विसर्जन जुलूस में शामिल हुए विधायक, पूजा समितियों को किया सम्मानित

                            विसर्जन जुलूस में शामिल हुए विधायक, पूजा समितियों को किया सम्मानित

पांकी, 20 अक्टूबर (थर्ड आई): पांकी के विधायक देवेंद्र कुमार सिंह उर्फ बिट्टू सिंह मां दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन के कई समारोह जुलूस में शामिल हुए। पांकी के रामजानकी मंदिर परिसर में सम्मान समारोह में भाग लिया। विधायक को पगड़ी और तलवार देकर सम्मानित किया गया। वहीं विधायक द्वारा समिति के सभी सदस्यों को पगड़ी बांधकर सम्मानित किया गया। बाद में विधायक विसर्जन जुलूस में शामिल हुए।  तेतराई में विधायक द्वारा रावण का पुतला दहन किया गया। मौके पर विधायक श्री सिंह ने कहा कि दशहरा असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक है। इसीलिए आज के दिन रावण का पुतला जलाकर लोग जश्न मनाते हैं। उन्होंने कहा कि रावण महाविद्वान था, परंतु उसका आचरण संस्कार ठीक नहीं रहने के कारण उसे दानव का दर्जा दिया गया। इसलिए व्यक्ति को पढ़ लिख कर अपने आचरण संस्कार को सही रखना चाहिए। श्री सिंह सगालीम के जुलूस में भी शामिल हुए। लेस्लीगंज के नया बाजार और पुराने बाजार में दुर्गा पूजा के आयोजकों को पगड़ी बांधकर एवं तलवार भेंट कर सम्मानित किया। विधायक ने लेस्लीगंज में भी श्रद्धालुओं को संबोधित किया। मौके पर पूजा समितियों के पदधारी और बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे। 

                            चरित्रवान बनकर करें भीतरी रावन का दहन: राहिल

छत्तरपुर, 20 अक्टूबरविजयादशमी के अवसर पर छतरपुर उच्च विद्यालय के स्टेडियम में बिरसा मुंडा समिति द्वारा रावण दहन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर छतरपुर विधानसभा क्षेत्र के युवा और जुझारू नेता राहिलराज उर्फ प्रकाश राम ने भाग लिया, जबकि विशिष्ठ अतिथि एसडीओ भोगेन्द्र ठाकुर उपस्थित थे। मौके पर श्री राज ने कहा रावण का पुतला दहन एक छनिक कार्यक्रम है। असली रावण दहन तब होगा, जब लोग चरित्रवान बनेंगे। उन्होंने कहा आज लोग धन, ताकत और लोभ के शिकार हो गए हैं। रावण धनवान, बलवान और बिद्वान था, लेकिन चरित्रहीन था। स्त्री पर बुरी नजर रखता था और अंततः वह अपने विशाल सम्राज्य खोकर बुरी मौत मरा। मौके पर पटाखा तीर से माध्यम से रावण का पुतला दहन किया गया। कार्यक्रम में अरविंद प्रताप, सीओ राकेश तिवारी, पंकज चंद्रा, मुन्ना कुमार, जीतू यादव, प्रदीप पांडेय, अजय सिंह, अरुण सोनी, रितेश सोनी, मुकेश मेहता, पंकज मेहता, जगदीश यादव, मुन्ना पाठक, वीरेंद्र जायसवाल, नौखेज अंसारी, दीपक सिंह, सुनील सिंह सहित हजारांे के संख्या में लोग उपस्थित थे।

 

                                शराब के अड्डों पर छापामारी, जावा महुआ नष्ट

 हैदरनगर, 20 अक्टूबर - हैदरनगर थाना क्षेत्र के पंसा पंचायत अंतर्गत पंसा, कोईरियाडीह अधौरा गांव में पुलिस ने अवैध शराब के उत्पाद बिक्री किये जाने की गुप्त सूचना पर शनिवार को छापामारी अभियान चलाया। थाना प्रभारी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि उक्त स्थानों से करीब एक क्विंटल कच्चा जावा महुवा घरों से तलाशी के क्रम में बरामद किया गया। शराब निर्माण के कई बर्तन प्लास्टीक के डब्बे, जार को पुलिस ने उठाकर निकटवर्ती कोयल नदी में बहाने का काम किया। आरोपी पुलिस की भनक लगते ही घर छोड़ अपने परिजनों के साथ भाग निकले।  उन्होंने कहा कि पंचायत के प्रबुद्ध लोगों को इस कारोबार को हर हाल बंद करने में पुलिस का सहयोग करने की सलाह दी है। बावजूद यदि शराब के धंधा चलता रहा तो विधि व्यवस्था बनाये रखने आसन्न कई पर्व त्योहरों को देखते हुए पुलिस की लगातार छापामारी जारी रहेगी। इस क्रम में इस धंधें में संलिप्त लोग पकड़े गये तो पुलिस उन्हें कानून सम्मत कार्रवाई के तहत जेल भेजने के कटिवद्ध है।

               सड़क निर्माण में लगी मशीनों में उग्रवादियों ने लगायी आग

छत्तरपुर, 20 अक्टूबर - छत्तरपुर-जपला मुख्य सड़क के निर्माण में लगी मशीनों में गुरूवार की रात उग्रवादियों ने आग लगा दी। बर्बरी कंपनी इस सड़क का निर्माण करा रही है। निर्माण में पोकलेन के अलावा जेसीबी मशीन को लगाया गया था। रात करीब 12 बजे टीपीसी के हथियारबंद दस्ता खेन्द्रा गांव पहुंचा और मशीनों में आग लगा दी। घटना के बाद मौके पर पर्चा छोड़कर टीपीसी उग्रवादियों ने घटना की जिम्मेारी ली है। घटना के बाद उग्रवादियों की धड़पकड़ के लिए छापामारी जारी है। छत्तरपुर डीएसपी शम्भू सिंह ने बताया कि घटना के पीछे अपराधियों का हाथ हैं। धरपकड़ के लिए अभियान चलाया जा रहा है। कुछ नक्सली हुसैनाबाद अनुमंडलीय क्षेत्र से गिरफ्तार किए गए हैं। इस घटना में शामिल अन्य नक्सलियों को भी गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

जानकारी के अनुसार मोटरसाइकलों से छह की संख्या में नक्सली घटनास्थल पर पहुंचे और वहां तैनात गार्ड मुंसी को अपने कब्जे में ले लिया। बाद में डीजल निकालकर मशीनों में आग लगा दी। घटना के बाद मौके पर पर्चा छोड़ा गया और टीपीसी जिंदाबाद के नारे लगाए गए। यह भी कहा