पलामू में सर् सैयद अहमद खां की 202 वीं जयंती "सर् सैयद डे" के रूप में मनाई गई।


सर् सैयद अहमद खां की 202 वीं जयंती "सर् सैयद डे" के रूप में मनाई गई।

पलामू -सर् सैयद अहमद खां की 202 वीं जयंती "सर् सैयद डे" के रूप में मनाई गई। मदरसा खैरुल इस्लाम हुसैनाबाद में  आयोजित कार्यकम की  अध्यक्षता वसीम अहमद ने की।संचालन मो. ज़ुबैर अंसारी ने किया। इस मौके पर नगर उपाध्यक्ष गयासुद्दीन  सिद्दीकी ने कहा कि जो कौम अपने इतिहास को भुला देता है उस कौम का  भविष्य अंधकारमय हो जाता है। हमारे पूर्वजों ने हमें जो विरासत सौंपा है उसको आगे बढ़ाना उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी कायम करके शिक्षा के क्षेत्र में महान काम किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता है। वार्ड पार्षद नज़ीर अहमद ने कहा कि सर् सैयद अहमद खान ने मुस्लिम समाज को शिक्षित करने के लिए मोहम्मडन एंग्लो  ओरिएंटल स्कूल और बाद में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी  कायम किया जो आज विश्वस्तरीय यूनिवर्सिटी है। मास्टर शकील अहमद ने कहा कि सर् सैयद अहमद खां ने आधुनिक शिक्षा हासिल करने के लिये " तालीम हासिल करो, तालीम हासिल करो, तालीम हासिल करो" का नारा दिया। उन्होंने यूनिवर्सिटी कायम करने के लिए अपने पैर में घुंघरू बांध कर चंदा इकट्ठा किया। आधुनिक शिक्षा की वकालत करने की वजह से इन्हें मुस्लिम समाज का बहुत विरोध भी सहना पड़ा। अध्यक्षता कर रहे वसीम अहमद जो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में तालीम हासिल करने और वहाँ के छात्र संघ के अध्यक्ष रहे शारिक अहमद के पिता ने समाज में शिक्षा का अलख जगाने का आह्वान किया। साथ ही उन्होंने लोगों से अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में अपने बच्चों के दाखिला के लिये टेस्ट देने का और हर सम्भव मदद करने का वादा किया। नगर अध्यक्ष शशि कुमार ने कहा कि किसी समाज का शिक्षित होना बहुत जरूरी है। शिक्षा से ही हमारा आर्थिक और सामाजिक विकास हो सकता है। सर् सैयद अहमद खां के बारे में छात्रों को बताना जरूरी है। इनके अलावा सभा को पूर्व वार्ड पार्षद अजय गुप्ता, वार्ड पार्षद सुहैल अहमद ने भी संबोधित किया। मौके पर मोहिउद्दीन अंसारी, हाफिज सगीर, वकील अहमद, मास्टर शमीम, मास्टर कुद्दुस, शाह जफर, वार्ड पार्षद अनवर आलम के अलावा दर्जनों लोग उपस्थित थे।