नीलांबर -पीतांबर विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह, 53 विद्यार्थियों को मिला गोल्ड मेडल समेत पलामू की महत्वपूर्ण खबरे एक क्लिक में देखें।

नीलांबर -पीतांबर विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह, 53 विद्यार्थियों को मिला गोल्ड मेडल


बौद्धिक संपदा से राज्य का उत्तरोत्तर विकास संभव: राज्यपाल


डालटनगंज, 4 अक्टूबर: राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि विश्वविद्यालय ने विद्यार्थियों को हौसलों के साथ उंची उड़ाने भरने के लिए पंख दे दिए हैं। अब विद्यार्थी उन्मुक्त वातावरण में उड़ान भरकर अपनी जीवन की भावि योजनाओं पर सफलता प्राप्त करने का प्रयास करंे। हर प्रकार की मुश्किलों से लड़ते हुए मंजिल अगर मिलती है, तो उसका काफी सुखद एहसास होता है। मंजिल पाने का रास्ता हमेश काफी कठिन और कांटों भरा ही होता है। 


वे आज नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्याल के तत्वावधान में स्थानीय जीएलए काॅलेज परिसर में आयोजत प्रथम दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रही थी। उन्होंने कहा कि लक्ष्य पाने के दौरान हमेशा इमानदारी और सहनशीलता का प्रतीक बनने की कोशिश करनी चाहिए।  झारखंड खनिज संपदा से भरापूरा राज्य है। अगर बौद्धिक संपदा के साथ यहां के विद्यार्थी आगे बढ़ते हैं तो निश्चित रूप से राज्य का उत्तरोत्तर विकास होगा। समाजिकता, सहिष्णुता, कर्मठता, लगनशीलता और ज्ञानशीलता यह झारखंड की साझी संस्कृति रही है। 


इस सांस्कृतिक संरचनाओं को हमें बनाये रखने की जरूरत है। नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय ने अपने स्थापना काल से अब तक काफी उल्लेखनीय कार्य किए है। उन्होंने कहा कि यह अलग बात है कि विश्वविद्यालय के स्थापना के काफी लंबे वर्षो के बाद पहला दीक्षांत समारोह हो रहा है। वैसे नियमतः हर साल दीक्षांत समारोह का आयोजन होना चाहिए था, लेकिन देर से ही सही अब उम्मीदे हैं कि विश्वविद्यालय हर साल नियमित तौर पर दीक्षांत समारोह का आयोजन कर विद्यार्थियों के बौद्धिक विकास को आगे बढ़ाने का काम करेगा। 



ज्ञान-विज्ञान से ही कुशल राष्ट्र और राज्य का निर्माण


राज्यपाल ने कहा कि ज्ञान-विज्ञान की संयुक्त परिभाषा से ही कुशल राष्ट्र और राज्य का विकास संभव है। विद्यार्थी अगर इमानदारी के साथ मेहनत करेंगे तो निश्चित तौर सफलता प्राप्त होगी। यह आने पर काफी अच्छा अनुभव हुआ  जब कुलपति ने यह बताया कि अनुसूचित जन जाति बहुल क्षेत्र लातेहार जिले के मनिका में डिग्री काॅलेज की स्थापना की गयी है। गौरव वाली बात यह भी है कि काॅलेज में 500 विद्यार्थियों ने विभिन्न संकायों में नामांकन कराया है, उसमें 50 प्रतिशत बालिकाएं शामिल है। यह स्थिति बताने के लिए काफी है कि अनुसूचित जनजाति वर्ग की बालिकाएं भी अपने सुनहरे भविष्य के प्रति सचेत होकर शिक्षित होने के लक्ष्य के साथ शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। 


उन्होंने कहा कि शिक्षा के साथ समाजिक, सांस्कृतिक का रचनात्मक समावेश होना चाहिए, तभी हम अपने राष्ट्र व राज्य को आगे चलकर कुशल नेतृत्व प्रदान कर सकते हैं। सरकार के स्तर से अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अत्यंत पिछड़ा वर्ग के विकास के लिए कई प्रकार की रोजगार परक योजनाएं चलायी जा रही है। जिसका वे लाभ ले सकते हैं। विश्वविद्यालय में भी कई प्रकार की व्यवसायिक शिक्षा का कोर्स कराया जा रहा है, जो भविष्य में विद्यार्थियों के लिए काफी रोजगार परक साबित हो सकता है।



