वन-वे हो जायेगा रेडियम रोड, ट्रैफिक को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक में हुआ फैसला

वन-वे हो जायेगा रेडियम रोड, ट्रैफिक को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक में हुआ फैसला


रांची : ट्रैफिक को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक सोमवार रात नगर आयुक्त डॉ शांतनु अग्रहरि की अध्यक्षता में हुई. इसमें तय हुआ कि ट्रायल बेसिस पर रेडियम रोड को वन-वे किया जायेगा. अगर सब कुछ ठीकठाक रहा, तो इस व्यवस्था को स्थायी रूप से लागू कर दिया जायेगा. जल्द ही इस संबंध में तिथि का निर्धारण कर आदेश जारी किया जायेगा. नयी व्यवस्था के लागू होने के बाद कचहरी से एसएसपी आवास की ओर जानेवाले वाहन महाराज होटल होते रेडियम रोड से गुजरेंगे. वहीं, एसएसपी आवास से कचहरी चौक जानेवाले वाहनों को करमटोली चौक से दाहिने मुड़कर जेल मोड़ होते हुए कचहरी चौक आना होगा. बैठक में स्कूली बसें कैसे  बस स्टॉपेज पर ही खड़ी हों इस पर भी चर्चा हुई. 


 


अलबर्ट एक्का चौक को अतिक्रमण मुक्त किया जायेगा : बैठक में अलबर्ट एक्का चौक और उसके आसपास के इलाके को पूरी तरह से अतिक्रमण मुक्त करने का निर्णय लिया गया. इस संबंध में नगर आयुक्त ने कहा कि इस चौक पर बेतरतीब ढंग से लगने वाले ठेले-खोमचे के कारण पैदल चलनेवालों को काफी परेशानी होती है. इसलिए चौक के आसपास से ऐसे ठेले-खोमचे को हटाया जायेगा. 


 


राहगीरी का नाम होगा रांचीगीरी : बैठक  में मेन रोड में एक बार फिर से राहगीरी शुरू करने के प्रस्ताव पर सहमति  जतायी गयी. कमेटी के सदस्यों ने इस पर सुझाव दिया कि इस बार राहगीरी का नामकरण रांचीगीरी किया जाये.  इस पर सभी ने सहमति जतायी. नगर आयुक्त ने कहा  कि फिर से मेन रोड में नए अंदाज में इस कार्यक्रम की शुरुआत होगी. जिसमें  स्वास्थ्य, खेलकूद सहित कई प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे. बैठक में सहायक कार्यपालक पदाधिकारी रामकृष्ण  कुमार, यातायात थाना प्रभारी, पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता,  ट्रांसपोर्ट सेल के सिटी मैनेजर उपस्थित थे.


ओला और उबर की तर्ज पर शहर में 24 घंटे चलेंगे ई-रिक्शा


100 ई-रिक्शा उतारे जायेंगे पहले चरण में राजधानी की सड़कों पर


ट्रैफिक को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक में ओला और उबर की तर्ज पर शहर में ई-रिक्शा कैब चलाने का निर्णय लिया गया. इस क्रम में रांची की हम सफर ई-रिक्शा एजेंसी ने प्रस्तुति दी. 


 


एजेंसी ने बताया कि उनकी यह सेवा एप बेस्ड होगी. इसके तहत कैब की तरह वह राजधानी में करीब 100 ई-रिक्शा चलाना चाहती है. इसके लिए वह छह किलोमीटर के लिए 60 रुपये शुल्क लेगी. एजेंसी ने बताया कि इस प्रोजेक्ट में 40 फीसदी चालक महिलाएं होंगी. साथ ही इसकी सर्विस 20 से 24 घंटे तक शहरवासियों के लिए उपलब्ध होगी. एजेंसी के इस प्रस्ताव पर नगर आयुक्त ने कहा कि एजेंसी विस्तृत रिपोर्ट निगम को सौंपे.