नहीं रहे श्रीपति सिंह, व्यवसाय से लेकर राजनीति मेें रहा दबदबा ,शोक में डूबा पलामू, अंतिम संस्कार गुरुवार को

नहीं रहे श्रीपति सिंह, व्यवसाय से लेकर राजनीति मेें रहा दबदबा

शोक में डूबा पलामू, अंतिम संस्कार गुरुवार को 

मेदिनीनगर: सबों के दिलों पर राज करने वाले प्रख्यात नेता व व्यवसायी श्रीपति सिंह (70वर्ष) अब इस दुनियां में नहीं रहें। उन्होंने अंतिम सांस कल रात तकरीबन दो बजे रांची के मेदांता हाॅस्पिटल में ली। उनके निधन की खबर सुनते ही पूरा पलामू शोक में डूब गया है। बेवाक अंदाज में सबकुछ स्पष्ट बोलने के लिए विख्यात श्रीपति सिंह पिछले कई सालों से बीमार चल रहे थे लेकिन कुछ दिनों से वे स्वस्थ भी हो गए थे। दो दिन पहले तक वे एकदम ही स्वस्थ थे किन्तु अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी और उन्हें बेहतर इलाज के लिए रांची के मेदांता में भर्ती कराया गया, जहां डाॅक्टरों के अथक प्रयास के बाद भी उन्हें नहीं बचाया जा सका। उनके निधन पर डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र के विधायक आलोक चैरसिया और उनके बहुत करीबी माने जाने वाले और उनसे राजनीति का पाठ सीखने का दावा करने वाले भाजपा नेता अविनाश वर्मा ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए उनकी मृत्यु को असामयिक मृत्यु बतलाते हुए अपूर्णीय क्षति बताया है। विधायक श्री चैरसिया ने कहा कि राजनीति के क्षेत्र में उनके पास बेहतर अनुभव थे और हमलोग भी उनके अनुभव का लाभ उठाया है। ऐसे में एकाएक उनका जाना हमलोगों के लिए भारी कमी है। अविनाश वर्मा ने कहा कि उनकी कमी राजनीति ही नहीं बल्कि समाजसेवा के क्षेत्र में भी हमेशा खलती रहेगी। पांकी के विधायक बिट्टू सिंह ने भी श्रीपति सिंह के मृत्यु पर गहरी संवेदना व्यक्त की है और कहा है कि अब हमलोग के बीच एक राजनीतिक धुरंधर का अंत हो गया है, जिसकी भरपाई कदापि संभव नहीं है। देश के पूर्व गृह राज्य मंत्री  सुबोधकांत सहाय ने भी कहा कि श्री सिंह हमारे बचपन के मित्र थे। जेपी आंदोलन की कड़ी में हमदोनों साथ-साथ थे। उनके अचानक मृत्यु की खबर सुनकर मैं स्तब्ध हूँ। 

ज्ञातव्य हो कि बेलवाटिका में रहने वाले दिवंगत नेता श्रीपति सिंह जेपी आंदोलन के उपज थे। उनके इस आंदोलन में उनके साथ शरद यादव, लालू प्रसाद, सुबोधकांत सहाय और नीतीश कुमार समेत कई दिग्गज नेता रहे हैं। श्रीपति सिंह चुनाव लड़ने से लेकर लड़ाने तक का काम किया है।  जनमुद्दों पर आंदोलन उनके जीवन का हिस्सा रहा है। वे कभी भी बेवाक बोलने से चुकते नहीं थे। उन्होंने नेतागिरि से लेकर व्यवसाय तक किया। वे सदभावना से सदैव प्रेरित देखे गए। श्रीपति सिंह मां वैष्णव देवी के भक्त भी थे। यही वजह है कि पिछले चुनाव में चुनाव लड़ने से पूर्व उन्होंने डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र के सभी घरों में मां वैष्णव देवी के फ्रेमिंग प्रतिमा का वितरण किया था, जो आज भी उस तस्वीर को देखकर लोग श्रीपति सिंह को याद करना नहीं भूलते है। जहां एक ओर श्रीपति सिंह के दिल में हिन्दु धर्म के प्रति आस्था थी वहीं दूसरी ओर उनके दिल पर मुस्लिम धर्म भी राज करता था। विधानसभा चुनाव लड़ने से पूर्व उन्होंने मुस्लिम घरों में भी मक्का-मदीना की तस्वीर बंटवायी थी। इससे पूर्व डालटनगंज विधानसभा के चुनाव में उन्होंने समता पार्टी के बैनर तले चुनाव भी लड़ा था, हालांकि वे चुनाव जीत नहीं सके थे, परंतु यह सत्य है कि वे सभी समुदायों में लोकप्रिय थे। इसके अलावे वर्तमान में वे चल रहे चर्चित विवाद कठौतिया माईंस के नायक के रूप में भी अग्रणी भूमिका निभा रहे थे। उन्होंने हमेशा प्रशासन की गलतियों को जनता जनार्दन के सामने पर्दाफाश करने का काम किया। उनके नेतृत्व में निकाले गए कई जुलूस आज भी यादगार हैं, जब प्रशासन को उनकी मांगों को मानने के लिए विवश होना पड़ता था। यह सच है कि श्रीपति सिंह के निधन से आज लोग मर्माहत हैं। उनकी कमी  वाकई पाटी नहीं जा सकती है। श्रीपति सिंह अपने पीछे पत्नी समेत दो पुत्र और एक पुत्री छोड़ गए हैं। पुत्री विदेश में बिजनेस मैनेजमेंट करके नौकरी कर रही है, जबकि एक पुत्र इंजीनियर है तो दूसरा पुत्र चार्टड एकाउंटेंट है। उनकी पत्नी संजू सिंह खुद भी एक समाजसेविका की भूमिका में लोक कल्याणकारी काम करने में दिलचस्पी दिखाती रही हैं। समाचार लिखे जाने तक सूचना है कि दिवंगत श्रीपति सिंह का पार्थव शरीर उनके बेलवाटिका स्थित आवास पर पहुंच चुका है, जिसे देखने के लिए भारी भरकम भीड़ जुट रही है। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार श्रीपति सिंह का अंतिम संस्कार परसो यानि गुरुवार को सुबह किया जायेगा। चूंकि उनकी पुत्री विदेश से कल शाम तक यहां पहुंचेगी।

