छत्तरपुर क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे पांच क्रशर ध्वस्त किए गए। पलामू की अन्य खबरें भी देखें।

                                            छत्तरपुर क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे पांच क्रशर ध्वस्त किए गए

डालटनगंज, 29 नवम्बर: जिला स्तर पर गठित टास्क फोर्स द्वारा एक बार फिर छत्तरपुर अनुमंडल क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे क्रशरों को तोड़ने के लिए अभियान शुरू कर दिया गया है। गुरूवार को पहले दिन छत्तरपुर थाना क्षेत्र के सुदूरवर्ती मुरूमदाग और बचकोमा में आधा दर्जन क्रशरों पर कार्रवाई की गयी। इस दौरान पांच क्रशरों को अवैध पाकर उसे जेसीबी लगाकर ध्वस्त कर दिया गया। 

कार्रवाई में एक क्रशर छूटने पर उग्र हुए ग्रामीण, प्रशासनिक अधिकारियों को घेरा

मुरूमदाग में जिन पांच क्रशरों को तोड़ा गया, उनमें से एक क्रशर को तोड़े बिना टीम लौट रही थी। इसकी सूचना मिलने पर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और घरों से लाठी-डंडा लेकर प्रशासनिक अधिकारियों का घेराव कर दिया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्रशासनिक अधिकारियों कार्रवाई करने मंे भेदभाव कर रहे हैं। हालांकि बाद में अधिकारियों ने ग्रामीणों को आश्वस्त करते हुए बताया कि क्रशर को तोड़ने के लिए वे जेसीबी लेने गए थे। समझाने पर ग्रामीण शांत हुए। बाद में ग्रामीणों की उपस्थिति में क्रशर को तोड़ा गया।

जांच के बाद सभी स्तर के क्रशर होंगे बंद

अनुमंडलीय टास्क फोर्स के प्रभारी सह छत्तरपुर के अनुमंडल पदाधिकारी भोगेन्द्र ठाकुर ने बताया कि उनके क्षेत्र में संचालित सभी स्तर के क्रशरों की जांच की जायेगी। जो भी क्रशर नियम संगत चलते नजर नहीं आयेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि छोटे-बड़े सभी स्तर के क्रशरों कार्रवाई के दायरे में आयेंगे। उन्होंने कहा कि मंदेया में संचालित क्रशरों के कागजातों की जांच की गयी है। 

कार्रवाई में अनुमंडलीय टास्क फोर्स के प्रभारी के अलावा जिला खनन पदाधिकारी मनोज टोप्पो, खनन इंस्पेक्टर सुनील मेहता, सीआई जगत राम, हल्का कर्मचारी श्रीकांत दास शामिल थे।

                                                      पिछले साल भी तोड़े गए थे अवैध क्रशर  

ज्ञातव्य है कि छत्तरपुर अनुमंडल क्षेत्र में पिछले वर्ष भी दर्जनांे क्रशरों को तोड़ा गया था। लेकिन जंगल और सुदूरवर्ती इलाके का फायदा उठाकर पत्थर माफिया एक बार फिर से अपने अवैध धंधे को खड़ा कर लिया है। आपराधिक और नक्सल छवि वाले लोग इन क्रशरों को चलाते हैं। जंगलों से पत्थरों को तोड़कर क्रशरों तक लाया जाता है। एक अनुमान के अनुसार अनुमंडल क्षेत्र में दो दर्जन से अधिक अवैध क्रशरों का धंधा फलफूल रहा है।

डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती को मिले राष्ट्रीय दिवस का दर्जा: अनिवाश वर्मा

डालटनगंज 29 नवंबर (थर्ड आई): प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष और भाजपा नेता अविनाश वर्मा ने देश के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती को राष्ट्रीय दिवस का दर्जा देने की मांग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से की है। श्री वर्मा पिछले तीन वर्षों से इस मांग को उठाते रहे हैं। हालंाकि अब तक सरकार की तरफ से इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गयी है। 

वैसे श्री वर्मा की मांग अनुचित नहीं है। डा. राजेन्द्र प्रसाद हो या पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादूर शास्त्री-देश के प्रति इनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। हालंाकि यह बड़ी बिडम्वना है कि हम कुछ महापुरूषों की जयंती तो समारोहपूर्वक मनाते हैं लेकिन कुछ को भुला देते हैं। उदाहरण के तौर पर हर वर्ष दो अक्टूबर को हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को तो याद कर लेते हैं लेकिन शास्त्री जी गौण हो जाते हैं। 

