11 पशु तस्कर गिरफ्तार, 82 पशु बरामद

                                                                       11 पशु तस्कर गिरफ्तार, 82 पशु बरामद  

डालटनगंज, 29 अक्टूबर: गोवंशीय तस्करी रोकने को लेकर चलाए जा रहे अभियान में पलामू जिले की लेस्लीगंज पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। लेस्लीगंज पुलिस ने गुप्त सूचना पर कार्रवाई कर मुरमुसी रोड स्थित पक्की सड़क से 82 मवेशियों को बरामद किया और 11 तस्करों को गिरफ्तार किया है।   

लेस्लीगंज पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि पाटन थाना क्षेत्र से बड़ी संख्या में मवेशियों को लेकर तस्कर लेस्लीगंज थाना क्षेत्र में प्रवेश किए हैं। सूचना पर कार्रवाई की गयी और ग्रामीणों के सहयोग से 82 मवेशियों को बरामद किया गया और तस्करी कार्य में संलिप्तत तैयब अंसारी, करमुल्लाह अंसारी, उस्मान अंसारी, जमील अंसारी, आलम अंसारी, अजमेर अंसारी, मुमताज अंसारी, दुखी राम, सद्वीक मियां, जसीम अंसारी व मेराज अंसारी को गिरफ्तार किया गया। सभी लेस्लीगंज के बोहिता गांव के निवासी हैं। 

थाना प्रभारी बिरेन मिंज ने बताया कि सभी तस्करों पर झारखंड गोवंशीय पशु हत्या प्रतिषेध अधिनियमत 2005 के तहत मामला दर्ज कर न्यायिक हिरासयत में भेज दिया गया है। मवेशियों को संरक्षण में रखा गया है। बरामद पशुओं में अधिकतर बछड़े और बैल हैं।     विधायक प्रतिनिधि पर फायरिंग 

डालटनगंज, 29 अक्टूबर (थर्ड आई): पांकी के कांग्रेस विधायक देवेन्द्र कुमार सिंह के सतबरवा प्रतिनिधि लक्ष्मण यादव पर बीती रात फायरिंग हो गयी। अचानक हुए हमले में विधायक प्रतिनिधि और कुछ ग्रामीण बाल-बाल बच गए। घटना के बाद बड़ी संख्या में ग्रामीण सोमवार को लेस्लीगंज थाना पहुंचे और मामला दर्ज कराया। सतबरवा और लेस्लीगंज पुलिस संयुक्त रूप से मामले की छानबीन में जुट गयी है। सूचना मिलने पर पांकी विधायक देवेन्द्र कुमार सिंह लेस्लीगंज थाना पहुंचे और घटना की पूरी जानकारी ली। साथ ही मामले में त्वरित कार्रवाई करने का आग्रह पुलिस अधिकारियों से किया।  

                                                                                        क्या है मामला? 

रविवार की देर रात लेस्लीगंज थाना क्षेत्र के धावाडीह में वहां की मुखिया के पति सह पांकी विधायक देवेंद्र कुमार सिंह के सतबरवा प्रतिनिधि लक्ष्मण यादव ग्रामीणों के साथ बैठक कर रहे थे। दुर्गा पूजा आयोजन को लेकर हुए खर्च के आय-व्यय का हिसाब देखा जा रहा था। बैठक में तीन दर्जन से अधिक लोग जमा थे, लेकिन रात करीब 11 बजे के कई लोग जा चुके थे और एक दर्जन से आस-पास लोग बचे थे। इसी दौरान एक दर्जन के आस-पास हथियारबंद उग्रवादियों का दस्ता वहां पहुंचा और लक्ष्मण यादव को खोजने लगा।  

                                                                                   मची अफरा-तफरी

अचानक हथियारबंद अपराधियों को देखकर मुखिया और ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गयी। लोग इधर-उधर भागने लगे। विधायक प्रतिनिधि भी ग्रामीणों के साथ वहां से भाग निकले। इसी क्रम में उग्रवादियों द्वारा आठ से दस राउंड फायरिंग की गयी। हालांकि किसी को गोली नहीं लगी। लोग बाल-बाल बच गए। बाद में ग्रामीण एकजुट हुए और अपराधियों को घेरने लगे। ग्रामीणों से घिरता देख अपराधी वहां से भाग निकले। 

                                                                            जल्द होगी गिरफ्तारी: एसपी 

जिले के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने बताया कि सूचना मिलने पर लेस्लीगंज और सतरबवा की पुलिस देर रात में ही मौके पर पहुंची। घटनास्थल पर सर्च अभियान चलाया। ग्रामीणों के साथ बैठक कर मामले की जानकारी ली और आज विधिवत प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। बहुत जल्द ही फायरिंग में शामिल उग्रवादियों और घटना में संलिप्त ग्रामीणों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी। लक्ष्मण यादव के बयान पर उसी गांव धावाडीह के अशोक यादव, उमेश यादव एवं अन्य अज्ञात 5-6 लोगों पर केस दर्ज किया गया है। इन सभी के बीच आपसी विवाद है। वादी का आरोप है कि इसी आपसी विवाद में अशोक यादव और उमेश यादव ने जेजेएमपी के 5-6 लोगों को बुलाकर हमला करने की कोशिश की।