माकपा ने 10 सूत्री मांगों को लेकर किया एनएच99 जाम


मुख्यमंत्री के पदनाम सौंपे ज्ञापन मे 10 सुञी मांग की गई है, 


चंदवा -- घोषित कार्यक्रम के तहत टोरी रेलवे स्टेशन क्रांसिग परिसर एनएच 99 पर भारत की कम्युनिस्ट पार्टी  (माकपा ) ने जन प्रदर्शन व एनएच 99 पथ को आधा घंटा तक जाम रखा।इसके पुर्व परसाही से आक्रोशपुर्ण रैली निकाली, इसमे शामिल लोग फ्लाई ओवर ब्रिज का निर्माण करो, मुख्यमंञी रघुवर दास सरकार होस मे आओ, रेल अधिकारी होस मे आओ आदि नारे लगा रहे थे, प्रदर्शन व जाम का नेतृत्व माकपा के वरिष्ठ नेता अयुब खान, जिला सचिव सुरेंद्र सिंह संयुक्त रूप से कर रहे थे,जामकर्ताओं से थाना के एसआई नागेन्द्र शर्मा, व अंचल के राजस्व कर्मचारी वृंदा उरांव ने वार्ता की, इसके बाद जाम प्रदर्शन समाप्त कर दिया गया, आधे घंटा सड़क जाम किया गया, मुख्यमंञी के पदनाम 10 सुञी मांगों से संबंधित ज्ञापन राजस्व कर्मचारी वृंदा उरांव को सौंपा गया, वक्ताओ ने कहा है कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने राज्य सरकार के मुख्य सचिव को 5 सितंबर को पञ लिखकर अविलंब ब्रिज बनाने का अनुरोध किया है, पञ का एक माह होने को है , इसे स्वीकृति प्रदान करने के बजाय राज्य की भाजपा नेतृत्व वाली रघुवर दास सरकार अंदेखी कर रही है, जबतक फ्लाई ओवर ब्रिज का निर्माण शुरू नहीं किया जाता है तबतक पार्टी का आंदोलन चलता रहेगा, सौंपे गए ज्ञापन मे 1, लातेहार जिला अंतर्गत चंदवा टोरी जंक्शन स्टेशन के रेलवे क्रॉसिंग एन एच 99 पथ पर फ्लाई ओवर ब्रिज का निर्माण कराने,

2, रांची - लोहरदगा भाया टोरी जंक्शन तक चल रहे एक फेरा पैसेंजर ट्रेन को प्रतिदिन दो फेरा कराने, 

3, रांची - लोहरदगा भाया टोरी जंक्शन तक एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन कराने, 

4, स्टेशन के पक्षिम मे फुट ओवर ब्रिज का निर्माण एवं वर्तमान फुट ओवर ब्रिज का विस्तार कराने, 

5, टोरी - शिवपुर रेल लाइन स्थित बालुमाथ स्टेशन तक पैसेंजर ट्रेन चलाने,

7, रांची - दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का ठहराव टोरी जंक्शन मे कराने, 

8, कलकत्ता - अजमेर एक्सप्रेस का ठहराव टोरी जंक्शन मे कराने, 

9, कलकत्ता - अहमदाबाद एक्सप्रेस का ठहराव टोरी जंक्शन मे कराने,

10, क्रांसिंग से परसाही तक पीसीसी पथ का निर्माण कराने की मांग शामिल हैं, इसकी प्रतिलिपि चेयरमैन रेलवे बोर्ड भारत सरकार नई दिल्ली, जीएम हाजीपूर, डीआरएम धनबाद, डीआरएम रांची को भी भेजी गई है, पञ मे कहा गया है कि 

टोरी रेलमार्ग पर एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों के अलावा गुड्स ट्रेनों का परिचालन अनवरत होता रहता है, तथा एन एच पथ पर क्रॉसिंग होने के कारण इस रूट से बिहार के पटना, छत्तीसगढ़, रांची, हजारीबाग, चतरा, गुमला, मेदिनीनगर, लोहरदगा और लातेहार सहित कई जिलों के लिए प्रति दिन चलने वाले हजारो छोटे बड़े वाहन प्रभावित हो रहे हैं, टोरी रेलवे क्रॉसिग 24 घंटा में 19 - 20 घंटा बंद रहता है, आधे घंटा पर एक मिनट के लिए खुलने से चंदवा सहित आमजनता काफी ञस्त हैं,  सैंकड़ों जाने जा चुकी हैं, आए दिन घट रही है दुर्घटनाएं, आधे - आधे घंटे तक लोग गेट में फंसे रहते हैं, रोगियों की मौत क्रॉसिंग बंद मे फंसकर हो जा रही है, इससे स्कुली विद्धार्थियों सहित लाखों व्यक्तियों की जनजिवन प्रति दिन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है, वहीं रांची - लोहरदगा भाया टोरी तक प्रति दिन दो फेरा पैसेंजर ट्रेन नहीं चलने, तथा इस रेल रूट पर एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन नही होने से चंदवा छेञवासी ठगा महसुश कर रहे हैं,पक्षिम मे फुट ओवर ब्रिज नही होने व फुट ब्रिज का विस्तार नही किए जाने से लोगों को सटेशन, व बजार शहर आने जाने मे काफी कठीनाईयों का सामना करना पड़ रहा है, टोरी से बालुमाथ तक नई रेल लाइन मे पैसेंजर ट्रेन नही चलने से लोगों में मायुसी छाई हुई है, बरकाकाना से लेकर डालटंन गंज तक की सभी रेलवे स्टेशनों से यह टोरी जंक्शन राजस्व के मामले में सबसे अव्वल है, यहॉ से आधा दर्जन जिले के सैकड़ों याञी प्रत्येक दिन अन्यंञ याञा करते हैं, बावजुद भी उक्त एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव टोरी मे न किया जाना एवं रेल सेवा याञी सुविधा नही दिया जाना छेञ के लोगों की घोर उपेक्षा है,  पार्टी की ओर से लगातार इन मॉगों को लेकर ऑदोलन चलाया जा रहा है इसके बाद भी इस जनहित से जुड़ी मॉगपर राज्य एवं केंद्र सरकार तथा रेल विभाग उदाशीनता बरत रही है, हस्तक्षेप कर मॉगो को पुरा करने की मांग की गई है, मौके पर ललन राम, बैजनाथ ठाकुर, प्रधान प्रभु महली, पचु गंझु, पुर्व पंचायत समिति सदस्य फहमीदा बीवी, आशा देवी, कशीरन बीवी, मनु उरांव, साजीद खान, जीतन गंझु, जसमुदीन खान, बादशाह खान, द्वारीका ठाकुर, प्रदीप शर्मा, निरंजन ठाकुर, सुलेनद्र गंझु, बलराम उरांव, सुरेश उरांव, शोभन उरांव, बालेश्वर उराव, हनुक लकड़ा, सतवान उरांव, दसवा परहैया, बीनोद परहैया, राहुल गंझु, अबास मियां, भोला साव, बरन गंझु, ञीभुवन गंझु, रामबृछ गंझु, सनीका मुंडा, गोपी गंझु, जुगनु बीवी, डोमनी देवी, सुगनी देवी, धनियां देवी, बसमतिया देवी, करमी देवी, धुनियां देवी, एतवरिया देवी, चखनी देवी, हसीना बीवी, सनिचरीया देवी, फुलो देवी, समेत सैंकड़ों महिला पुरूष शामिल थे!