*मामा ने दान में पुरी पढ़ाई का उठाया खर्च , भांजा ओमप्रकाश बन दिखाया एसआई--

संघर्ष करने से हस्तरेखा भी बदल सकता है , जब एक गरीब किसान का लड़का भी एसआई बन जाता है ।

संवाददाता-विवेक चौबे*

गढ़वा::  कांडी - प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत खुटहेरिया पंचायत के ग्राम-गरदाहा(चौहान टोला) निवासी अजय चौहान,माता जी-शिला देवी के पुत्र-ओमप्रकाश चौहान झारखण्ड में एसआई पद पर नियुक्त हुए हैं।यह खबर सुन गांव के  सभी लोगों में खुशी का लहर दौड़ गया । वहीं नवयुवकों ,उनके परिवार,उनके दोस्तों में भी खुशी की लहर दौड़ गई। ओमप्रकाश चौहान गरीब होने के बावजूद भी इनकी कड़ी मेहनत इनके जीवन मे एक नई रंग ला दी। इन्होंने बताया कि प्रत्येक नवयुवकों को कड़ी से कड़ी मेहनत करनी चाहिए,जिससे समाज,राज्य में अपना नाम के साथ-साथ एक नई दिशा भी प्राप्त हो सके।ओमप्रकाश कुमार चौहान की शैक्षणिक योग्यता-मैट्रिक,गरदाहा हाई स्कूल से,इंटर व ग्रेजुएशन गढ़वा से, के साथ साथ धनबाद में डिप्लोमा(मेकेनिकल इंजीनियरिंग) करने के दौरान ही इनके भाग्य बदल गए।इन्होंने बताया कि इनकी शिक्षा,एसआई पद हासिल का श्रेय मामा, नाना और इनकी परिवार की है।हालाकि इन्होंने निर्धन परिवार से होने के बावजूद भी संघर्ष जारी रखा।इन्होंने अपनी पढ़ाई-लिखाई अपने मामा के पूर्ण सहयोग से की।इनके दो भाई व एक बहन है।इन्होंने पटना में रहकर परिक्षा की तैयारी कि।इनके मामा की अहम भूमिका अपने भांजे के जीवन के लिए है।मामा ही पढ़ाई- लिखाई के खर्चे का जिम्मा ले रखे थे।इनके मामा-श्रीकांत चौहान,नवगढ़,पांडु,पलामू निवासी जो सेल में इंजीनियर हैं।साथ ही इनकी पढ़ाई-लिखाई इंटर तक घर से ही हुई।इन्होंने बताया कि शाइनिंग फ्यूचर कोचिंग सेंटर के शिक्षक-रवि कुमार सिंह ने ही इन्हें प्ररित किया था।पढ़ाने के अलावे उन्होंने ही नौकरी प्राप्त करने के लिए उकसाया था।राशेन्द्र प्रताप सिंह शिक्षक ने भी इन्हें कड़ी मेहनत करने की सलाह दी थी।इनके सबसे अच्छे मित्र-महेंद्र कुमार हैं।उन्होंने भी सदैव अच्छी सलाह दी है।