हुसैनाबाद पुलिस को मिली बड़ी सफलता ,पुलीस अधीक्षक के निर्देश पर की गई कार्रवाई

     हुसैनाबाद पुलिस को मिली बड़ी सफलता ,पुलीस अधीक्षक के निर्देश पर की गई कार्रवाई



     कंस्ट्रक्शन  कंपनी समेत  अन्य से लेवी मांगने वाले जेजेएमपी के चार अपराधियों को पुलिस ने दबोचा, हथियार गोली भी बरामद


     पलामूः जेजेएमपी के चार अपराधियों को हुसैनाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उनके पास से हथियार, कारतूस लेवी मांगने के लिए इस्तेमाल किये जा रहे मोबाईल फोन भी बरामद हुए हैं। पकड़े गये सभी अपराधी सोनभद्र यूपी के चोपन में नगर परिषल अध्यक्ष की हत्या के मुख्य आरोपी कश्मीर पासवान गिरोह के सदस्य हैं। एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि एक कंस्ट्रक्शन  कंपनी के मुंसी के आवेदन पर लेवी मांगने धमकी देने का मामला हुसैनाबाद थाना में 05 नवंबर 2018 को दर्ज किया गया था। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा को सूचना दी गई। उन्होंने दो टीम का गठन किया। एक टीम एसडीपीओ दूसरी टीम पुलिस निरीक्षक रास बिहारी लाल के नेतृत्व में बनाई गई। पुलिस अधीक्षक को गुप्त सूचना मिली की अपराधी लेवी लेने के लिए जपला-पथरा रोड में पिपरडीह अमरुद बागान के पास जमा है। पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर दोनो टीमों द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए दो ओर से घेराबंदी कप गई। तीन अपराधी मौके पर ही पकड़े गये। जबकि एक अपराधी मोटरसाइकल से भागने में सफल रहा। उसकी गिरफतारी उसके घर से की गई। एसडीपीओ ने बताया कि पकड़े गये अपराधियों का काम मोबाइल पर स्थल पर जाकर धमकी देकर दहशत फैलाना व लेवी वसूलना था। उन्होंने बताया कि यूपी के चोपन के नगर परिषद अध्यक्ष की हत्या मामले में कश्मीर पासवान जेल में हैं। उसी गिरोह के  मुकेश कुमार नरेश राम उर्फ नवीन, टन्डवा, औरंगाबाद, बिहार, प्रदीप राम बुढ़ी बांध,थाना नबीनगर, औरंगाबाद, बिहार उमेश कुमार रवि, देवरी कलां, थाना हुसैनाबाद,पलामू  को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि कश्मीर पासवान के गिरोह के अधिकांश सदस्य जेल में हैं। उनका काम धमकी देकर दहशत पैदा करना लेवी वसूल करना था। टीम के सदस्यों के खिलाफ बिहार के औरंगाबाद झारखंड के हुसैनाबाद ,पलामू पुलिस लगातार छापामारी सूचना संकल्न कर रही थी। एसडीपीओ ने बताया कि अभियान में पुलिस निरीक्षक सह हुसैनाबाद थाना प्रभारी रास बिहारी लाल,पु..नि. हरेंद्र सिंह, विजय कुजुर, ..नि. बीर बहादुर सिंह के अलावा सैट हुसैनाबाद थाना के सशस्त्र बल शामिल थे।