पारा शिक्षिका की मौत के बाद सोशल मीडिया में लोगो ने सरकार ने रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकने की ली सौगंध :

कई महीनो से वेतन ना मिलने से परेशान पारा शिक्षिका की मौत, पूरे सम्मान के साथ रामगढ़ में किया गया सुपुर्द-ए-खाक, पारा शिक्षिका की मौत के बाद सोशल मीडिया में लोगो ने सरकार ने रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकने की ली सौगंध :

पारा शिक्षकों के आंदोलन के दौरान आज एक दुखद घटना घटी. रामगढ़ गोला की महिला शिक्षिका जीनत खातून की धरने के दौरान ही आकस्मिक मौत हो गयी. महिला शिक्षिका को पिछले कई महीनो से वेतन नहीं मिला था जिससे शिक्षिका परेशान रहने लगी थी. महिला शिक्षिका आज पेयजल मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के आवास के पास छठे दिन धरने पर बैठी थी तभी अचानक दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गयी. साथी शिक्षिका के आकस्मिक निधन से शिक्षक जगत में शोक है. पारा शिक्षिका की मौत के बाद सोशल मीडिया में भी लोगो ने सरकार को उखाड़ फेंकने की सौगंध ली. उधर महिला पारा शिक्षिका को रामगढ़ में आज  पूरे सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक किया गया. शिक्षिका साथी को अंतिम विदाई देने के लिए रामगढ़ के पारा शिक्षक और समाजसेवी संगठन बड़ी संख्या में एकत्रित हुए.

          साँसों ने अचानक छोड़ दिया साथ :

महिला पारा शिक्षिका जीनत खातून को आज अचानक दिल का दौरा पड़ा. जबतक आसपास मौजूद पारा शिक्षक कुछ कर पाते महिला शिक्षिका तड़पने लगी. आनन् फानन में जीनत को अस्पताल रेफेर किया गया. जहाँ डॉक्टरों के लाख कोशिशों के बावजूद जीनत को बचाया ना जा सका. आंदोलन के अहम मोड़ में जीनत के साँसों ने उसका साथ छोड़ दिया. 

       शिक्षिका को उचित सम्मान दे सरकार :

महिला पारा शिक्षिका के निधन से शिक्षक जगत में शोक की लहर है. पारा शिक्षकों ने मांग की है की सरकार महिला शिक्षिका को उचित सम्मान दे. शिक्षकों ने जीनत के परिजनों को पांच लाख रुपये मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की मांग की है.