सबकी सहभागिता से ही मंजिल पा सकेंगे: कुलपित 


कुलपति डा. सत्येंद्र नारायण सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय सबकी सहभागिता से ही मंजिल पा सकता है। पत्थरीली और कठिन राहों का सफर तय कर नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय ने अल्प काल में ही कई चुनौतियों का सामना करते हुए उल्लेखीनय कार्य किए हैं। विश्वविद्यालय ने इमानदारी पूर्वक अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन करते हुए विद्यार्थियों को आज उनकी मेहनत का फल दे दिया है। अब विद्यार्थियों के उपर भी जिम्मेवारी है कि वे एक अच्छा मुकाम हासिल कर नीलांबर-पीतांबर विश्ववि़लाय का नाम रौशन करे। 


उन्होंने कहा कि जिन विद्यार्थियों को स्वर्ण और टाॅपर की उपाधि से नवाजा गया है वह यह बताने के लिए काफी है कि उन्होंने मेहनत करने में कोई कमी नहीं की है। विश्वविद्यालय परिवार अपने यहां पढ़ने वाले सभी विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य के साथ उन्नति की कामना करता है। 



53 को मिला गोल्ड मेडल, 881 को टाॅपर की उपाधि


पहले दीक्षांत समारोह में आज  विभिन्न संकायों के 53 विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल से नवाजा गया। उनमें स्नाकोत्तर परीक्षा 2015 के 18, स्नाकोत्तर परीक्षा 2016 के 18, बीडीएस परीक्षा 2016 के एक, बीटेक परीक्ष़्ाा 2015 के एक, बीटेक परीक्षा 2016 के एक, बीएड परीक्षा 2015 के एक, स्नातक परीक्षा 2015 के छह और स्तानतक परीक्षा 2016 के छह विद्यार्थी शामिल हैं। 


इसी प्रकार टाॅपरों में स्नाकोत्तर परीक्षा 2015 में 87, स्नाकोत्तर परीक्षा 2016 में 101, बीडीएस परीक्षा 2015 में 45, बीडीएस परीक्षा 2016 में 75, बीटेक परीक्षा 2015 में 26, बीटेक परीक्षा 2016 में 59, बीएड परीक्षा 2015 में 43, बीपीएड परीक्षा 2015 में एक, पीजीडीजेएमसी में एक, बी काॅम परीक्षा 2015 में 45, बी काॅम परीक्षा 2016 में 92, बीएससी परीक्षा 2015 में 79, बीएससी परीक्षा 2016 में 106, बीए परीक्षा 2015 में 52, बीए परीक्षा 2016 में 69 विद्यार्थियों को टाॅपर क उपाधि दी गयी। 


दीक्षांत समारोह में ये थे उपस्थित थे


प्रतिकुलपति पवन कुमार पोद्दार, रजिस्ट्रार राकेश कुमार, परीक्षा नियंत्रक डा. गांगा प्रसाद सिंह, जीएलए काॅलेज के प्रचार्य डा. प्रो. आईजे खलखो, योधसिंह नामधारी महिला काॅलेज की प्राचार्य डा. मोहिनी गुप्ता, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कुमार वीरेंद्र, जीएलए काॅलेज अग्रेजी विभाग के अध्यक्ष प्रो. एनके सिंह, मनिका विधायक हरेकृष्ण सिंह, पूर्व सांसद जोरावर राम, जिला परिषद अध्यक्ष प्रभा देवी, उपाध्यक्ष संजय कुमार सिंह, जिला परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष विनोद सिंह, भाजपा नेता विभाकर नारायण सिंह, उदय शुक्ला, सहित सभी सीनेट, सिंडिकेट और एकेडमिक काॅउन्सिल के सदस्य उपस्थित थे। 



आयुक्त मनोज कुमार, डीआईजी विपुल शुक्ला, उपायुक्त डा. शांतनु कुमार अग्रहरि, उपविकास बिंदुमाधव सिंह, एसपी इंद्रजीत माहथा, डीएसपी प्रेमनाथ, सदर एसडीओ एके गुप्ता, 



राज्यपाल ने किया स्मारिका का विमोचन 


राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रैपदी मुर्मू, कुपपति डा. सत्येंद्र नारायण सिंह, प्रति कुलपति पवन कुमार और अन्य अतिथियों ने विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह के स्मारिका का विमोचन किया। बाद में स्मारिका को कार्यक्रम उपस्थित अतिथयों के बीच वितरित भी किया गया। 



