पलामू की महत्वपूर्ण खबरे एक क्लिक में देखे ----कुख्यात उग्रवादी गुड्डु यादव रांची से गिरफ्तार

कुख्यात उग्रवादी गुड्डु यादव रांची से गिरफ्तार 

डालटनगंज 24 सितंबर: प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन टीपीसी का कुख्यात एरिया कमांडर गुड्डु यादव उर्फ निर्भय जी उर्फ धर्मदेव यादव उर्फ अमित यादव को रांची के रातू रोड स्थित एक मकान से गिरफ्तार कर लिया। यह उग्रवादी पलामू पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ था और करीब दो दर्जन अपराधिक मामलों में वांछित था। पलामू पुलिस इसको कई दिनों से तलाश कर रही थी, इस उग्रवादी पर पलामू पुलिस ने दो लाख रूपये का ईनाम भी प्रस्तावित किया था। उग्रवादी गुड्डु यादव मूल रूप से पलामू जिले के हरिहरगंज थाना क्षेत्र के अनधारी बाग का रहने वाला है। इसके पिता का नाम प्रेमन यादव है। यह बिहार के कई कांडों का भी वांछित अभियुक्त है। 

पलामू के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने आज पत्रकारों को इस उग्रवादी की गिरफ्तारी के बारे में खुलासा करते हुए कहा कि टीपीसी से पहले यह भाकपा (माओवादी) संगठन में था ।यह वर्ष 2001 में गिरफ्तार भी हो चुका है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों विश्रामपुर के नौगढ़ा में प्रदेश के मंत्री सीपी सिंह के घर के निकट गुप्तेश्वर सिंह के मकान पर इसने गोलीबारी की थी। 

घटना के बारे में जानकारी मिली थी कि गुप्तेश्वर सिंह का गांव के ही कुछ लोगांे से झगड़ा चल रहा था। उन विरोधियों ने अपनी मदद के लिए उग्रवादी गुड्डु को ‘हायर’ किया था। लेकिन इस घटना में किसी बड़े जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था। एसपी ने बताया कि वर्ष 2008 में माओवादी दस्ते का नेतृत्व करते इसने छत्तरपुर थाना क्षेत्र के खैरादोहर से मुकेश यादव का अपहरण कर उसकी गोली मार कर हत्या कर दी थी। उसी वर्ष फरवरी महीने में देवगन गांव में महाराज पासवान को मारपीट कर घायर कर दिया था। छत्तरपुर स्थित शारदा आॅटो मोबाईल्स के बलदेव यादव की दुकान पर आगजनी और तोड़-फोड़ कांड में शामिल था। 

वर्ष 2008 में हरिहरगंज थानांतर्गत ग्राम सरैया में नदी किनारे एक व्यक्ति की हत्या कर दी थी। पीपरा के संदीप सिंह के घर हमला कर भारी तोड़फोड़ की थी। पीपरा में निर्माणाधीन पंचायत भवन को बम से उढ़ाने में यह शामिल था। वर्ष 2009 में ग्राम खड़कपुर में निर्माणाधीन पंचायत भवन को बम विस्फोट से उढ़ा दिया था। वर्ष 2010 में शिकारपुर गांव के बगल में पुलिस पार्टी पर गोली चलायी थी। पीपरा थानांतर्गत वर्ष 2016 के जुलाई माह में अजनिया गांव में मछली व्यवसायी को पंचालाख रूपया लेवी न देने के कारण मार-मार कर अधमरा कर दिया था। इस तरह की कई वारदातों को अंजाम देते-देते वह गिरिन्द्र जी के दस्ता के साथ लेवी वसूल कर आ रहा था कि पुलिस से सामना हो गया। पुलिस फायरिंग में गिरीन्द्र जी और गुड्डु अपने कई साथियों के साथ भागने में सफल रहा लेकिन पुलिस ने इस दस्ते के शातिर  अपराधी चंदनजी, अमजीत मांझी और पवन गंझु को मार गिराया था। इनके तीन साथी लल्लु सिंह, विकास पासवान और सोनू यादव को पुलिस ने गिरफ्तार  कर लिया था। इस मुठभेड़ में पुलिस ने कई हथियार और लेवी के नाम पर वसूली गई राशि को बरामद किया था। एसपी श्री माहथा ने बताया कि एसटीएफ रांची के डीआईजी साकेत कुमार ंिसंह ने पलामू को सूचित किया कि वांछित अभियुक्त रांची में छिप कर रह रहा है। सूचना प्राप्त होते ही पलामू पुलिस के अधिकारी रांची पहुंचे और एसटीएफ के सहयोग से उसे रांची के रातू रोड स्थित एक मकान से धरदबोचा। 

