कांति गांव से लोहबंदा गांव तक 7 किलोमीटर की दूरी सड़क नहीं रहने के कारण यहां के ग्रामीणों को काफ़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है

उपायुक्त पलामू डॉक्टर शांतनु कुमार अग्रहरि के नेतृत्व में आज जिले के घोर नक्सल प्रभावित पांडू प्रखंड के कांति गांव से लोहा बंदा तक सड़क जोड़ने एवं पांडू प्रखंड मुख्यालय से ग्रामीणों का सीधा संपर्क स्थापित करने की संभावनाओं की तलाश के लिए आज क्षेत्र का दौरा किया गया जिला प्रशासन के इस दौरा से ग्रामीण क्षेत्र के ग्रामीणों में प्रखंड मुख्यालय से सड़क मार्ग द्वारा सीधा जुड़ने की संभावना बलवती हो गई है

कांति गांव से लोहा बंदा गांव तक 7 किलोमीटर की दूरी सड़क नहीं रहने के कारण यहां के ग्रामीणों को काफ़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है साथ ही नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के कारण संपर्क पथ क्या भाव में आमजन को कभी कभी काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है ग्रामीणों की कठिनाई को देखते हुए जिला प्रशासन कांति गांव को लोहा बंधन से सीधा जोड़ने के साथ ही प्रखंड मुख्यालय तक आम ग्रामीणों को सुविधा प्रदान करने के लिए इस महत्वाकांक्षी संपर्क पथ को बनाने के लिए प्रयत्नशील है

इसी उद्देश्य उपायुक्त पलामू डॉक्टर शांतनु कुमार अग्रहरि ने आज नीति आयोग के एडीएफ रोमिल रवि ग्रामीण अभियंत्रण संगठन के सहायक अभियंता विरेंद्र कुमार तथा कनीय अभियंता की टीम के साथ प्रखंड के एवं गांव के ग्रामीणों की मांग एवं आवश्यकता को देखते हुए कांति गांव से लोहा बंदा गांव तक 7 किलोमीटर क्षेत्र को आपस में जोड़ने एवं ग्रामीणों का सीधा संबंध प्रखंड मुख्यालय से स्थापित करने के उद्देश्य से कांति एवं लोहा बंदा क्षेत्र का भ्रमण कर सड़क संपर्क स्थापित करने के लिए संभावनाओं की तलाश की

उपायुक्त ने बताया कि ग्रामीण अभियंत्रण संगठन के कार्यपालक अभियंता को इसके लिए 3 दिनों के अंदर तकनीकी स्वीकृति का प्रस्ताव उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया है जिससे उपायुक्त पलामू द्वारा प्रशासनिक स्वीकृति देकर ग्रामीणों की आवश्यकता एवं गांव को आपस में जुड़ने के लिए इस महत्व कांची योजना की दिशा में सकारात्मक प्रयास किया जा सके

उपायुक्त के क्षेत्र भ्रमण एवं स्थल निरीक्षण के दौरान स्थानीय मुखिया तथा क्षेत्रीय जिला परिषद सदस्य भी उपस्थित यह जानकारी जिला जनसंपर्क पदाधिकारी देवेंद्र नाथ भादुड़ी ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी है