असद इकबाल ने आदर्ष विवाह रचाकर दिया संदेश , इकबाल की शादी क्षेत्र में चर्चा का है विषय

   असद इकबाल ने आदर्ष विवाह रचाकर दिया संदेश , इकबाल की शादी क्षेत्र में चर्चा का है विषय

पलामू जिला के हैदरनगर प्रखंड अंतर्गत सिघना गांव निवासी जमीनदार स्व- नफिसुद्दीन खां के पुत्र असद इकबाल का आदर्श विवाह क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है। असद इकबाल के चचा असलम खां ने बताया कि उनका भतिजा विदेश में जॉब करता है। उन्होंने बताया कि असद इकबाल ने आदर्श विवाह कर समाज को संदेश देना चाहता था। उसकी इस सोच की परिवार के सभी लोगों ने सराहना की। सभी लोग उसके अनुसार शादी के लिए राजी हुए। असद इकबाल ने बताया कि आज समाज में लड़कियों को कोख में मार दिया जा रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण दहेज को माना जाता है। उन्होंने कहा कि यही वजह है कि उन्होंने आदर्श विवाह रचाने का निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि असद की शादी जमशेदपुर के जाकीर नगर निवासी एकबाल अहसन की पुत्री के साथ संपन्न हुई। उन्होंने शादी के लिए एक ही शर्त रखा था। उनकी शादी पूरी तरह इस्लामी तरीके से होगी। तय तारीख पर घर के पांच लोगों के साथ असद बिलकुल सादे लिबास में जमशेदपुर गये। वहां खाना-नाश्ता के बाद निकाह पढ़ा गया। निकाह कर वह दुल्हन को लेकर अपने घर सिघना गये। उन्होंने जमशेदपुर के जाकीर नगर निवासी एकबाल अहसन की पुत्री लुबना अहसन से शादी रचाई है। शादी के बाद अपने हैदरनगर स्थित सिघना गांव में भव्य दावत वलीमा का आयोजन किया। उन्होंने कहा कि दोस्तों रिस्तेदारों को उन्होंने अपने घर दावत दी है। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया है कि वह समाज में दहेज जैसी कूरीती को मिटायें। इसके लिए हर एक युवा को आगे आने की जरुरत है। जमशेदपुर जाने वालों में उनके साथ चचा हारुन रसीद, असलम खान के अलावा अनिस आलम, नजम एकबाल, दानिश नफिस शामिल थे।