नक्सलियों की साजिश नाकाम, नौ बम बरामद, पलामू की अन्य महत्वपूर्ण खबरें एक क्लिक में देखें।

                                                                         नक्सलियों की साजिश नाकाम, नौ बम बरामद 

डालटनगंज, 6 नवम्बर : नक्सलियों की गिरफ्तारी और उनके हथियार व गोला बारूद बरामद करने की दिशा में की जा रही कार्रवाई के दौरान एक बार फिर पलामू पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। जिला पुलिस, सीआरपीएफ व जगुआर की संयुक्त टीम ने चतरा पुलिस के सहयोग से चतरा जिला अंतर्गत प्रतापपुर थाना क्षेत्र के पहाड़ी क्षेत्र रहरिया में सर्च आॅपरेशन चलाकर शंकु आकार के (लोहे के) 9 बमों को बरामद किया है।

पलामू के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि जिले के सीमावर्ती इलाके प्रतापपुर थाना क्षेत्र में रहरिया के पहाड़ीनुमा (पगडंडी) रास्ते में माओवादियों ने बम छुपा रखा है। रहरिया मनातू-चक से महज पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।  सूचना को सत्यापन करने के बाद कार्रवाई के लिए पलामू से एएसपी अभियान अरूण कुमार सिंह और चतरा जिले से वहां के एएसपी अभियान निगम प्रसाद के नेतृत्व में सीआरपीएफ 134 बटालियन के अलावा जगुआर के बम निरोधक दस्ते को शामिल किया गया। घटनास्थल चतरा जिला अंतर्गत होने के कारण वहां की क्षेत्रीय थाना पुलिस को टीम में शामिल किया गया। 

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि टीम जब वहां पहुंची तो लोहे के शंकु आकार में बनाकर पहाड़ी की दीवार पर लगाए गए बम एक-एक करके नौ बम बरामद किए गए। बमों के साथ तार भी मिला। सुरक्षा मानकों का ध्यान रखते हुए बीडीएस की सहायता से सारे बमों को निकाला गया और फिर विस्फोट कर घटनास्थल पर ही निष्क्रिय किया गया। घटनास्थल से सेंपल इक्ट्ठा किया गया। उसे जांच के लिए रांची लैब मंे भेजा जायेगा।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बरामद बमों से भार वाले क्षेत्र (पहाड़ी या पगडंडी) को नुकसान पहुंचता है। पहाड़ीनुमा इलाके में इसी तरह के बमों को प्लांट किया जाता है। लंबे समय पहले नक्सलियों द्वारा इस तरह के बमों का विस्फोट चुनाव के समय किया गया था, इससे भारी नुकसान पहुंचता है, लेकिन हाल के दिनों में ऐसे बमों का इस्तेमाल नक्सली नहीं कर पा रहे हैं। कमर के आस-पास हाइट पर सारे बम प्लांट किए गए थे, ताकि पुलिस को भारी नुकसान पहुंचाया जा सके।

                                                  कर्नाटक के पांच जिलों में पर्यावरण विद् ने शुरू किया पर्यावरण संरक्षण अभियान

                                                           प्रदूषण रूपी शत्रु से लड़ने के लिए लोग बने प्रकृति प्रेमी: कौशल 

डालटनगंज, 6 नवम्बर : विश्वव्यापी पर्यावरण संरक्षण अभियान के केन्द्रीय अध्यक्ष सह पर्यावरण धर्म व वनराखी मूवमेंट के प्रणेता कौशल किशोर जायसवाल ने कर्नाटक के पांच जिलों में जाकर न सिर्फ वहां के लोगों को पर्यावरण की विभिषिका से अवगत कराते हुए जागरूक किया, बल्कि देश, समाज और प्रकृति से वास्ता रखने वाले प्रेमियों से इसे बचाने के लिए मुहिम में शामिल होने का आह्वान किया।

पर्यावरण विद श्री जायसवाल ने बंगलोर के मैसूर वन क्षेत्र और एसजेपी हाई स्कूल व काॅलेज, उतरी उटसू मारंग फली में आयोजित कार्यक्रम में पौधा वितरण सह रोपन कार्यक्रम का उद्घाटन चंदन का पौधा लगाकर किया। उन्होंने पर्यावरण धर्म के आठ मूल मंत्रों की शपथ दिलाते हुए कहा कि लोग पर्यावरण के प्रेमी एवं प्रदूषण के शत्रु बनकर तीसरा विश्व युद्ध जल संकट और आने वाले पीढ़ी के लिए आक्सीजन संकट को टाल सकते हैं। 

