मामूली विवाद में सगे भाई ने ससुर व साल के साथ मिल कर दो भाइयों की कर दी हत्या ,एक भाई व माँ ने भाग कर बचाई जान

पलामू,   श्रवण कुमार

बिश्रामपुर

> घटना विश्रामपुर थाना क्षेत्र के कौड़िया गांव का,तीन आरोपी गिरफ्तार,एक फरार 

यह भी पढ़े:जल्द चालू होगी जपला सीमेंट कारखाना

मामूली विवाद में सगे भाई ने श्वशुर व साले के साथ मिलकर दो सगे भाइयों की तेजधार हथियार से मारकर हत्या कर दी.जबकि एक भाई और माँ को गंभीर रूप से घायल कर दिया.पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.जबकि घटना का मुख्य सूत्रधार भाई फरार है.घटना विश्रामपुर थाना क्षेत्र के कौड़ियां गांव का है.मिली जानकारी के अनुसार कौड़िया गांव निवासी बंधु यादव के पांच बेटे है.इसी वर्ष बंधु यादव ने अपनी बेटी की शादी की थी.शादी में एक लाख 25 हजार रुपये कर्ज हो गया था.पंचायत में निर्णय लिया गया था कि पांचों भाई 25-25 हजार जमा कर कर्ज चुकता करेंगें. लेकिन एक भाई गोविंद यादव को यह फैसला मंजूर नही था.उसने पैसा देने से मना कर दिया.गोविंद द्वारा पैसा नही देने के बाद बंधु यादव व उसके चार बेटों ने गोविंद को उसके हिस्से की जमीन नही जोतने दिया.सोमवार को गोविंद के श्वशुर अमृत यादव,साला नारद यादव व ललन यादव कौड़िया पहुंचे.इन लोगो ने बंधु यादव के बेटों से जमीन छोड़ने को कहा.इसी बात पर दोनों ओर से नोक-झोंक शुरू हो गयी.इसी बीच गोविंद यादव उसका श्वशुर अमृत यादव व साला नारद यादव और ललन यादव ने तेजधार हथियार से हमला कर दिया.जिससे रघुरायी यादव (35) व ददई यादव (26) का सर धड़ से अलग हो गया.और दोनों की मौत घटना स्थल पर ही हो गयी.जबकि इस हमले में श्रवण यादव व उसकी माँ मूर्ति देवी गंभीर रूप से घायल हो गयी.घायल स्थिति में दोनों को विश्रामपुर सामुदायिक स्वस्थ्य केंद्र लाया गया.जहां प्राथमिक इलाज के बाद बेहतर इलाज हेतु दोनों को मेदिनीनगर सदर अस्पताल भेज दिया गया.घटना सोमवार के दिन 12:30 बजे की है.इधर घटना की सूचना मिलते ही विश्रामपुर थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे.पुलिस ने शव को कब्जे में कर  पोस्टमार्टम हेतु मेदिनीनगर भेज दिया.पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त हथियार बरामद कर लिया है.हत्या में शामिल अमृत यादव,ललन यादव व नारद यादव को गिरफ़्तार कर लिया है.तीनो गिरफ़्तार आरोपी नवाबजार थाना क्षेत्र के कुंभी गांव के रहने वाले है.जबकि गोविंद यादव फरार हो गया है.समाचार लिखे जाने तक प्रथमिकी दर्ज नही हो पाई थी.