रोहतास में लुटेरों ने मचाया कोहराम, तीसरे दिन भी ढाई लाख की लूट . लुटेरों की गोली से ग्रामीण घायल, पीछा कर तीन को दबोचा

रोहतास में लुटेरों ने मचाया कोहराम, तीसरे दिन भी ढाई लाख की लूट

. लुटेरों की गोली से ग्रामीण घायल, पीछा कर तीन को दबोचा 

. पनडुका के ग्रामीणों ने दिखायी दिलेरी

. लूटे गए पैसों की बरामदगी को छापामारी जारी

. पकड़े गए अपराधी पलामू व औरंगाबाद के 

सासाराम, राजेश कुमार 

पिछले तीन दिनों से जिले में बाइक सवार लुटेरों ने कोहराम मचा रखा है. लुटेरों के वही शिकार हो रहे हैं जो बैंक से पैसे निकाल कर आ रहे हैं. गुरुवार को जिले के दक्षिणी पूर्वी हिस्से में अवस्थित नौहट्टा थाना क्षेत्र में बलभद्र पुर गाँव के पास बैंक से पैसे निकाल कर जा रहे दो बाइक सवार ग्रामीणों को घेर कर बदमाशों ने ढाई लाख रुपए के साथ उनकी बाइक और मोबाइल भी लूट लिए. भाग रहे लुटेरों का पीछा कर रहे ग्रामीणों पर अपराधियों द्वारा की गयी फायरिंग में एक ग्रामीण बुरी तरह घायल हुआ है. जिसका इलाज चल रहा है.

मिली जानकारी के अनुसार आज दिन के 12 बजे अमझोर स्थित स्टेट बैंक की शाखा से नौहट्टा स्थित बैंक की ही सीएसटी के लिए ढाई लाख रुपये निकाल कर नावाडीह (रोहतास) निवासी किशोर कुमार व जयमुनि सिंह अपनी बाइक से नौहट्टा के लिए चले थे. रास्ते में बलभद्र पुर के पास सुनसान स्थान पर उन्हें पिस्टल के बल पर पीछा कर रहे तीन अपराधियों ने घेर कर उनसे पैसे और उनकी बाइक मोबाइल लूट कर चलते बने. लूट के शिकार बने किशोर ने होशियारी दिखायी. किसी राहगीर को अपना दुखड़ा सुना उनसे मोबाइल लेकर नौहट्टा सीएसटी संचालक कृष्णा सिंह को लूट की सूचना के साथ उनके भागने का लोकेशन बता दिया. कृष्णा सिंह भी बिना समय गंवाए नौहट्टा के थानाध्यक्ष शशिभूषण प्रसाद को सूचित कर पांडुका के ग्रामीणों को खबर किए. इधर तत्काल हरकत मे आई पुलिस ने चुटिया, रोहतास, अमझोर थानों के अलावे अमझोर स्थित सीआरपीएफ कैंप के डिप्टी कमांडेंट सुभाष चन्द्र झा को अपराधियों को पकड़ने मे मदद मांगा.

इतनी देर में अपराधी घटना स्थल से 15 किमी दूर पांडुका तक पहुंच गए थे. पांडुका के ग्रामीणों ने दिलेरी दिखाते हुए सोन नदी पार करने की कोशिश में जुटे अपराधियों को घेरना शुरू कर दिया. इस पर अपराधियों द्वारा चलायी गयी गोली से पांडुका ग्राम का 25 वर्षीय युवक विनय पासवान को लगी जिससे वह घायल हो गया. वहाँ की पुलिस और सीआरपीएफ जवानों से घिरे अपराधियों को बीच नदी में ही धर दबोचा गया. उनके पास से एक देसी कट्टा और कुछ गोलियां मिली हैं. लुटेरे सीमावर्ती औरंगाबाद और झारखंड के निवासी हैं.

गिरफ्तार अपराधियों में पलामू जिले के हैदर नगर थाना क्षेत्र के पंसा ग्राम निवासी पुलवंत सिंह का पुत्र विवेक सिंह, औरंगाबाद जिले के टनडवा थाना के मनसा बिगहा ग्राम निवासी दुखन महतो का पुत्र अभिषेक कुमार उर्फ अजित और उसी जिले के तेतराई थाना क्षेत्र के बीमरा ग्राम निवासी विनय पांडे का पुत्र विजय प्रकाश पांडे बताए जाते हैं. उनसे बरामद उनकी मोबाइलों की जांच चल रही है. लूटे गए पैसों की बरामदगी के लिए कई ठिकानों पर छापामारी की जा रही है. पुलिस के सहयोग में सीआरपीएफ और वहाँ के बीडीओ बैजू मिश्रा व सीओ ब्रिज बिहारी कुमार सक्रिय रूप से जुटे हुए हैं. थानाध्यक्ष शशि भूषण ने बताया कि उन्हें पूरा विश्वास है कि लूटे गए पैसे बरामद कर लिए जाएंगे. पकड़े गए लुटेरों से पूछताछ चल रही है.