बड़ी ख़बर:एक ही परिवार के 6 लोगो ने की आत्म हत्या,कर्ज व दुकान बंद होने के कारण उठाया कदम

*एक ही परिवार के छह सदस्यों की मौत, दो फांसी पर झूले, तीन की धारदार हथियार से हत्या, एक छत्त से कूदने से मौत का कयास।*

झारखंड-हजारीबाग         

           Hazaribagh : अभी लोग दिल्ली में हुए बुराड़ी कांड से बाहर भी नहीं निकले थे कि हजारीबाग में भी वैसी घटना देखने को मिली है. जहां एक व्यक्ति ने अपनी मां, पिता, पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर दी और बाद में खुद भी घर की छत से कूदकर जान दे दी. जिस व्यक्ति ने पूरी घटना को अंजाम दिया उसका नाम नरेश माहेश्वरी है. घटना हजारीबाग के सदर थाना क्षेत्र स्थित मुनगा बगीचा के खजांची तालाब के पास की बतायी जा रही है.

  क्या है पूरी घटना

शहर के सीबीएम अपार्टमेंट के तीसरे तल्ले के 303,304 फ्लैट नंबर में नरेश माहेश्वरी अपने पूरे परिवार के साथ रहता था. परिवार में उसकी मां, पिता, पत्नी और दो बच्चे थे. घटना के बारे में बताया जा रहा है कि नरेश ने अपने 70 साल के पिता महावीर माहेश्वरी, मां (65वर्ष) किरण देवी,  पत्नी नीता देवी को फांसी के फंदे पर लटका कर मार डाला. साथ ही उसने अपनी बेटी अन्वी की गला घोंटकर और बेटे का गला रेतकर हत्या कर दी. सभी को मारने के बाद नरेश खुद भी घर की छत से कूदकर अपनी जान दे दी.

        मौत से पहले छोड़ा सुसाइड नोट

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची. मौके पर पहुंचे डीएसपी ने बताया कि नरेश के घर से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है. जिसमें घटना के बारे में बतया गया है. साथ ही घटना के कारणों का भी जिक्र किया गया है. सुसाइड नोट में लिखा है कि नरेश कर्ज में डूब गया था. साथ ही उसका कारोबार भी सही से नहीं चल रहा था कि वह लोगों का कर्ज चुका सके. कर्ज से परेशान होकर उसने ऐसा कदम उठाया है. गौरतलब है कि 50 लाख के कर्ज में डूबा था नरेश माहेश्वरी का पूरा परिवार. नरेश का ड्राई फ्रूट्स का पुश्तैनी धंधा था. वहीं दो महीने से दुकान भी बंद था.

         क्या कहना है स्थानीय लोगों का

नरेश माहेश्वरी के एक पड़ोसी कुलदीप कृष्णा ने बताया कि सुबह उसकी मां ने उसे नींद से जगाया और कहा कि नरेश महेश्वरी नीचे गिरा हुआ है लगता है बेहोश पड़ा है. हमने आकर देखा तो उसकी सांसे नहीं चल रही थी वह मृत पड़ा हुआ था. जिसके बाद हमने उनके रिश्तेदार को इस बात की सूचना दी साथ ही पुलिस को भी घटना के बारे में बताया. बाद में हमने देखा की पूरा परिवार ही मृत पड़ा है. परिवार में कुल छह सदस्य थे.