इन्हें मिला गोल्ड मेडल


अंजलि कुमारी, सुप्रिया कुमारी, रविरंजन सिंह, अस्मिता रंजन, प्रिया कुमारी, कुमारी सोनम बाला, कुमारी हर्षिता, ज्योति कुमारी, अनामिका कुमारी, अनुप कुमार चर्तुवेदी, अब्दूल हामिद, सत्यवती कुमारी, लवकेश कुमार मिश्रा, जयशंकर वाजपेयी, रानी कुमारी, उषा कुमारी, आरती सिंह, अभिमन्यु तिवारी (सभी पोस्ट ग्रेजुएट एग्जाम 2015 के टाॅपर), अमित मंुडू, शांभवी, अनुराधा, कुमारी रागिनी बाला, रविशंकर मेहता, सुर्कीती कुमारी, विनोद कुमार मेहता, नमिता प्रिया, पूर्णिमा कुमारी, अरविंद कुमार चैधरी, तयब बानो, रश्मि रानी, पंकज कुमार, वर्षा कुमारी, छाया कुमारी, ज्ञानरंजन, मनीष कुमार पाठक, रागिनी कुमारी (सभी पोस्ट ग्रेजुएट एग्जाम 2016 के टाॅपर), सत्येंद्र प्रजापति, अंकिता सिन्हा, स्वेता पांडेय (तीनों प्रोफेशनल कोर्स एग्जाम 2015 के टाॅपर), चांदनी प्रकाश, आलिया खानम (दोनों प्रोफेशनल कोर्स एग्जाम 2016 के टाॅपर), अंजलि कुमारी, प्रियंका कुमारी, मोहम्मद तयब आलम, स्वीटी कुमारी, दिव्या कुमारी (सभी अंडर ग्रेजुएट एग्जाम 2015 के टाॅपर), सुरभि कुमारी, मनीषा कुमारी, हदिशुल कादरी, सफलता कुमारी छाया कुमारी (सभी अंडर ग्रेजुएट एग्जाम 2016 के टाॅपर)। 


राज्यपाल शैक्षणिक शोभायात्रा के साथ पहुंची मंच तक


राज्यपाला सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू को दीक्षांत समारोह स्थल पर आदिवासी नृत्य के साथ स्वागत करते हुए ग्रीन रूम तक ले जाया गया। वहां से राज्यपाल विश्वविद्यालय के सभी संकायांे के संकायाध्यक्षों, सीनेट, सिंडिकेट, एकेडमिक काउंसिल के सदस्यों के साथ शैक्षणिक शोभा यात्रा के साथ मंच तक पहुंची। शैक्षणिक शोभा यात्रा में राज्यपाल के साथ कुलपति डा. सत्येंद्र नारायण सिंह, प्रति कुलपति, डा. पवन कुमार पोद्दार साथ-साथ चल रहे थे। उनके पीछे सभी संकायों के संकायाध्यक्ष पारंपरिक वेष-भूषा सफेद कुर्ता पायजामा और विश्वविद्यालय का लोगो लगा अंग वस्त्र और साफा पहने साथ चल रहे थे। राज्यपाल ने मंच पर पहुंचते ही सभी लोगों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। इसके बाद विधिवत तरीके से दीक्षांत समारोह का कार्यक्रम शुरू हुआ।



केंद्र सरकार ने दी राहत, पेट्रोल-डीजल पर 2.50 घटाए दाम


राज्य सरकार से भी पेट्रोलियम पदार्थों पर टैक्स कम करने का अनुरोध 


नई दिल्ली, 4 अक्टूबर (एजेंसियां): देश में पेट्रोल और डीजल के दामों में लगातार हो रही बढ़ोतरी से केंद्र सरकार ने बड़ी राहत दी है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने तेल पर एक्साइज ड्यूटी में 1.50 की कटौती की है। वहीं पेट्रोलियम कंपनियों को एक रूपया कम करने का निर्देश दिया गया है। जिसके बाद पेट्रोल और डीजल के दामों में 2.50 रुपए की कमी आएगी। केन्द्र सरकार ने राज्यों से भी आग्रह किया है कि वे पेट्रोलियम पदार्थों पर लगाए गए टैक्स में इतनी की ही कमी लाए, ताकि जनता को राहत मिल सके। केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोलियम पदार्थों में की गयी 2.50 पैसे की कमी तत्काल प्रभाव से लागू होगी। श्री जेटली ने कहा कि बाहरी दबावों के कारण देश में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े हैं। वैश्विक बाजार में कच्चा तेल भी महंगा हुआ है और इसके कारण देश में तेल के दाम रिकॉर्ड ऊपर चढ़े हैं। 


बुधवार को कैबिनेट की बैठक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्तमंत्री और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के बीच जनता को राहत देने के उपायों पर चर्चा हुई थी। बता दें कि गुरुवार को डालटनगंज में पेट्रोल जहां 83.48 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गया था, वहीं डीजल के दाम 80.96 रुपए लीटर हैं।



