बटौवा गांव से पिता.पुत्र का अपहरण एक लाख रुपये की फिरौती लेकर छोड़ा पुलिस ने मुख्य आरोपी को किया गिरफ्तार

                          बटौवा गांव से पिता.पुत्र का अपहरण

  एक लाख रुपये की फिरौती लेकर छोड़ा  पुलिस ने मुख्य आरोपी को किया गिरफ्तार

यह भी पढ़े बंद करो झोला छाप अस्पताल,महिलाओं के साथ चिकित्सक कर रहे अत्याचार, वर्णा झामुमो

पलामूः हुसैनाबाद अनुमंडल के मोहम्मदगंज थाना क्षेत्र के बटौवा गांव से बीति रात नरेश चैहान व उनके पुत्र जीतू चैहान का बंदूक की नोक पर अपहरण कर उन्हें मारा पीटा गया। उन्होंने जब कुसूर पूछा तो अपहरणकर्ताओं ने कहा कि तुमलोग टीपीसी का मदद करते हो। जीतू चैहान ने बताया कि घर के लोग खाना खाने बैठे ही थे की  बंदूक से लैस तीन लोग आंगन में आये।एक अन्य बाहर था। उन्होंने बंदूक सटाकर चलनें को कहा। वह दोनो को जंगल की ओर पीटते हुए लेगये। जाने के क्रम में उन्होंने कहा कि तुम लोग टीपीसी का मदद करते हो। पीटने के बाद नरेश चैहान को मुक्त करते हुए बोला की एक लाख रुपया लेकर आओए वर्ना जीतू चैहान को मार देंगे। नरेश चैहान रात्री में ही एक लाख रुपया इधर उधर से जुगाड़ कर उन्हें दिया। तब उन्होंने जीतू चैहान को मुक्त किया। पिता .पुत्र दोनो के षरीर पर चैट के निशान हैं। इस संबंध में भुक्त भोगी ने पुलिस को सूचना नहीं दी है। घटना की सूचना सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आई है। मोहम्मदगंज थाना के आदेश पर चैकिदार नरेश चैहान को लेकर थाना पहुंचे है। उनसे मामले की जानकारी ली गई। हुसैनाबाद के एसडीपीओ के मोहम्मदगंज पहुंचने पर आगे की कार्रवाई की जायेगी। इस घटना से आस पास के गांव में एक बार फिर दहशत का माहौल बन गया है। जबकि आस पास के गांव में यह चर्चा है कि घटना का कारण काशी सोत डैम में मछली को लेकर भी हो सकता है। हुसैनाबाद के एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि घटना से दोनो बाप बेटे डरे हुए थे। यही वजह है कि वह मामला दर्ज नहीं करना चाहते थे। पुलिस ने मामले को सत्यापित करने के बाद फर्द बयान पर मामला दर्ज कर घटना के मुख्य आरोपी बटौवा गांव के ही दिलीप चौहान को पुलिस ने गिरफतार कर लिया है। उससे पूछ ताछ की जारही है। एसडीपीओ ने बताया कि दिलीप चौहान टीपीसी के नाम पर काशि सोत डैम में मछली मरवाने का काम करता है। गांव के लोग इससे डरते थे इस लिए किसी ने विरोध नहीं किया। उन्होंने बताया कि दिलीप ने ही अन्य तीन को अपहरण कर पैसा लाने को भेजा था। जिसे नरेश व उसका पुत्र नहीं पहचानता है।