रुप दुनिया की शीर्ष स्टील कंपनियों में से एक है। 31 मार्च 2018 को टाटा स्टील की कच्च े स्टील के उत्पादन की सालाना क्षमता (एमटीपीए) 27 मिलियन टन थी। यह भौगोलिक लिहाज से विश्व का दूसरा सबसे बड़ा विविधतापूर्ण स्टील उत्पादक है। टाटा स्टील का संचालन 26 देशों में होता है। 50 से ज्यादा देशों में टाटा स्टील ने व्यावसायिक मौजूदगी दर्ज कराई है। वित्त वर्ष 2018 में कंपनी ने 20.41 बिलियन डॉलर (133,016 करोड़ रुपये) का संयुक्त टर्नओवर दर्ज कराया। टाटा स्टील ग्रुप का कारोबार पांच महाद्वीपों में फैला हुआ है। टाटा स्टील के कर्मचारियों की संख्या 74 हजार के करीब है। टाटा स्टील ने 2018 में इंडस्ट्री के लीडर का दर्जा बरकरार रखा है और समग्र रूप से डीजेएसआई एसेसमेंट, 2017 में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। कंपनी की पहचान सीडीपी (2017) ने स्टील कैटेगरी में क्लाइमेट डिस्क्लोजर लीडर के तौर पर की है। इसके अलावा वर्ल्ड स्टील क्लाइमेट एक्शन प्रोग्राम का सदस्य होने के नाते टाटा स्टील को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है, जिसमें 2014-15 और 2015-16 का बेस्ट परफॉर्मिंग इंटिग्रेटेड स्टील प्लांट के लिए प्रधानमंत्री ट्रॉफी शामिल है। टाटा स्टील को 2018 में सीएनबीसी टीवी 18 की ओर से बेस्ट रिस्क मैनेजमेंट का पुरस्कार दिया जा चुका है। 2018 में मिंट की ओर से टाटा स्टील को कॉरपोरेट स्ट्रैटेजी अवॉर्ड भी दिया गया। कंपनी को 2018 में छठी बार एथिस्फीयर इंस्टिट्यूट की ओर से “मोस्ट एथिकल” कंपनी का पुरस्कार भी दिया जा चुका है। टाटा स्टील को वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन की ओर से 2017 में स्टील सस्टेनेबिलिटी चैंपियन पुरस्कार, 2017 और 2018 में डन एंड ब्रैडस्टीट कॉरपोरेट अवॉडर्स, 2017 में इंस्टिट्यूट ऑफ डायरेक्टर्स की ओर से गोल्डन पीकॉक एचआर एक्सिलेंस अवार्ड और 2017 में एशिया सस्टेनेबिलिटी रिपोर्टिंग अवॉडर्स की ओर से एशिया बेस्ट इंटिग्रेटेड रिपोर्ट अवॉर्ड समेत कई पुरस्कारों से नवाजा जा च ुका है।  डिस्क्ल ेमर इस प्रेस रिलीज में कंपनी की परफॉर्मेंस का वर्णन करने वाले बयान इस समय व्यावाहरिक तौर पर लागू प्रतिभूति के नियम-कायदों के संदर्भ में भविष्य को ध्यान में रखकर दिए बयान हो सकत े हैं। वास्तविक नतीजे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से व्यक्त, अनुमानित या निहित बयानों से भिन्न हो सकते हैं। मांग पर प्रभाव डालने वाले आर्थिक हालात, घरेलू बाजारों के साथ विदेशी बाजारों में मांग व आपूर्ति के तरीकों और कीमतों में अंतर होने, माहौल में आए बदलाव, सरकार के नियम, कानून, विधान, न्यायिक घोषणाओं या अन्य प्रासंगिक कारकों की वजह से अलग-अलग जगहों पर कंपनी के संचालन और कामकाज के तरीकों में