ईद मिलादुन्नबी पर जगह जगह निकला जुलूस ए मोहम्मदी . हुजूर की आमद मरहबा, सरकार की आमद मरहबा से जुंजा इलाका

                                        ईद मिलादुन्नबी पर जगह जगह निकला जुलूस  मोहम्मदी

                     हुजूर की आमद मरहबासरकार की आमद मरहबा से जुंजा इलाका

पलामूः

इस्लाम के आखिरी पैगंबर हजरत मोहम्मद की योम  पैदाईष को ईद मिलादुन्नबी के रुप में अकीदत  उल्लास के माहौल में मनाया गया। स्थानीय मदरसा मोहम्मदिया भाई बिगहाबंषी पुरइस्लामगंजषेखपुराखरगड़ाकेवालरामबांधदूबाचैकड़ीभीखा बिगहाहैदरनगर बाजार समेत प्रखंड के विभिन्न मदरसों से बच्चों ने जुलूस  मोहम्मदी काफी धूम धाम के साथ निकाला। जुलूस में हुजूर की आमद मरहबासरकार की आमद मरहबा आदि नारे लगाये गये। नारों से संपूर्ण इलावा जुंजायमान हो गया। भाई बिगहा के मदरसा मोहम्मदिया से निकाला गया जुलूस भाई बिगहापठान टोलीफारुक गंजकालोनी रोड़रेलवे गुमटीचैक बाजारमस्जिद मुहल्लाजवाहर पथ होते हुए भाई बिगहा इमामबारगाह पहुंचा। इमामबारगाह प्रांगण में जलसा का आयोजन किया गया। जल्सा में बच्चों  नात खानों ने नातिया कलाम पेष किया। इस मौके पर मौलाना अहमद अली खान ने आखिरी नबी मोहम्मद को दुनिया के लिए रहमद बताया। उन्होंने कहा कि मोहम्मद के मानने वाले लोग कभी किसी का बूरा नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि उन्होंने आपसी भाईचारा  अमन का पैगाम दिया है। उनके आदर्षों पर चलकर ही दुनिया में षांति कायम की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस्लाम इंसानियत  अमन का पैगाम देता है। जो लोग दहषतगर्दी में मुबतिला हैं। वह कभी इस्लाम के मानने वाले हो ही नहीं सकते। हाफिज खुर्षीद ने कहा कि कुरआन  मोहम्मद के बताया गया रास्ता ही सीधा रास्ता है। उन्होंने कहा कि इस्लाम मिल्लत  अमन का पैगाम देता है। मौके पर बड़ी मस्जिद के सदर अंसार खानसेक्रेट्ी षाहजादा खान के अलावा हाजी नईमुद्दीन,मौलाना गुलाम रसूलकल्लु खांइद्रीस खानजाफर हवारी,रसीद खानफरीद खांसज्जु खानराजु खानउसमान हजामइस्लाम हजामरजी अहमद खानडाअमीनुल हक अंसारीमतीन खानसेराज अहमद अंसारीसैयद सफदर हसन,हाफिज नुरुद्दीनरासीद खान के अलावा बड़ी संख्या में बच्चे,युवा  बुजूर्ग षामिल थे।