भाजपा नेता दुर्गेश सिंह के पुत्र सह पीडीएस डीलर बबलू सिंह हत्याकांड का खुलासा, महिला से अवैध संबंध के कारण हुई थी बब्लू की हत्या-हत्या की साजिश रचने वाली महिला समेत दो गिरफ्तार

भाजपा नेता दुर्गेश सिंह के पुत्र सह पीडीएस डीलर बबलू सिंह हत्याकांड का खुलासा, महिला से अवैध संबंध के कारण हुई थी बब्लू की हत्या-हत्या की साजिश रचने वाली महिला समेत दो गिरफ्तार

डालटनगंज, 28 अक्टूबर : पलामू जिले के हुसैनाबाद में पिछले दिनों सिद्धनाथ पेट्रोल पंप के पास हुई पीडीएस डीलर सह भाजपा नेता दुर्गेश सिंह के पुत्र बबलू सिंह की हत्या मामले का पुलिस ने खुलासा कर लिया है। इस मामले में एक फूल दो माली की कहावत चरितार्थ हुई है। डीलर बब्लू की हत्या एक महिला के साथ अवैध विवाहेतर संबंधों को लेकर उपजे विवाद में हुई है। पुलिस ने हत्या के साजिश रचने के आरोप में जीतेन्द्र तिवारी एवं बंदना सिंह उर्फ रंभा सिंह को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि हत्या में शामिल मुकेश पासवान एवं बंटी शर्मा दोनों फरार हैं। 

एसपी इंद्रजीत महथा ने रविवार को पत्रकारों को बताया कि हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए एसआईटी टीम गठित की गयी थी। हुसैनाबाद एसडीपीओ मनोज कुमार महतो के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा गहन अनुसंधान किया गया तो पता चला कि बब्लू की हत्या विवाहेतर संबंधेां के कारण हुई है। उन्होंने बताया कि हैदरनगर के बिलासपुर के ओमप्रकाश सिंह की पत्नी बंदना सिंह उर्फ रंभा सिंह का विवाहेतर संबंध बब्लू सिंह (मृतक) एवं हुसैनाबाद के छठपोखरा जेपी चैक निवासी जीतू उर्फ जीतेन्द्र तिवाारी के साथ था। बब्लू सिंह और जीतेन्द्र तिवारी के बीच बंदना सिंह को लेकर विवाद चल रहा था। बब्लू सिंह ने जीतेन्द्र सिंह के श्रृंगार स्टोर की दुकान में आकर उसको धमकी दे चुका था। वह जीतेन्द्र को बंदना सिंह से संबंध तोड़ लेने, अन्यथा बुरा परिणाम भुगतने की चेतावनी दे रहा था। एसपी के अनुसार बब्लू सिंह की धमकी के भय से जीतेन्द्र ने अपराधी मुकेश पासवान एवं बंटी शर्मा को बब्लू सिंह की हत्या की सुपारी दी, जिसके बाद शराब पिलाया गया और बब्लू सिंह की हत्या कर दी गयी। एसपी के अनुसार बंदना सिंह जपला में बच्चों को पढ़ाने के नाम पर मनोज सिंह के मकान में किराये पर रहती थी। उसका बब्लू सिंह और जीतेन्द्र तिवारी दोनों के साथ संबंध था। इसी को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा था। उन्होंने बताया कि पुलिस को सही दिशा से भटकाने के लिए ही जीतेन्द्र तिवारी ने अपनी करीबी मित्र ज्ञान प्रकाश उपाध्याय एवं नागेन्द्र उपाध्याय से मिलकर आम लोगों को भड़का कर सड़क जाम करवाया था