लाठीचार्ज के विरोध में पारा शिक्षकों ने निकाला विरोध रैली, छत्तरपुर में लगभग 400 पारा शिक्षकों ने दी गिरफ्तारी...

                          लाठीचार्ज के विरोध में पारा शिक्षकों ने निकाला विरोध रैली, छत्तरपुर में लगभग 400 पारा शिक्षकों ने दी गिरफ्तारी...

अरविंद अग्रवाल की रिपोर्ट:-

छत्तरपुर : ( पलामू )एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के तत्वावधान में गुरुवार को लगभग 400 सौ पारा शिक्षकों ने छत्तरपुर थाना में अपनी गिरफ्तारी दी।पारा शिक्षकों ने बीआरसी परिसर से जुलूस निकाल कर बाजार होते हुए छत्तरपुर थाना पहुंचकर थाना प्रभारी के समक्ष अपना गिरफ्तारी दिया। थाना परिसर में जेल भरो आंदोलन कार्यक्रम किया गया. कार्यक्रम के पूर्व सभी पारा शिक्षक बीआरसी परिसर में एकत्रित होकर बैठक किया उसके बाद मोर्चा के अध्यक्ष सुनील कुमार यादव,विनोद मिश्रा, नेतृत्व में जुलूस निकाली गई. जो बाजार होते हुए छत्तरपुर थाना पहुंची, जहां 400 पारा शिक्षकों ने गिरफ्तारी दी. पारा शिक्षकों ने सरकार विरोधी नारे भी लगाये. हालांकि प्रशासन द्वारा कुछ घंटे के बाद सभी पारा शिक्षकों को मुक्त कर दिया।

मौके पर पारा शिक्षक अध्यक्ष सुनील कुमार यादव, विनोद मिश्रा ने कहा कि जिस प्रकार हम लोगों पर रांची में डंडे बरसाए गये, उससे सरकार की मंशा साफ जाहिर होती है. सरकार तानाशाह रवैया अपना रही है. पारा शिक्षकों पर डंडा बरसाने का खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा. कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में इसका असर देखने को मिलेगा. कहा कि हमारी सारी मांगे जायज है फिर भी हम लोगों के साथ इस प्रकार का दुर्व्यवहार किया जा रहा है, वो सहीं नहीं है. कहा कि हम लाठी और डंडों से डरने वाले नहीं हैं.

बीईओ जय कुमार तिवारी ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र के सभी पारा शिक्षकों से स्पष्टीकरण पूछा है कि बिना सूचना के झारखंड स्थापना दिवस पर विद्यालय बंद क्यों रखा गया इस बाबत सभी पारा शिक्षकों से तीन दिनों के अंदर जवाब मांगा है.......

                                         ये थे शामिल

पारा शिक्षकों की गिरफ्तारी में छत्तरपुर थाना प्रभारी वासदेव मुंडा  सहित अन्य पुलिस प्रशासन ने ली. जिसमें सैकड़ों शिक्षक-शिक्षिकाओं ने भाग लिया. मौके पर अर्जुन कुमार मिश्रा,  नरेश राम,  जफरुद्दीन अंसारी,  सत्यदेव सिंह,  संकुल अध्यक्ष दिलेश्वर यादव, राम कृत विश्वकर्मा, सुरेश कुमार सिंह, दिलीप कुमार सिंह, अजय पाठक, द्वारिका सिंह , रामस्वरूप यादव, सुरेंद्र राम,  संजय राम,  रामजीत सिंह, निरंजन सिंह, जितेंद्र कुमार, राजेश मिश्रा, राकेश चंद्रवंशी, रघु रविदास, विनोद मिश्रा, समेत सैंकड़ों पारा शिक्षक शामिल थे।