श्री वर्मा ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी दलगत भावना से उपर उठकर महापुरूषांे को सम्मान देने का जो अभियान शुरू किया है, वह मिसाल है। गांधी जयंती पर स्वच्छता मिशन की शुरूआत और सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाना प्रेरणादायक है लेकिन इस कड़ी में प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती का भुलाया नहीं जा सकता। 

श्री वर्मा ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया है कि अगले महीने यानी तीन दिसम्बर को डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती को राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाने का आहवान किया जाये। साथ ही देश के चैक-चैराहों पर अवस्थित डा. राजेन्द्र प्रसाद की प्रतिभाओं की साफ-सफाई और उनकी देखरेख के लिए राज्य सरकारों को निर्देश किया जाये। 

                                              उजाला योजना: एक आधार कार्ड पर मिलेेंगे केवल दो एलइडी बल्ब!

डालटनगंज 29 नवंबर (थर्ड आई): केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी उजाला योजना के तहत पलामू जिले में एलइडी बल्ब वितरण के नियमों में बदलाव किया गया है। विक्रय प्रतिनिधि ने बताया कि अब एलइडी बल्ब खरीदने या बदलने के लिए आधार कार्ड लाना अनिवार्य है। उन्होंने यह भी बताया कि एक आधार कार्ड पर एक बार में केवल दो बल्ब ही दिये जायेंगे।

विक्रय प्रतिनिधि का कहना है कि अभी लोग एक साथ कई बल्ब खरीदने या बदलने के लिए आ जाते हैं। इस कारण सभी ग्राहकों को बल्ब की आपूर्ति करने में दिक्कत होतीं है। यही कारण है कि अब एक आधार कार्ड पर दो बल्ब देने का प्रावधान लागू किया गया है। विक्रय प्रतिनिधि का यह भी कहना है कि अब नये बल्ब की कंपनी अलग होगी और बदलकर दिये जाने वाले बल्ब अलग होंगे। 

                                                                            तुरंत खराब हो जाते हैं बल्ब

इधर, योजना के लाभुकों का कहना है कि सब्सिडी पर मिलने वाले बल्ब तुरंत खराब हो जाते हैं और बल्ब वितरण प्रक्रिया लगातार नहीं चलने के कारण उन्हंे एक साथ कई बल्ब बदलने के लिए जाना पड़ता है। तीन साल की गारंटी वाले एलईडी बल्ब के एक-दो महीने में ही खराब हो जाने की शिकायतें न केवल पलामू से बल्कि पूरे राज्य से मिल रही है। कई उपभोक्ताओं का कहना है कि सब्सिडी पर मिलने वाले बल्ब की क्वालिटी काफी घटिया है। ये बल्ब गारंटी अवधि में ही खराब हो रहे हैं और इन्हंे बदलने के लिए उन्हें काउंटरों के कई-कई बार चक्कर लगाने पड़ते हैं। 

                                                           पूनम संगा ने रामगढ़ जिप सदस्य के लिए भरा नामांकन

डालटनगंज 29 नवंबर : पंचायत उपनिर्वाचन चुनाव के तहत जिले के रामगढ़ प्रखंड में जिप सदस्य के चुनाव के लिए पूनम संगा ने आज निर्वाची पदाधिकारी सह अपर समाहर्ता प्रदीप कुमार के समक्ष नामांकन दाखिल किया। मालूम हो कि जिप सदस्य वाल्टन डोडराय की बाईक दुर्घटना में हुई मौत के बाद यह सीट रिक्त पड़ा हुआ था। जिसे लेकर आज से नामांकन की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। 

नामांकन के पहले दिन वाल्टन डोडराय की पत्नी पूनम संगा ने नामांकन दाखिल किया। नामांकन दाखिल के बाद पूनम ने कहा कि यदि वह रामगढ़ जिप सदस्य के चुनाव में विजयी होतीं हैं तो अपने पति के अधूरे सपने को पूरा कराने का काम करेंगीं। उन्होंने कहा कि उनके पति को यहां मतदाताओं ने विजयी बनाया था, लेकिन वे उनके सपने को पूरा नहीं कर पाये, इसी बीच उनकी मृत्यु हो गयी। 

उपचुनाव में मतदाताओं ने उन्हंे भरपुर समर्थन और विजयी बनाने का वादा किया है। इस मौके पर जिप सदस्य प्रमोद सिंह, विकास चैरसिया उर्फ संतु चैरसिया, बसंत जौहरी सहित कई लोग उपस्थित थे।