इस अभियान में एसटीएफ रांची के पुलिस निरीक्षक संजय पासवान, स.अ.नि दिलबहार सिंह, सुनील कुमार दुबे (एस.टी.एफ रांची) के साथ रातू थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर अमोद नारायण सिंह, पु.अ.नि. हेमंत सिंह भोक्ता और पलामू के छत्तरपुर थाना के स.अ.नि रंजीत कुमार दियासी सहित कई पुलिस जवान शामिल थे। प्रेस ब्रीफिंग में छत्तरपुर के अनुमंडलीय पुलिस अधिकारी शंभु सिंह भी उपस्थित थे।


जेपीसी के एरिया कमांडर सहित तीन गिरफ्तार, हथियार बरामद 

डालटनगंज, 24 सितम्बर: नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में पलामू पुलिस को एक बार फिर सफलता मिली है। जिले के मनातू थाना क्षेत्र के मंझौली से मिटार एवं मनातू से मिटार के बीच बन रही सड़क में लेवी वसूलने आए उग्रवादी संगठन जेपीसी के तीन नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया है। नक्सलियों के पास से हथियार और गोलियां भी बरामद की गयी हैं।

जिले के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने जानकारी दी कि गुप्त सूचना मिली थी कि मनातू के फटरिया, डुमरी और सिकदा में जेपीसी के नक्सलियों की चहलकदमी है। जेपीसी का एरिया कमांडर लोकेन्द्र यादव अपने दस्ते के साथ मंझौली से मिटार एवं मनातू से मिटार के बीच बन रही सड़क में लेवी वसूलने पहुंचा है। 

सूचना पर कार्रवाई के लिए टीम बनायी गयी और छापामारी शुरू की गयी। इस दौरान सिकनी गांव पहुंचने पर सिकनी नाला के पास सात-आठ युवक पुलिस को देखकर भागने लगे। पुलिस बल द्वारा उन्हें खदेड़कर पकड़ने की कोशिश की गयी। इस दौरान लोकेन्द्र यादव, प्रमोद यादव और हरजीत कुमार को पकड़ा गया, जबकि पांच नक्सली झाड़ी का फायदा उठाकर भाग निकले। 

उनकी तलाशी लेने पर लोकेन्द्र यादव के पास से एक देसी लोडेड सिक्सर, हरजीत यादव के पास से दो राउंड 7.62 की गोलियां व प्रमोद के पास से दो पीस प्रतिबंधित नक्सली संगठन का पोस्टर बरामद किया गया। लोकेन्द्र और प्रमोद पांकी के केकरगढ़ का निवासी है, जबकि हरजीत मनातू के नागद गांव का रहने वाला है। इनके अलावा दस्ते में लावालौंग निवासी रविन्द्र यादव और गुड्डू कुमार, विशुनदेव यादव, आदित्य यादव, दिनेश यादव शामिल थे।


दंपति ने खाया जहरीला पदार्थ, पत्नी की मौत-पति गंभीर

डालटनगंज, 24 सितम्बर: जिले के लेस्लीगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत कौड़िया-नौडीहा गांव में घरेलू विवाद में एक दंपति ने जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। इस घटना में पत्नी की मौत हो गयी, जबकि पति जीवन और मौत से जूझ रहा है। उसका इलाज सतबरवा थाना क्षेत्र के तुम्बागड़ा नवजीवन अस्पताल में चल रहा है।

