रसोई गैस के बढ़ते हुए दामों के खिलाफ CPIM का लातेहार चंदवा मे धरना - प्रदर्शन 3 को

                                              लातेहार : उज्जवला योजना महिलाओं के लिए महंगाई डायन

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) (माकपा) रशोई गैस सिलेंडर मे बढ़ते हुए दामो के खिलाफ अगामी 3 दिसंबर 2018 को पेंशनर भवन परिसर पर धरना प्रदर्शन करेगी, इस आशय की जानकारी पार्टी के वरिष्ठ नेता अयुब खान ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर दी है, 

कहा है कि केंद्र के भाजपा नेतृत्व वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का उज्ज्वला योजना महिलाओं के लिए महंगाई डायन साबित हो रही है, इसकी महंगी कीमत ने महिलाओं को खाए जा रही हैं, 

क्योंकि महंगी गैस होने के वजह से गरीब एल0पी0जी0 इस्तेमाल कम कर रहे हैं , महिलाओं को पहला सिलेंडर खत्म हो जाने के बाद परिवारों को सब्सिडी वाली कीमत पर दुसरा भरा सिलेंडर लेना पड़ा, गरीब बीपीएल व समान्य परिवारों के लिए 1000 रूपये प्रति रशोई गैस सिलेंडर की वर्तमान कीमत बहुत महंगी है, दाम आसमान छु रहे हैं, इसने एक अजीब सी स्थिति पैदा कर दी है, परिवार गोबर के उपले, लकड़ी इत्यादि जैसे पारंपरिक खाना पकाने के ईंधन पर वापस जा रहे हैं ,

सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर (14.2 किलोग्राम) की कीमत में भारी वृद्धि हुई है, यह बढ़ोतरी सबसे गरीब लोगों को इसकी पहुंच से बाहर कर रही है, इस बीच गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी उपभोक्ताओं की स्थिति जो भारतीय उपभोक्ताओं का बड़ा हिस्सा है, उनके लिए एलपीजी की कीमतें नाटकीय रूप से बढ़ाए जा रहे हैं, इसकी कीमतों में लगभग 80 प्रतिशत का उछाल है, रसोई गैस महंगी होने से घर के बजट पर सीधे तौर से असर पड़ रहा है, यह बढ़ोतरी करोड़ों लोगों के पारिवारिक बजट को भी प्रभावित कर रही है, पानी पी पीकर गरीब व महिलाओं का बखान करने वाले मोदी सरकार को इसकी तनिक भी चिंता नहीं है, इससे एलपीजी उपभोग्ताओं मे काफी गुस्सा और आक्रोश है, आसमान छु रही रशोई गैस की कीमतों को लेकर आयोजित धरना की सफलता के लिए पार्टी जनजन तक जाएगी!