श्री कौशल ने कहा कि किसी भी प्रकार की आवाज कई प्रकार के प्रदूषण को जन्म देती है। दिवाली में लोग दीप जलाकर लक्ष्मी को बुलाये। पटाखा जलाकर प्रदूषण नामक शत्रु को नहीं, क्योंकि आधुनिक सुख सुविधा के कारण धरती पर 84 लाख जोनियो पर खतरा उत्पन्न हो रहा है। इसे बचाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को पर्यावरण धर्म अपनाना होगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता सुप्रियर सुब्रनामा ने की जबकि संचालन चलुआ राज ने किया। मौके पर एम. नारायणन, एम. नरमी, मयुप्रिंस, दानेसर देवगोड़ा, ईश्वर पुटी स्वामी, राजकुमार समेत स्कूली बच्चे उपस्थित थे। 

                                                                      दूसरों को खुशी देकर खुश रहे, इसी में पर्व की महता: अविनाश 

चैनपुर, 6 नवम्बर : दायित्व ट्रस्ट द्वारा संचालित एसवीडी पब्लिक स्कूल में दीपावली के अवसर पर सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं सहकर्मियों के बीच उपहार स्वरूप मिट्टी की कड़ाही, दीये एवं मिठाई बांटे गए। 

इस मौके पर विद्यालय के निदेशक अविनाश वर्मा ने सबांे को दीपावली की बधाई देते हुए बच्चों को बम-पटाखों से परहेज करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि प्रशासन का आग्रह है कि रात आठ बजे से 10 बजे तक ही आतिशबाजी करें को हर हाल में माने। उन्होंने कहा कि दीपावली खुशियों का त्योहार है। दूसरों को खुशी देकर खुश रहे, इसी में पर्व की महत्ता है। 

श्री वर्मा ने कहा कि विद्यालय से मिले उपहार इस बात के प्रतीक हैं कि हम मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करें, ताकि समाज के अंतिम पायदान पर खड़े होकर मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कलाकारों की आर्थिक स्थिति ठीक हो सके। वे सशक्त होकर समाज की मुख्यधारा में जुड़े रहे। मौके पर शिक्षक-शिक्षिकाओं के अलावा छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।   

                                                    डालटनगबंज: नशे में धूत छोटे भाई ने बड़े भाई और भाभी पर चलायी गोली

डालटनगंज, 6 नवम्बर: भाई और भाभी के लिए आज लोग दीपावली पर खरीददारी कर उन्हें खुशियां देने की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन एक कलयुगी भाई अपने बड़े भाई और भाभी के जान का दुश्मन बन बैठा है। शहर थाना क्षेत्र के आबादगंज से रिश्तों को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आयी है। यहां छोटे भाई ने शराब के नशे में गत पांच नवम्बर की दोपहर में अपने बड़े भाई गगन सिंह और उसकी पत्नी पर रायफल से गोली चला दी। हालांकि गोली किसी को नहीं लगी। दंपति इस घटना में बाल-बाल बच गए। इस संबंध में गगन सिंह के पिता नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने शहर थाना में अपने छोटे बेटे अमन सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है। 

शहर थाना प्रभारी आनन्द कुमार मिश्रा ने बताया कि नागेन्द्र प्रसाद ने मंगलवार को जानकारी दी कि पांच नवम्बर की दोपहर 2 से 2.30 बजे के बीच अमन सिंह शराब के नशे में धुत था। रायफल लेकर जान मारने की नियत से उसके बड़े बेटे और पतोहू पर गोली चला दी। दोनों इस घटना में बाल-बाल बच गए। बड़े बेटे और पतोहू कई वर्षों से उनके मकान के उपरी तल्ले पर रह रहे हैं। अमन सिंह हमेशा घर में आतंक पैदा कर पूरे परिवार को दहशत में रखता है। परिवार पर हमेशा जान का खतरा बना रहता है।  

थाना प्रभारी ने कहा कि मामले में आम्र्स एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी है। मामले में कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। आरोपी फरार बताया जाता है।