हत्या के बाद हंगामा, छहमुहान जाम 


डालटनगंज, 4 अक्टूबर: उपायुक्त आवास से सटे और साइबर थाना के सामने कल देर शाम कान्दू मुहल्ला निवासी संजय कुमार साह के 22 वर्षीय पुत्र आयुष कुमार शशि की हत्या के बाद आज सुबह जमकर हंगामा हुआ। शहर के कान्दू मुहल्ला के पहुंचे युवक के परिजनों ने शव के साथ छहमुहान को जाम कर दिया। आधा से एक घंटे के जाम के दौरान छहमुहान पर कई वाहन फंस गए। 


हालांकि बाद में मौके पर पहुंचे पुलिस जवानों ने किसी तरह परिजनों को समझा कर जाम समाप्त कराया। थाना प्रभारी आनन्द कुमार मिश्रा ने युवक के परिजनों द्वारा टेम्पो में शव रखकर जाम करने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन पुलिस के मौके पर पहुंच जाने से जाम नहीं हो पाया। वार्ता के दौरान आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने लेने और उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया गया। थाना प्रभारी ने बताया कि हत्या मामले में एक को हिरासत में लिया गया है, उससे पूछताछ की जा रही है।   


विदित हो कि कल शाम करीब 7.30 बजे आयुष कुमार शशि की हत्या साइबर थाना के सामने दुकान पर बैठे अवस्था में कर दी गयी थी। अज्ञात हमलावारों ने शशि की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। 


डीएसपी प्रेमनाथ ने बताया कि हत्या के पीछे प्रेम प्रसंग सामने आ रहा है। आयुष कुमार का प्रेम संबंध कान्दू मुहल्ला के इमली फील्ड निवासी सुरेन्द्र प्रसाद की पुत्री के साथ तीन-चार वर्षों से चल रहा था। इस बात को लेकर लड़की के भाई एवं अन्य ने नाराज चल रहे थे और आयुष के परिजनों को युवक की आदतों में सुधार लाने की धमकी दी थी। यह भी कहा था कि लड़के को सुधार ले, अन्यथा अंजाम बुरा होगा। डीएसपी ने बताया कि घटना इसी परिपेक्ष्य में घटित हुई है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनके संभावित ठिकानों पर छापामारी की जा रही है।



लेस्लीगंज के पूर्णाडीह में प्रधानमंत्री सड़क योजना का शिलान्यास


पांकी विधानसभा क्षेत्र के सभी गांव मुख्य सड़क से जुड़ेंगे: देवेंद्र


पांकी, 4 अक्टूबर : पांकी विधानसभा क्षेत्र के प्रत्येक गांव को पक्की सड़कों से जोड़ दिया जाएगा। कोई भी गांव विकास की रोशनी से अछूता नहीं रहेगा। उक्त बातें पांकी विधायक देवेंद्र कुमार सिंह उर्फ बिट्टू सिंह ने कही। वे लेस्लीगंज के पूर्णाडीह सीवन (लेस्लीगंज मुख्य पथ) से सीताडीह गांव तक कालीकरण व पीसीसी पथ निर्माण कार्य के शिलान्यास के उपरांत ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। 


उन्होंने कहा कि प्रत्येक गांव को पक्की सड़क से जोड़ना, हर गांव तक बिजली पहुंचाना तथा किसानों के खेतों तक पानी पहुंचाना उनकी प्राथमिकता है। वे अपने इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात प्रयासरत हैं। उन्होंने अपनी उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि अल्प कार्यकाल के दौरान पांकी विधानसभा क्षेत्र में करीब चार सौ किमी सड़क का निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ-साथ दर्जनभर बड़े पुल तथा दर्जनों छोटे पुल पुलिया का निर्माण कार्य या तो प्रगति पर है या फिर संपन्न हो चुके हैं। 


मौके पर पूर्णाडीह पंचायत की मुखिया गुड्डी देवी, मेदिनीनगर नगर परिषद् के पूर्व अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह, कांग्रेसी नेता श्याम नारायण सिंह, लेस्लीगंज प्रमुख रमेश राम, तरहसी प्रमुख अमुक प्रियदर्शी, अनुपम सिंह, उमेश तिवारी, साकेत सोनी, कमेश यादव, धनंजय सिंह, कमेश यादव, राजू सिंह, हेमू खान, सुनील सिंह, मंदीप तिवारी, जितेन्द्र सिंह, उमोद सिंह, वरुण जयसवाल, सुधीर कुमार सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।