जानकारी के अनुसार  

मृतका कुलमति देवी के पिता शिव शंकर यादव ने पति पर हत्या करने का आरोप लगाया है। पीड़ित पिता ने बताया कि 8 महीने पहले की बेटी का विवाह किया था। मेरी बेटी से पहले भी राजेश की दो पत्नियों ने आत्महत्या कर ली थी। कुलमति देवी राजेश की तीसरी पत्नी थी। उसका दामाद शराब का आदी है। नशे में हमेशा कुलमति के साथ मारपीट करता था। उसने शराब के नशे में ही कुलमति की हत्या कर दी और बचने के लिए साजिश के तहत उसने भी जहर खा लिया। 

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल में भेजा। साथ ही मामले की छानबीन में जुट गयी है। 


बैंक आॅफ बड़ौदा में रहस्मय चोरी, बंदूक सहित इलेक्ट्रानिक उपकरण ले गए चोर 

डालटनगंज, 24 सितंबर: पलामू जिला मुख्यालय डालटनगंज स्थित सद्वीक मंजिल चैक के समीप अवस्थित बैंक आॅफ बड़ौदा की डालटनगंज शाखा में हुई चोरी के बाद पुलिस महकमा सकते में है। आज जैसे ही बैंक प्रबंधन ने चोरी की सूचना शहर थाने को दी, पुलिस ने बिना देर किए पुलिस उपाधीक्षक प्रेमनाथ के नेतृत्व में बैंक पहंुच गई।  डीएसपी ने बताया कि शाखा प्रबंधक ने उन्हें जानकारी दी कि जब बैंक का मुख्यद्वार खोला गया तो कुछ सामान इधर-उधर गिरे पड़े थे तथा एक आलमारी टूटी हुई देखी गयी। तुरंत बिना समय गवांये पुलिस को इतला की गयी। 

डीएसपी प्रेमनाथ ने बताया कि चूकिं बैंक में अवकाश पिछले तीन दिनों से था। इसलिए यह चोरी बीती रात हुई या उसके पिछली रात यह कहना संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि बैंक में मुख्यद्वार के आलावे दूसरा कोई द्वार नहीं है, जिससे चोर प्रवेश कर सकंे। इसके अलावा बैंक में छानबीन के दौरान, ऐसा कोई स्थान नहीं दिखा जहां से चोर भीतर प्रवेश कर सके। 

डीएसपी प्रेमनाथ बताते हैं कि छानबीन में बैंक के गार्ड द्वारा अपनी रायफल भी गायब होने की बात बतायी गयी है। गार्ड ने बताया कि वह डयूटी समाप्त कर रात में बंदूक वहीं, बैंक परिसर में रख देते थे, लेकिन शाखा प्रबंधक ने इससे अनभिज्ञता जाहिर की। 

डीएसपी ने बताया कि चोरों ने बैंक में रखी नगदी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है। बैंक में मिलाकर रखे गये चार लाख 62 हजार 976 रूपये सुरक्षित हैं। उन्हांेने कहा कि चोरों ने राउटर, माॅडम एवं इंडक्शन चूल्हा पर हाथ साफ किया है। उन्होंने बताया कि चोर इन सामानों को सीसीटीवी उपकरण समझकर उठा ले गए हैं, ताकि वे पकड़े न जा सके। 

इधर, थाना प्रभारी आनंद मिश्रा जानकारी दी कि पुलिस सभी बिंदुओं पर विचार कर कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि स्ट्रांग रूम का ताला तोड़ा गया है, लेकिन नगद चोरों के हाथ नहीं लगे हैं। बहरहाल, पुलिस चोरों की खोज शीघ कर लेगी। इस घटना के बाद से आज पूरे दिन बैंकिंग कार्य ठप रहा, जबकि कल भी ऐसी स्थिति बनी रहने की संभावना व्यक्त की गयी है।