जदयू की बैठक में बनी चुनाव की रणनीति

दिसम्बर में होगा प्रमंडलीय सम्मेलन, सीएम नितीश होंगे शामिल

मेदिनीनगर: जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के जिला कार्यकारिणी की बैठक जिलाध्यक्ष डाॅ. राजनारायण सिंह पटेल के अध्यक्षता में हुई। बैठक में आसन्न लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव में सभी सीटों पर मजबूती से पार्टी की उपस्थिति दर्ज कराने की रणनीतियों पर विचार किया गया। निर्णय लिया गया कि दिसम्बर माह में पार्टी के कार्यकर्ताओं का प्रमंडलस्तरीय सम्मेलन डालटनगंज में आयोजित किया जाएगा। इस सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहेंगे। बैठक में पार्टी के छतरपुर प्रखंड अध्यक्ष रामप्रवेश यादव एवं नवडीहाबाजार प्रखंड अध्यक्ष किशोर विश्वकर्मा को पार्टी के प्रति उनकी निष्क्रियता को देखते हुए दोनों को तत्काल प्रभाव से पद से मुक्त कर दिया गया। इस दौरान पलामू के समाजसेवी श्रीपति सिंह के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर शोक व्यक्त किया गया। बैठक में पार्टी के पलामू जिला प्रभारी कृष्णानन्द मिश्रा, प्रमंडलीय प्रभारी बैजनाथ राम गोपी, प्रदेश पदाधिकारी ललन सिन्हा, सुशील कुमार मंगलम, अजय सिंह, संतोष सिंह, अरविंद सिंह, संजीव कुमार, यशवंत, मुस्ताक अहमद एवं रहमतुल्ला अंसारी आदि उपस्थित थे। 

स्वच्छता मिशन के प्रमंडलीय प्रभारी पहुंचे नौडीहा गांव

ग्रामीणों ने भाजपा नेता को सुनाई बिजली की समस्या

मेदिनीनगर: स्वच्छता मिशन के पलामू प्रमंडल प्रभारी सह भाजपा नेता डाॅ. अमित प्रसाद उपाध्याय को पांकी विधानसभा क्षेत्र के लेस्लीगंज प्रखंड के नौडीहा गांव में ग्रामीणों द्वारा बुलाकर उन्हें ट्रांसफार्मर खराब होने से बिजली आपूर्ति बंद रहने की समस्या सुनाई। ग्रामीणों ने डाॅ. उपाध्याय को बताया कि नौडीहा गांव किसानों का गांव है। यहां के अधिकांश लोग कृषि पर निर्भर है। पिछले लगभग दो महीनों से ट्रांसफार्मर खराब रहने के कारण बिजली आपूर्ति बंद है। जिस कारण किसानों को कृषि कार्य में परेशानी हो रही है। बताया गया कि 15-20 उपभोक्ताओं के लिए 25 केवी का ट्रांसफार्मर लगाया गया था। ग्रामीणों की समस्या सुनने के बाद डाॅ. उपाध्याय ने तत्काल विद्युत अभियंता से बात कर ट्रांसफार्मर लगवाने का अनुरोध किया। हालांकि विद्युत अभियंता द्वारा बताया गया कि फिलहाल विभाग के पास 25 केवी का ट्रांसफार्मर उपलब्ध नहीं है। कहा गया कि अगर उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ती है तो एक सप्ताह में 25 की जगह 63 केवी का ट्रांसफार्मर लगा दिया जाएगा। इस दौरान डाॅ. उपाध्याय ने ग्रामीणों को स्वच्छता अभियान एवं आयुष्मान भारत जैसी केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं की जानकारी दी। मौके पर रविंद्र मेहता, विनोद मेहता, नरेंद्र कुमार, श्रवण मेहता, संजय राम एवं अजय पासवान आदि उपस्थित थे।